Home खास ख़बरें मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा सहित देश के नौ स्‍थानों पर जनजातीय संग्रहालय बनेंगे...

मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा सहित देश के नौ स्‍थानों पर जनजातीय संग्रहालय बनेंगे : अमित शाह

98
0
  • कांग्रेस ने 50 साल सिर्फ जनजातीय का उपयोग किया, कोई काम नही किया : शिवराज

जबलपुर। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने जबलपुर में आयोजित कार्यक्रम में कहा कि राजा शंकरशाह कुंवर रघुनाथ शाह को जब तोप से उड़ाया होगा तब कैसा लगा होगा देश भक्‍तों को। इन बलिदानियों के कारण ही हम 75 साल से आजादी की सांस ले रहे हैं। प्रधानमंत्री के संकल्‍प के कारण गुमनाम शहीदों को याद कर रहे हैं। पिछली बार जब जबलपुर आया था तब इन दो बलिदानियों की वीरगाथा को सुना था। देश में अनेक ऐसे बलिदानी हैं जिन्‍हें उचित सम्‍मान नहीं मिला।

हम ऐसे बलिदानियों को नहीं भुला सकते। जाने अनजाने सभी स्‍वतंत्रता संग्राम सैनानियों को याद किया जा रहा है। आजादी का अमृत महोत्‍सव भारत को दुनिया का सिरमौर बनाने का प्रयास है। उन्‍होंने बताया कि मप्र के छिंदवाड़ा, छत्‍तीसगढ़ के रायपुर सहित देशभर में नौ जनजाति संग्रहालय बनाए जाएंगे। इसमें 200 करोड़ का बजट रखा गया है।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने जबलपुर के गैरीसन ग्राउंड में आयोजित जनजातीय नायकों के गौरव समारोह का शुभारंभ किया। इस दौरान सीएम शिवराज सिंह चौहान, सांसद और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा सहित अन्य मंत्री और अधिकारी उपस्थित रहे। इसके पहले उन्होंने जनजातीय नायकों के जीवन पर केंद्रित चित्र प्रदर्शनी का शुभारंभ किया। मालगोदाम चौक पर वीर बलिदानी राजा शंकर शाह एवं कुंवर रघुनाथ शाह की प्रतिमा पर श्रद्धांजलि अर्पित कर उन्हें नमन किया। जबलपुर में जनजातीय बलिदानी राजा शंकर शाह, रघुनाथ शाह की स्मृति में 5 करोड़ की लागत से संग्रहालय बनेगा। गृह मंत्री ने मंच से किया भूमिपूजन। संग्रहालय बलिदानियों की प्रतिमा स्थली पर बनेगा।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राजा शंकर शाह की कविता को पढ़कर कहा कि इस कविता ने स्वतंत्रता संग्राम की चिंगारी भड़काने का काम किया। कांग्रेस की सरकारों ने आजादी के लिए लड़ने वाले केवल कुछ लोगों का नाम बताया। इन स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का नाम सामने नहीं आया। अपनी मातृभूमि के लिए उन्होंने अपना सबकुछ न्यौछावर कर दिया।

मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि 15 नवंबर को हर साल जनजातीय गौरव दिवस मनाया जाएगा। 1 नवंबर से 89 आदिवासी विकासखंड में हर गांव में हर घर राशन पहुचाएंगे। जो गाड़ी राशन पहुंचाएगी वो भी आदिवासी बेटा-बेटी की होगी। उन्होंने कहा कि 26 हजार हर माह गाड़ी का किराया देंगे। आदिवासी भाई बहन को गाड़ी फाइनांस कराएंगे, जिसकी बैंक गारंटी सरकार लेगी। भाजपा ने हमेशा जनजातियों के विकास के लिए काम किया। देश मे जनजातीय मंत्रालय का गठन पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई के कार्यकाल में हुआ।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने 50 साल सिर्फ जनजातीय का उपयोग किया उनके विकास परंपरा को आगे बढ़ाने के लिए कोई काम नही किया। 1 नंबर से आदिवासी गांवों में हर घर राशन पहुचाने का काम 89 विकास खंड में किया जाएगा। कांग्रेस ने अभी तक नाटक किया। सामुदायिक वन प्रबंधन के अधिकार आदिवासियों को दिए जाएंगे। तेंदुपत्ता और वैन समिति का अधिकार आदिवासियों को दिए जाएंगे। वनोपज को भी न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदा जाएगा। वनोपज औषधिया को प्रोसेज कर बेचेंगे।आदिवासियों के लिए पेश एक्ट क्रमबद्ध तरीके से करेंगे। वनों का प्रबंधन का काम आदिवासी समिति यानी ग्राम सभा को सौपा जाएगा। पेश ग्राम सभाओं का गठन किया जाएगा। वर्ग संघर्ष नहीं सामाजिक समरसता होगी।

