Home » हेमंत सोरेन के दिल्ली आवास पर ईडी का डेरा

हेमंत सोरेन के दिल्ली आवास पर ईडी का डेरा

ईडी टीम अब भी हेमंत सोरेन को तलाशने में जुटी हुई है।
बीजेपी ने दावा किया है कि सीएम सोरेन गिरफ्तारी के डर से फरार हैं।
नई दिल्ली। मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में पूछताछ के लिए ईडी टीम सोमवार को झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन के दिल्ली स्थित आवास पर पहुंची है। हालांकि, घंटों इंतजार के बाद भी यहां हेमंत सोरेन नजर नहीं आए। जानकारी के मुताबिक, ईडी यहां पर तलाशी अभियान चलाया है। सूत्रों ने दावा किया कि सोरेन लापता हैं और जांच एजेंसी उनसे संपर्क नहीं कर पाई है।

गाड़ी और दस्तावेज लेकर गई जांच एजेंसी

यहां पर जांच एजेंसी ने झारखंड सीएम के आवास से BMW कार (जो हरियाणा के नंबर पर रजिस्टर है) जब्त कर ली गई है और कुछ दस्तावेज भी जब्त किए गए हैं। अब भी जांच एजेंसी सोरेन के करीबी और ड्राइवर से पूछताछ कर रही है, लेकिन फिर भी अब तक कुछ पता नहीं लग सका है। वहीं, इस बीच बीजेपी ने दावा किया है कि सीएम सोरेन गिरफ्तारी के डर से फरार हैं।

हेमंत सोरेन भगोड़ा घोषित


भाजपा के लोकसभा सांसद निशिकांत दुबे ने सोशल मीडिया एक्स पर एक पोस्ट शेयर करते हुए कहा है कि हेमंत सोरेन या तो भाग गए हैं, या तो बीमार हैं और या फिर उनका अपहरण हो गया है। उन्होंने अपने सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा, “मैंने पहले ही कहा था कि झारखंड सरकार का महाधिवक्ता मेरे झारखंड के आन बान और शान वीर शिबू सोरेन जी के बेटे मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी को भगोड़ा घोषित कर देगा ।आज मेरी बात सही साबित होती दिख रही है। मीडिया के खबरों के अनुसार या तो हेमंत सोरेन जी भाग गए दिल्ली से या तो बीमार हो गए…।”
एक अन्य पोस्ट में उन्होंने कहा, “आज झारखंड के लोगों का मान सम्मान हमारे मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी ने लापता होकर मिट्टी में मिला दिया।” साथ ही, एक पोस्ट में चुटकी लेते हुए कहा कि झारखंड के राज्यपाल को मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को बुलाकर मुख्यमंत्री का स्वास्थ्य की जानकारी लेनी चाहिए।

लापता होने की खबर फैली

वहीं, झारखंड बीजेपी के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर लिखा, “ईडी अधिकारियों के डर से मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के लापता होने की सूचना न्यूज चैनलों के माध्यम से प्राप्त हो रही है। अगर इस खबर में सत्यता है तो, यह झारखंड के लिए संवैधानिक संकट की स्थिति है। महामहिम जी से निवेदन है कि वो मामले का संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री को तलब कर जांच एजेंसी से भागने का कारण पूछें। झारखंड की साख और प्रतिष्ठा दांव पर है।”

उन्होंने लिखा, “अपनी इन हरकतों से हेमंत ने हमारे आदिवासी समाज की प्रतिष्ठा और गौरव को मिट्टी में मिलाने का काम किया है। झारखंड के डीजीपी ये जवाब दें कि, मुख्यमंत्री हेमंत सुरक्षा प्रोटोकॉल तोड़कर रात को कैसे बाहर निकल कर भाग सकता है? सीएम की सुरक्षा में लगे कर्मियों को बर्खास्त करें और तत्काल मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी को सुरक्षित रूप से हाजिर करें। आखिर एक राज्य का मुख्यमंत्री भगोड़ा कहलाने का पाप कैसे कर सकता है? शर्मनाक!”

Swadesh Bhopal group of newspapers has its editions from Bhopal, Raipur, Bilaspur, Jabalpur and Sagar in madhya pradesh (India). Swadesh.in is news portal and web TV.

@2023 – All Right Reserved. Designed and Developed by Sortd