गुना में रात तीन बजे शिकारियों से मुठभेड़ में एसआई सहित तीन पुलिसकर्मी शहीद, ग्वालियर आईजी को हटाया गया

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp

मुख्यमंत्री ने ली आपात बैठक, बोले- व्यर्थ नहीं जाएगी शहादत

भोपाल। गुना जिले के आरोन थाना क्षेत्र में बीती देर रात पांच हिरण और मोर का शिकार कर भाग रहे आधा दर्जन से अधिक शिकारियों से पुलिस टीम की मुठभेड़ हो गई। जंगल में हुई मुठभेड़ में एक उप निरीक्षक सहित तीन पुलिसकर्मियों की मौत हो गई है। तीन पुलिसकर्मियों के शहीद होने के बाद क्षेत्र में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। आज सुबह नौशाद नाम के एक शिकारी की लाश पास के गांव में मिली है। छह अन्य शिकारियों की तलाश की जा रही है। मुख्यमंत्री ने आज सुबह दस बजे निवास पर आपाल बैठक बुलाई। बैठक के बाद घटना स्थल पर समय पर नहीं पहुंचने के कारण ग्वालियर आईजी अनिल शर्मा को हटा दिया गया है। उनके स्थान पर एसएएफ के एडीजी डी श्रीनिवास वर्मा को ग्वालियर जोन का नया एडीजी बनाया गया है।


गुना एसपी राजीव कुमार मिश्रा के अनुसार देर रात शिकारियों के बाइक से हिरण का शिकार करके ले जाने की सूचना मिली थी। शिकारियों की घेराबंदी के लिए पुलिस की तीन टीमें लगाई गई थीं। एक टीम बाइक से शिकारियों का पीछा कर रही थी, जिस पर शिकारियों ने गोलीबारी मर दी। उप निरीक्षक राजकुमार जाटव के हाथ में गोली लग गई थी। इसके बाद भी शिकारियों से मुठभेड़ करते रहे। पुलिस टीम में शामिल ड्राइवर गंभीर रूप से घायल है। पुलिस की जवाबी फायरिंग में शिकारी नौशाद मेवाती मारा गया है।

एक-एक करोड़ रुपए का मुआवजा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निवास पर अधिकारियों की आपात बैठक के बाद महा कि घटनास्थल पर देरी से पहुंचने पर ग्वालियर के आईजी अनिल शर्मा को हटा दिया गया है। मध्यप्रदेश सरकार ने तीनों पुलिसकर्मियों के परिवार को 1-1 करोड़ का मुआवजा देने का ऐलान किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अपराधियों की पहचान हो गई है। मौके पर अतिरिक्त पुलिस बल भेजा गया है। पुलिसकर्मियों की शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी। पुलिसकर्मियों के खून के एक-एक बूंद का बदला लिया जाएगा।

शहीदों के अंतिम संस्कार में शामिल होंगे प्रभारी मंत्री

गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि मुठभेड़ में उप निरीक्षक राजकुमार जाटव, आरक्षक नीरज भार्गव और आरक्षक संतराम ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। शिकारियों के पास से पांच हिरण और एक मोर के अवशेष जब्त किए हैं। उप निरीक्षक राजुकुार जाटव का अंतिम संस्कार अशोकनगर में होगा। आरक्षक संतराम का श्योपुर में, आरक्षक राजीव भार्गव का अंतिम संस्कार गुना में ही किया जाएगा। शहीदों के अंतिम संस्कार में जिलों के प्रभारी मंत्री शामिल होंगे।

ऐसी कार्रवाई करेंगे, जो नजीर बनेगी

नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि हमारे परिवार के तीन जांबाज सदस्यों की मौत हो गई। अपराधी कोई भी हो, पुलिस से बच के जा नहीं सकते। कठोर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। सख्त से सख्त कार्रवाई हमलावरों पर की जाएगी। ऐसी कार्रवाई करेंगे, जो नजीर बनेगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान खुद घटना की मॉनिटरिंग कर रहे हैं।

Three policemen including SI were martyred in guna at three o’clock in the night, Gwalior IG was removed.

Guna men raat teen baje shikaariyon se muṭhabhed men esa_aaii sahit teen pulisakarmee shaheed, gvaaliyar aaiijee ko haṭaayaa gaya.

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Recent News

Related News