Home खास ख़बरें जब अपना मुख्यमंत्री हो तो किसानों को डर किस बात का: शिवराज

जब अपना मुख्यमंत्री हो तो किसानों को डर किस बात का: शिवराज

7
0
  • मुख्यमंत्री ने 47 लाख किसानों के खातों में जमा किए 1870 करोड़ रुपए

स्वदेश ब्यूरो, भोपाल

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किसानों का आश्वस्त करते हुए कहा कि जब अपनी सरकार, अपना मुख्यमंत्री हो तो फिर उन्हें किसी बात की चिंता करने की जरूरत नहीं है। हाल ही में आई आंधी, बारिश से फसलों क ो जो नुकसान हुआ है, उसका पूरा मुआवजा मिलेगा।

श्री चौहान ने यह बात मंगलवार को यहां मिंटो हाल में आयोजित एक समारोह में कही। इस दौरान उन्होंने प्रदेश के 30 लाख किसानों के खातों में राहत राशि की दूसरी किस्त के 1530 करोड़ रुपए व 17 लाख किसानों के खातों में मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना के 340 करोड़ रुपए अंतरित किए। श्री चौहान ने मुख्यमंत्री ग्रामीण स्ट्रीट वेंडर्स योजना के 60 हजार ग्रामीण पथ विके्रे ता हितग्राहियों के खातों में 10-10 हजार ऋण के रूप में 60 करोड़ की राशि भी जमा की। वहीं आदिम जाति कल्याण विभाग द्वारा बड़वानी,अलीराजपुर,शिवपुरी,बैतूल और होशंगाबाद में तैयार 8 कन्या शिक्षा भवन व स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा 105 करोड़ की लागत से तैयार शाला भवनों का लोकार्पण भी किया।

किसान चिंतित न हों, मिलेगा मुआवजा

मुख्यमंत्री ने हाल ही में कु छ जिलों में हुई ओलावृष्टि व आंधी-पानी से फसलों को हुए नुकसान को लेकर कहा कि प्रभावित किसानों को चिंतित होने की जरूरत नहीं है। प्रभावित क्षेत्रों में सर्वे का काम शुरू कर दिया गया है। आंकलन के बाद पूरा मुआवजा दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि लोग मुझसे पूछते हैं कि कोरोना संकट के बाद भी किसानों, गरीबों को बांटने के लिए पैसे कहां से लाते हो,मेरा जवाब है कि नीयत साफ हो तो भगवान भी मदद करता है।

अब 30 अप्रैल तक अदा किया जा सकेगा कृषि ऋण

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना काल में राजस्व अर्जन में कमी आई। खजाने की हालत भी ठीक नहीं रही। बावजूद इसके बीते एक साल में विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत 88 हजार 813 करोड़ रुपए किसानों को दिए गए। उन्होंने कहा कि किसानों की समस्याओं को देखते हुए खरीफ फसल की ऋण अदायगी की तिथि भी बढ़ाकर 30 अप्रैल की जा रही है। पुलिस विभाग में पदोन्नति, स्व-सहायता समूहों का सशक्तिकरण, आवासहीन गरीबों को पक्के मकान, हर घर में नल से पानी जैसे अन्य कार्य भी प्राथमिकता के आधार पर किए जा रहे हैं। सरकार हर वर्ग के क ल्याण के लिए चिंतित है।

10 लाख रुपए के पार होगी जीडीपी

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में जिस तेज गति से विकास व कल्याण कार्यक्रम शुरू किए गए हैं। उसे देखते हुए इस साल मप्र की सकल घरेलू उत्पाद दर 10 लाख करोड़ रुपये के पार हो जाएगी। उन्होंने लोगों से वर्षा के जल संरक्षण व पर्यावरण के लिए पौधे रोपने का आह्वान किया। श्री चौहान ने कहा कि मैं भी रोज एक पौधा रोप रहा हूं। मेरे लिए पेड़ लगाना भी उतना ही ज़रूरी है, जितना जीने के लिए भोजन करना। उन्होंने कहा कि जनता की जिंदगी खुशहाल बन जाये तो मेरा जीवन सार्थक होगा। मैं और मेरी सरकार इसी ध्येय की प्राप्ति के लिए सतत कार्य कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here