Home » Same Sex Marriage: इतिहास की किताब से लेकर खजुराहों की दिवार तक के तथ्य रखें गए सामने, जानिए SC ने क्या कहा?

Same Sex Marriage: इतिहास की किताब से लेकर खजुराहों की दिवार तक के तथ्य रखें गए सामने, जानिए SC ने क्या कहा?

समलैंगिक विवाह मामले में बुधवार को सर्वोच्च न्यायालय में जमकर दलीलें पेश की गईं, जिसमें वकील मुकुल रोहतगी ने खजुराहो की दीवारों पर उकेरी गई कलाकृतियों से लेकर इतिहास की किताबों में दर्ज तथ्यों को अदालत के सामने रखा। सेम सेक्स मैरिज या समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता देने की मांग करने वाली 20 याचिकाओं पर चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि सरकार के पास यह डेटा नहीं है, जिससे यह साबित होता हो कि सेम सेक्स मैरिज संभ्रांत वर्ग  का विचार है।

बता दें कि इस मामलें में केन्द्र ने अब राज्यों से भी सलाह मांगा है। और 10 दिन में इस मामले में अपना नजरिया बताने को कहा है। बुधवार को सुनवाई से पहले केंद्र सरकार ने कोर्ट से कहा कि मामले में राज्यों-केंद्र शासित प्रदेशों को भी पार्टी बनाया जाए।

मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस एसके कौल, जस्टिस एस रवींद्र भट, जस्टिस पीएस नरसिम्हा और जस्टिस हिमा कोहली की पांच जजों की संवैधानिक बेंच कर रही है। वहीं केंद्र सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल (SG) तुषार मेहता जबकि समलैगिंक विवाह के पक्ष में लगाई गई याचिकाओं की पैरवी मुकुल रोहतगी कर रहे हैं।

इन 29 देशों में लीगल है समलैंगिक विवाह

नीदरलैंड (2000), बेल्जियम (2003), कनाडा (2005), स्पेन (2005), साउथ अफ्रीका (2006), नार्वे (2008), स्वीडन (2009), अर्जेंटीना (2010), पुर्तगाल (2010), आइसलैंड (2010), डेनमार्क (2012), उरुग्वे (2013), ब्राजील (2012), न्यूजीलैंड (2013),  इंग्लैंड और वेल्स (2013), फ्रांस (2013),  लक्जमबर्ग (2014),  स्कॉटलैंड (2014), अमेरिका-2015, आयरलैंड-2015, फिनलैंड-2015, ग्रीनलैंड-2015, कोलंबिया-2016, माल्टा-2017, ऑस्ट्रेलिया-2017, जर्मनी-2017, ऑस्ट्रिया-2019 ताइवान-2019, इक्वाडोर-2019, नार्दन आयरलैंड-2019, कोस्टारिका-2020

Swadesh Bhopal group of newspapers has its editions from Bhopal, Raipur, Bilaspur, Jabalpur and Sagar in madhya pradesh (India). Swadesh.in is news portal and web TV.

@2023 – All Right Reserved. Designed and Developed by Sortd