Home » उज्ज्वल भविष्य के लिए युवाओं के पास क्या-क्या होना चाहिए, प्रधानमंत्री मोदी ने अमेरिका में बताया

उज्ज्वल भविष्य के लिए युवाओं के पास क्या-क्या होना चाहिए, प्रधानमंत्री मोदी ने अमेरिका में बताया

  • शिक्षा एक ऐसा मुद्दा है जो जितना मेरे दिल के करीब है उतना ही आपके भी है-जिल बाइडन
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 21 से 24 जून को अमेरिका की राजकीय यात्रा पर हैं
  • बाइडन दंपति साउथ लॉन में आज पीएम मोदी के राजकीय रात्रिभोज की मेजबानी करेंगे
    वॉशिंगटन.
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिक्षा तथा कार्यबल पर भारत और अमेरिका की साझा प्राथमिकताओं को रेखांकित करने वाले एक कार्यक्रम में कहा कि विकास की गति को बनाए रखने के वास्ते दोनों देशों को प्रतिभा की ‘पाइपलाइन’ की जरूरत है. मोदी ने बुधवार को नेशनल साइंस फाउंडेशन द्वारा आयोजित ‘स्किलिंग फॉर फ्यूचर इवेंट’ में हिस्सा लिया, जहां उनकी मेजबानी प्रथम महिला जिल बाइडन ने की. प्रधानमंत्री ने शिक्षा, अनुसंधान तथा उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए भारत द्वारा की गई पहलों पर प्रकाश डाला. पीएम मोदी ने कहा क‍ि यहां युवा तथा रचनात्मक सोच की समझ वाले लोगों के साथ बातचीत करने का मौका पाकर, मैं वास्तव में खुश हूं. भारत एनएसएफ के साथ मिलकर कई परियोजनाओं पर काम कर रहा है. मैं इस कार्यक्रम के आयोजन के लिए प्रथम महिला जिल बाइडन का शुक्रिया अदा करता हूं. प्रधानमंत्री ने अपनी सरकार के कौशल मिशन के बारे में कहा कि युवाओं के उज्ज्वल भविष्य के लिए शिक्षा, कौशल तथा नवाचार का होना जरूरी है और भारत ने इस दिशा में काम किया है. मोदी ने कार्यक्रम में मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) शिक्षा और कौशल को साथ लेकर आई है. कौशल मिशन के तहत 5 करोड़ से अधिक लोगों को प्रशिक्षित किया गया और अन्य 1.5 करोड़ लोगों को कृत्रिम बुद्धिमत्ता तथा ‘ब्लॉकचेन’ जैसी नवीनतम तथा उभरती प्रौद्योगिकियों पर प्रशिक्षण दिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि विकास की गति को बनाए रखने के लिए ‘भारत और अमेरिका को प्रतिभा की ‘पाइपलाइन’ सुनिश्चित करना जरूरी है’ और उनका लक्ष्य इस दशक को ‘तकनीकी दशक’ के रूप में मनाना है. ‘पाइपलाइन’ से तात्पर्य प्रतिभा को निखारने वाले कार्यक्रम तैयार करने और उन्हें क्रियान्वित करने से है. प्रधानमंत्री ने कहा कि अमेरिका के पास दुनिया के शीर्ष शैक्षणिक संस्थान तथा उन्नत प्रौद्योगिकियां हैं, जबकि भारत में दुनिया के सबसे अधिक युवा हैं और उनका मानना है कि भारत-अमेरिका साझेदारी टिकाऊ तथा समावेशी साबित होगी. कार्यक्रम के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया- ‘यह सम्मान की बात है कि प्रथम महिला जिल बाइडन ने कौशल विकास से संबंधित एक विशेष कार्यक्रम में हमारे साथ शिरकत की. कौशल विकास भारत के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता है और हम एक कुशल कार्यबल बनाने के लिए समर्पित हैं जो उद्यम तथा मूल्य सृजन को बढ़ावा दे सके.’ अमेरिका में प्रधानमंत्री का स्वागत करते हुए प्रथम महिला ने कहा क‍ि इस राजकीय यात्रा के साथ हम दुनिया के सबसे पुराने तथा दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्रों को एक साथ ला रहे हैं. हमारा रिश्ता सिर्फ सरकारों तक सीमित नहीं है. हम उन परिवारों तथा दोस्ती का जश्न मना रहे हैं जो दुनिया भर में बसे हैं, जो हमारे दोनों देशों के बीच संबंधों को महसूस करते हैं. उन्होंने कहा कि वर्षों तक संबंधों को मजबूत करने के बाद अमेरिका-भारत साझेदारी गहरी हुई है क्योंकि हम संयुक्त रूप से वैश्विक चुनौतियों से निपटते हैं. जिल बाइडन ने कहा क‍ि प्रधानमंत्री महोदय मैं जानती हूं कि शिक्षा एक ऐसा मुद्दा है जो जितना मेरे दिल के करीब है उतना ही आपके भी है. आप यह सुनिश्चित करने के लिए काम रहे हैं कि सभी भारतीय, खासकर लड़कियां जिनसे मैं प्यार करती हूं… वह शिक्षित हो पाएं और हमारे आधुनिक कार्यबल के लिए उन्हें आवश्यक कौशल हासिल करने का अवसर मिले. यह बहुत महत्वपूर्ण है. हमारे स्कूलों और व्यवसायों द्वारा यहां छात्रों के लिए बनाए जा रहे कुछ नवीन कार्यक्रमों को आपको दिखाकर बेहद खुशी हुई.

Swadesh Bhopal group of newspapers has its editions from Bhopal, Raipur, Bilaspur, Jabalpur and Sagar in madhya pradesh (India). Swadesh.in is news portal and web TV.

@2023 – All Right Reserved. Designed and Developed by Sortd