Home » कल प्रधानमंत्री मोदी नए संसद भवन का करेंगे उद्घाटन, इसके पहले जान लें इसकी खुबियां

कल प्रधानमंत्री मोदी नए संसद भवन का करेंगे उद्घाटन, इसके पहले जान लें इसकी खुबियां

नई संसद भवन बन कर तैयार हो गया है। कल यानी रविवार को देश की जनता को इसका सौगात मिल जाएगी। तो चलिए इसी के साथ जानते हैं नए संसद भवन की खुबियों के बारे में…
लोकसभा और राज्यसभा ने 5 अगस्त, 2019 को सरकार से संसद के नए भवन के निर्माण का अनुरोध किया था, इसके बाद 10 दिसंबर 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद के नए भवन की आधारशिला रखी थी।

चार मंजिला भवन
अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस संसद का यह चार मंजिला भवन करीब 64,500 वर्ग मीटर में फैला है. संसद भवन में भूकंप सुरक्षा के पर्याप्त उपाय किये गए हैं। यह रेन वाटर हारवेस्टिंग और जल पुन: चक्रण प्रणाली (water recycling system) से सुसज्जित है।
लोकसभा सचिवालय की तरफ से जारी संसद भवन पर तैयार की गई पुस्तिका के अनुसार, नये संसद भवन के लोकसभा कक्ष में 888 सदस्यों के बैठने की व्यवस्था होगी और राज्यसभा में 384 सदस्य बैठ सकेंगे. वहीं, संयुक्त सत्र के दौरान 1272 सदस्यों के बैठने की व्यवस्था होगी।

मैसर्स टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड द्वारा निमार्ण
अगले 100 साल की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए नये संसद भवन की रूपरेखा मैसर्स एचसीपी डिजाइन, प्लानिंग एंड मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड ने तैयार की है. इसका निर्माण मैसर्स टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड द्वारा किया गया है।


भूकंप के झटकों से रहेगा सुरक्षित
सचिवालय की तरफ से मिली जानकारी के मुताबिक, नयी दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों के लिए निर्धारित भूकंप जोन-5 दिशानिर्देशों के अनुसार विशेष रूप से पर्याप्त भूकंप संबंधी सुरक्षा उपाए किए गए हैं, नए भवन को सभी मॉडर्न ऑडियो-विजुअल टेक्नॉलजी और डेटा नेटवर्क प्रणालियों से लैस किया गया है।
नये संसद भवन की संकल्पना सेंट्रल विस्टा में बनी हुई इमारतों की स्थापत्य कला से सामंजस्य रखते हुए की गई है। पुस्तिका के अनुसार, नया संसद भवन त्रिकोणीय है, जिसमें लोकसभा, राज्यसभा, केंद्रीय लाउंज के साथ साथ संवैधानिक प्राधिकारियों के कार्यालय होंगे। सम्पूर्ण भवन के डिजाइन में देश के महत्वपूर्ण धरोहर भवनों की स्थापत्य कला को ध्यान में रखा गया है।

पुराने भवन का उपयोग रहेगा जारी
इसमें कहा गया है कि नये संसद भवन के निर्माण के बाद भी पुराने भवन का उपयोग जारी रहेगा तथा दोनों भवन एक दूसरे के पूरक के रूप में काम करेंगे. निर्माण के दौरान यह सुनिश्चित करने का प्रयास किया गया है कि नए भवन के निर्माण के बाद भी मूल संसद भवन यथावत दिखाई देता रहे.
नए संसद भवन में छह समिति कक्ष होंगे, जबकि वर्तमान भवन में तीन समिति कक्ष हैं. इसमें मंत्री परिषद के सदस्यों के लिए 92 कमरों की व्यवस्था की गई है. नये संसद भवन में लोकसभा और राज्यसभा कक्ष में हर बेंच पर एक साथ दो सदस्य बैठ सकेंगे और हर सीट डिजिटल सिस्टम और टच स्क्रीन से सुसज्जित की गई है।
नये भवन में एक संविधान कक्ष है जहां देश की लोकतांत्रिक धरोहर को प्रदर्शित किया जाएगा. इसके अलावा भवन में सदस्यों के लिए पुस्तकालय, डाइनिंग रूप और पार्किंग की भी व्यवस्था रहेगी।
संसद के नए भवन में रेन हार्वेस्टिंग सिस्टम और जल पुन: चक्रण प्रणाली से सुसज्जित होगा. पूरे भवन में 100% UPS पावर बैकअप की सुविधा होगी।

Swadesh Bhopal group of newspapers has its editions from Bhopal, Raipur, Bilaspur, Jabalpur and Sagar in madhya pradesh (India). Swadesh.in is news portal and web TV.

@2023 – All Right Reserved. Designed and Developed by Sortd