Home » घरेलू हिंसा की पीड़ित महिलाओं के लिए सहायता योजना हुई लागू

घरेलू हिंसा की पीड़ित महिलाओं के लिए सहायता योजना हुई लागू

मुआवजे के लिए पीडि़त या उसके आश्रित को 1 वर्ष के भीतर करना होगा आवेदन

भोपाल। प्रदेश में घरेलू हिंसा का शिकार हुई पीडि़ताओं के लिए राहत भरी खबर है। राज्य सरकार ने घरेलू हिंसा से पीडि़त महिलाओं के लिए सहायता योजना की शुरुआत की है। इस योजना के तहत अब महिला या बालिका को किसी अंग की स्थाई क्षति के फ लस्वरूप 40 प्रतिशत से कम दिव्यांगता पर 2 लाख तथा 40 प्रतिशत से अधिक दिव्यांगता पर 4 लाख रुपए तक का मुआवजा दिया जाएगा।

इस मुआवजे के लिए पीडि़त या उसके आश्रित की ओर से घटना के एक वर्ष के भीतर संबंधित क्षेत्र के महिला एवं बाल विकास के परियोजना अधिकारी (संरक्षण अधिकारी) अथवा प्रशासक वन स्टॉप सेंटर को आवेदन करना होगा। आवेदन के साथ घटना की एफ आईआर प्रति संलग्न करना आवश्यक होगा। मेडिकल बोर्ड शारीरिक क्षति का आंकलन कर कलेक्टर की अध्यक्षता में गठित समिति को प्रतिवेदन देगा, जिसके आधार पर समिति द्वारा मुआवजे की स्वीकृति दी जाएगी।

बता दें कि महिलाओं पर होने वाली घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण कानून में पीडि़ता को व्यापक प्रावधान है। कईं बार अपनों के हिंसात्मक व्यवहार से महिलाओं को स्थाई शारीरिक क्षति हो जाती है।

Support scheme implemented for women victims of domestic violence.