Home खास ख़बरें देश में सीरो सर्वे बताएगा कितने में है एंटी बॉडी, हर्ड इम्युनिटी...

देश में सीरो सर्वे बताएगा कितने में है एंटी बॉडी, हर्ड इम्युनिटी से हैं कितनी दूर: डॉ राकेश मिश्रा

35
0

नई दिल्ली। आइसीएमआर के सीरो सर्वे पर सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी (CCBM) के सलाहकार डॉ. राकेश मिश्रा ने कहा कि ऐसा लगता है कि अधिकांश देशों में 80-90 फीसद मामले डेल्टा वैरिएंट के कारण होते हैं, लेकिन यह दो महीने में वैरिएंट के नए संस्करणों में बदल रहा है। ब्रिटेन में कुछ रिपोर्टों ने सुझाव दिया है कि डेल्टा वैरिएंट कुछ पोषण प्राप्त कर रहा है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि यह अधिक हानिकारक होगा।

सीरो सर्वे के बारे में उन्होंने कहा कि यह हमें उन लोगों में एंटी बॉडीज के बारे में भी बताएगा, जिन्हें पहले से ही टीका लगाया जा चुका है। देश में बड़े पैमाने पर सेरो सर्वे बहुत उपयोगी होगा। यह हमें संक्रमण दर का पता लगाने में मदद करता है और कितने में एंटी-बॉडी हैं, या हम हर्ड इम्युनिटी से कितने दूर हैं। यह हमें यह भी बताएगा कि देश की किस पार्टी में पॉजिटिविटी कम है।

डॉ. राकेश मिश्रा ने संभावित वुहान लैब लीक के सुझाव देने वाली रिपोर्टों पर कहा कि यह बहुत कम संभावना है कि इस तरह का कुछ प्रयोगशाला से आया हो। अधिक संभावना है कि यह चमगादड़ से एक जेनेटिक मूल है जो लोगों में फैल गया, कुछ समय के लिए वहां रहा और फिर कोविड-19 का दर्जा हासिल कर लिया।

उन्होंने कहा कि यह भी हो सकता है कि चमगादड़ से आया हो, उसने किसी और जानवर को संक्रमित किया हो। मूल बिंदु के रूप में चमगादड़ आनुवंशिक सामग्री के मामले में 96 फीसद समानता के साथ इस वायरस का निकटतम रिश्तेदार है।

Previous articleदेश के कई हिस्‍सों में भारी बारिश की चेतावनी, मुंबई में रेड अलर्ट जारी, मानसून अगले 24 घंटे में मध्‍य प्रदेश को करेगा कवर
Next articleअमेरिका से Covaxin को नहीं मिली मंजूरी तो अब भारत बायोटेक इस तरीके से हासिल करेगा विश्वास

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here