Home » बेटे ने कहा : माता-पिता के झगड़े में खुद को बंटा हुआ महसूस करता हूं, मनमुटाव भुलाकर दंपति हुए एक

बेटे ने कहा : माता-पिता के झगड़े में खुद को बंटा हुआ महसूस करता हूं, मनमुटाव भुलाकर दंपति हुए एक

सकारात्मक जिद परिवार को टूटने से बचा भी सकती है

भोपाल। कभी जिद परिवार तोडऩे का काम करती है, तो कभी सकारात्मक जिद परिवार को टूटने से बचा भी सकती है। ऐसा ही एक मामला भोपाल में सामने आया है, जहां एक दंपति के बीच विवाद खत्म करने में उनके आठ साल के बेटे की जिद अहम साबित हुई। जब न्यायालय में बेटे से पूछा गया कि वह किसके साथ रहेगा, तो उसने स्पष्ट कह दिया कि वह या तो दोनो के साथ रहेगा या फिर माता-पिता उसे किसी अनाथालय में छोड़ दें। बच्चे ने कहा कि वह माता-पिता के झगड़े में खुद को बंटा हुआ महसूस करता है।

बच्चे के इन शब्दों ने माता-पिता के साथ वहां मौजूद सभी लोगों को झकझोर कर रख दिया। मामले में दंपति की सुलह कराने में न्यायालय के कांउसलर्स की अहम भूमिका रही। काउंसलिंग में उन्हें समझाया गया कि बच्चे की खातिर उन्हें अपने अभिमान को छोड़ देना चाहिए। जिसके बाद माता-पिता अपने तलाक के हठ को छोड़कर और मनमुटाव भुलाकर बच्चे की खातिर साथ आ गए। अब दंपति साथ हैं और सारे केस वापस ले चुके हैं।

2011 प्रेम विवाह किया था

जानकारी के अनुसार, मामले में दंपति की शादी को करीब 12 साल हो चुके हैं। दंपति की पहचान कॉलेज की पढ़ाई के दौरान हुई थी। जिसके बाद दोनो ने 2011 में प्रेम विवाह कर लिया। इसके बाद दोनों ने एक साथ एक ही कंपनी में काम शुरू किया था। 2019 में पत्नी का प्रमोशन हुआ और वह उसी विभाग की बॉस बन गई, जहां पति काम करता था। मामले में पति ने ढाई साल पहले तलाक का केस फ ाइल किया था।

यहां से शुरू हुई कलह

मामले में पहले सबकुछ ठीक चल रहा था, लेकिन पत्नी के प्रमोशन के बाद कुछ गलतफहमियों के चलते दंपति के बीच कलह शुरू हो गई। जहां पत्नी ने कहा कि उसके प्रमोशन से पति खुश थे, लेकिन कुछ समय बाद छोटी-छोटी बातों पर कहासुनी होने लगी। खासकर लॉकडाउन में जब वर्क फ्र ॉम होम शुरू हुआ तो यह कहासुनी झगड़े में बदल गई।

पत्नी की शिकायत है कि घर में रहकर काम करते वक्त पति भूल जाता था कि वह पति की बॉस भी है। वह ऑनलाइन मीटिंग आदि में उस पर झल्ला उठता था। वहीं पति का कहना है कि बॉस बनते ही पत्नी ऑफिस के साथ ही घर में भी उसकी हर चीज में कमी निकालने लगी। यही वजह है कि वह भी गुस्सा हो जाता था।

The son said: I feel divided in the quarrel of the parents, forgetting the estrangement, the couple became one..

Swadesh Bhopal group of newspapers has its editions from Bhopal, Raipur, Bilaspur, Jabalpur and Sagar in madhya pradesh (India). Swadesh.in is news portal and web TV.

@2023 – All Right Reserved. Designed and Developed by Sortd