Home खास ख़बरें सदन में हंगामे से विपक्ष की होने लगी बदनामी

सदन में हंगामे से विपक्ष की होने लगी बदनामी

71
0
  • अगले सप्ताह से सदन चलने के बन गए आसार

नई दिल्ली ब्यूरो

मानसून सत्र का पहला सप्ताह बिना किसी काम काज के समाप्त हो गया। संसद की कार्यवाही लगातार बाधित होने से विपक्ष की बदनामी शुरू हो गई है। इस बदनामी से डर विपक्ष अब सदन में चर्चा कराने के मंसूबे पूरा करने में जुट गया है। सदन को चलाने के लिए विपक्ष अब झुकने तक को तैयार हो गया है। विपक्ष चाहता है कि मौजूदा कई ज्वलनशील मुद्दों पर सदन में अपनी बात रख देश की जनता तक पहुंचाई जाए। विपक्ष के इस रूख को देख अगले सप्ताह से सदन की कार्यवाही चलने के आसार बन गए हैं।

दरअसल सदन की कार्यवाही बाधित होने से विपक्ष को अपनी बात रखने का मौका तक नहीं मिल पा रहा है। सदन के बाहर दिए गए बयान मीडिया में ज्यादा सुर्खियां बटोरने में सफल नहीं हो पाता है। राहुल गांधी के बयान को थोड़ी बहुत जगह तो मिल जाती है पर न ही कांग्रेस के अन्य नेताओं के बयान को तरजीह मिल पाती है और न ही बाकी अन्य दलों के नेताओं को। जबकि इसके विपरीत सरकार की बात सुर्खियों के साथ चर्चा में आ जाती है। इतना ही नहीं सदन में सरकार हंगामें के दौरान ही अपनी बात पटल पर रख बयान दर्ज करा देती है।æò

विपक्ष को यह मौका नहीं मिल पाता है। इससे सदन में पार्टी की बात भी दर्ज नहीं हो पाती है। यही वजह है कि विपक्ष अब सदन चलाने को लेकर सरकार से ज्यादा इच्छुक हो गया है। सूत्रों का कहना है कि अगले सप्ताह से सदन की कार्यवाही सुचारू रूप से चलने लगी। विपक्ष पेगासस, किसान आंदोलन जैसे कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर अल्पकालीन चर्चा कराने की मांग करेगी। विपक्ष की रणनीति इन मुद्दों पर सरकार को घेरने की रहेगी। वहीं दूसरी ओर सरकार के लिए भी सदन चलाना जरूरी है।

सरकार की कई महत्वपूर्ण बिल लंबित पड़ी हुई है। सदन के सुचारू रूप से चलने पर यह बिल पास कराया जा सकेगा। इसमें तीन बिल तो अध्यादेश की जगह पर है। ऐसे में सरकार विपक्ष के अल्पकालीन चर्चा की मांग को मानकर सदन चलाने की कवायद कर सकती है। सरकार और विपक्ष की जरूरतों को देखते हुए अगले सप्ताह से सदन चलने के पूरे आसार बन गए हैं।

Previous articleदेश के कई हिस्‍सों में भारी बारिश की चेतावनी, जलभराव की मार झेल रहे महाराष्ट्र
Next articleउद्योगपतियों की अंतर्राष्ट्रीय संस्था के वार्षिक सम्मेलन को मुख्यमंत्री ने किया संबोधित

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here