एलबम का विमोचन

केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने सिंगल क्लिक के माध्‍यम से पांच करोड़ की लागत से निर्मित होने वाले स्‍मृति स्‍मारक का भूमिपूजन किया। इस दौरान जननायकों पर आधारित एलबम का विमोचन किया गया। कार्यक्रम में वीडियो फिल्‍म का प्रदर्शन भी किया गया। इस दौरान केंद्रीय राज्‍यमंत्री फग्‍गन सिंह कुलस्‍ते, प्रहलाद पटेल, सांसद राकेश सिंह, प्रदेश के मंत्री नरोत्‍तम मिश्रा, बिसाहू लाल सिंह, गोपाल भार्गव, अरविंद सिंह भदौरिया आदि मौजूद रहे।

कैबिनेट मंत्री विजय शाह नाराज होकर लौटे

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के आगमन के पहले अमर शहीद राजा शंकर शाह रघुनाथ शाह की प्रतिमा स्थल पर पुष्पांजली देने प्रदेश के कैबिनेट मंत्री कुंवर विजय शाह भी पहुंचे, लेकिन प्रोटोकाल का हवाला देते हुए उन्हें भी प्रतिमा स्थल के पास जाने की अनुमति नहीं दी गई। केंद्रीय मंत्री की सुरक्षा में लगी स्पेशल टीम ने गेट पर ही रोक दिया। सुरक्षा प्रहरी की इस सख्ती से मंत्री विजय शाह बिफर गए। उन्होंने कहा कि वे अमर शहीद राजा शंकर शाह रघुनाथ शाह के वशंज हैं और उन्हें ही प्रतिमा स्थल प्रणाम करने से रोका जा रहा है। मंत्री शाह ने दूर से ही राजा शंकर शाह रघुनाथ शाह को नमन किया और नाराजगी जताते हुए बैरंग लौट गए। भाजपा नगर अध्यक्ष जीएस ठाकुर ने कहा कि प्रोटाकल में उनका भी नाम था फिर भी उन्हें नही आने दिया गया।

विदित हो कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह आदिवासी जननायक वीर बलिदानी राजा शंकरशाह कुंवर रघुनाथ शाह के बलिदान दिवस के अवसर पर आयोजित विभिन्न कार्यक्रम में शामिल होंगे। वह गैरीसन ग्राउंड में जनसभा को भी संबोधित करेंगे। यहां आदिवासी नेताओं का भी संबोधन होगा। शाह जबलपुर में करीब आठ घंटे रहेंगे। यहां उनके अनेक कार्यक्रम निर्धारित हैं। इनमें नरसिंह मंदिर और दयोदय तीर्थ जाना भी शामिल है।


भाजपा नगर अध्यक्ष जीएस ठाकुर ने बताया शहीद स्मारक गोलबाजार में आयोजित बूथ अध्यक्ष सम्मेलन के कार्यक्रम हेतु वीआईपी हेतु पार्किंग व्यवस्था महाकोशल स्कूल में होगी इसके अलावा अन्य वाहनों की पार्किंग व्यवस्था डीएन जैन कॉलेज, अंजुमन स्कूल, एमएलबी मैदान एवं रानीताल मैदान में की गई है।


बूथ सम्मेलन में कार्यकर्ताओं से उपस्थिति की अपील लोकसभा मुख्य सचेतक सांसद राकेश सिंह, नगर अध्यक्ष जीएस ठाकुर, ग्रामीण अध्यक्ष रानू तिवारी, प्रदेश उपाध्यक्ष सुमित्रा बाल्मीकि, प्रदेश मंत्री आशीष दुबे, विधायक नंदिनी मरावी, प्रदेश कोषाध्यक्ष अखिलेश जैन, विधायक अजय विश्नोई, अशोक रोहाणी, इंदु तिवारी, पूर्व विधायक अंचल सोनकर, शरद जैन, हरेंद्रजीत सिंह बब्बू, प्रतिभा सिंह, पूर्व महापौर प्रभात साहू ने की है।

Previous articleकेंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पहुंचे जबलपुर, बलिदान दिवस पर राजा शंकर शाह-कुंवर रघुनाथ को दी श्रद्धांजलि, चित्र प्रदर्शनी का किया उद्घाटन
Next articleकांग्रेस ने गरीबी मिटाने का किया छलावा : गृह मंत्री

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here