Home » शादी से पहले आखिर दुल्हन को क्यों लगाई जाती है मेहंदी, जानें क्या है इसके पीछे का रोचक कारण

शादी से पहले आखिर दुल्हन को क्यों लगाई जाती है मेहंदी, जानें क्या है इसके पीछे का रोचक कारण

भारतीय परंपराओं में शादी से पहले दुल्हन को मेहंदी लगाने की रस्म सबसे पुरानी रस्मों में से एक है। भारतीय संस्कृति में विवाह को विशेष दर्जा दिया जाता है। शादी एक सामाजिक परंपरा है, जिसमें दो लोग रीति-रिवाजों और परंपराओं के साथ विवाह करते है। मेहंदी विवाह की एक खास रस्म होती है, जिसमें दूल्हा और दुल्हन दोनो को मेहंदी लगाने का रिवाज है। यह रिवाज भारतीय संस्कृति में सदियों से चला आ रहा है और मेहंदी को दुल्हन के सोलह श्रृंगार का एक हिस्सा माना जाता है इस कारण शादी में मेहंदी की रस्म का महत्व और भी बढ़ जाता है।  

मेहंदी को बॉडी आर्ट का सबसे पुराना हिस्सा माना जाता है। मेहंदी शब्द की उत्पत्ति संस्कृत शब्द ‘मेंढिका’ से मानी जाती है। मेहंदी का इस्तेमाल वैदिक काल से ही होता आ रहा है ऐसा माना जाता है कि खूबसूरत राजकुमारी क्लियोपेट्रा ने अपने शरीर को रंगने के लिए मेंहदी का ही प्रयोग किया था। तभी से मेंहदी लगाना चलन में आया।

इस कारण से लगाई जाती है मेंहदी-

दूल्हा और दुल्हन को मेहंदी लगाने की रस्म शादी के कुछ दिनों पहले की जाती है। दुल्हन को शादी से पहले मेहंदी लगाना सौभाग्य की निशानी माना जाता है। मेहंदी की रस्म में दूल्हा-दुल्हन के साथ-साथ उनके परिवार के लोगों को भी मेहंदी लगाई जाती है। यह रस्म दूल्हा-दुल्हन और उनके परिवारों के बीच प्यार को बढ़ाता है और रिश्तों को मजवूत करता है। ऐसा माना जाता है कि दुल्हन के हाथों में मेहंदी जितनी देर तक अपना रंग बरकरार रखती है, उतना ही नवविवाहित जोड़े के लिए भाग्यशाली होती है।

मेहंदी लगाने के फायदे

 मेहंदी करती है घाव थीक-  मेहंदी प्रकृतिक पत्तों से बनी होती है जो किसी भी प्रकार के घाव को भरने में मदद करती है। शादी के फंक्शन के दौरान दूल्हा, दुल्हन या उनके परिवार के किसी भी सदस्य को चोट या खरोंचें लग जाती हैं तो मेहंदी उस घाव को ठीक करने में मदद करती है।

मेहंदी तनाव को कम करती है- शादी में मस्ती और काम–काज से दूल्हा-दुल्हन और उनका परिवार तनावग्रस्त हो जाता है, तो ऐसे में मेहंदी लगाने से शरीर तनाव और तनावग्रस्त नसों को शांत करने में मदद करती हैं।

नवविवाहित जोड़ों में बढता है प्यार- मेहंदी के पेस्ट में पानी के साथ-साथ लोंग और नीलगिरी के तेल जैसी अन्य सामाग्री भी मौजूद होती है जो मेहंदी को रंग तो देती ही है उसके साथ ही ये सेहत के लिए फायदेमंद भी मानी जाती है और इसमें औषधीय के गुण भी मौजूद होते हैं। दूल्हा, दुल्हन को लगाई जाने वाली मेहंदी का रंग और सुगंध कामोत्तेजक के रूप में काम करता है जो जोड़े के बीच प्यार को बढ़ाता है।

by Shalini Chourasiya

Swadesh Bhopal group of newspapers has its editions from Bhopal, Raipur, Bilaspur, Jabalpur and Sagar in madhya pradesh (India). Swadesh.in is news portal and web TV.

@2023 – All Right Reserved. Designed and Developed by Sortd