Home खास ख़बरें महाराष्ट्र में आफत बन टूटी बारिश, रायगढ़ जिले में भूस्खलन से 36...

महाराष्ट्र में आफत बन टूटी बारिश, रायगढ़ जिले में भूस्खलन से 36 की मौत, 40 मलबे में दबे

12
0

मुंबई। महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में बारिश काल बनकर बरसी है। गुरुवार से शुरू हुई बारिश के चलते हुए भूस्खलन में रायगढ़ की महाड़ तहसील अब तक 36 लोगों की मौत हो गई है। इसके अलावा अब भी 30 लोगों के मलबे में दबे होने की आशंका जताई जा रही है। इलाके में बीते दो दिनों से रोड और रेल नेटवर्क बाधित है।

आवाजाही ठप होने और कनेक्टिविटी न रहने के चलते राहत और बचाव कार्य में भी मुश्किल आ रही है। पुलिस का कहना है कि महाड़ तहसील के तलाई गांव समेत तीन अलग-अलग घटनाओं में ये मौतें हुई हैं। अकेले तलाई गांव से ही अब तक 32 शव निकाले जा चुके हैं। इसके अलावा साक्षरसुतारवाड़ी गांव से 4 शव निकाले गए हैं।

बचाव कार्य में लगे अधिकारियों का कहना है कि इन गांवों से अब तक 15 लोगों को सुरक्षित निकाला जा चुका है, लेकिन अब भी 30 से ज्यादा लोगों के मलबे में दबे होने की आशंका है। इसके चलते मौतों का आंकड़ा बढ़ने का भी डर है। इस बीच होम मिनिस्टर अमित शाह और पीएम नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे से बात की है और हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया है। इस बीच एनडीआरएफ की टीमें पहुंच गई हैं और बचाव कार्य जारी है। इसके अलावा कुछ इलाकों में एयरफोर्स को भी बचाव कार्य में लगाया गया है। एयरफोर्स ने कई लोगों को एयरलिफ्ट करके निकाला भी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार दोपहर को महाराष्ट्र में हुई घटनाओं को लेकर ट्वीट भी किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लिखा, ‘रायगढ़ में भूस्खलन के चलते लोगों के मरने से दुख हुआ है। इस हादसे में अपने परिजनों को खोने वाले लोगों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं। मैं घायलों के जल्द स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं।’ इसके साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि महाराष्ट्र में भारी बारिश के चलते पैदा हुए हालात की निगरानी की जा रही है और प्रभावितों को हरसंभव मदद दी जाएगी। मुंबई से करीब 160 किलोमीटर की दूरी पर स्थित महाड में एनडीआरएफ की टीमें पहुंच गई हैं। खुद सीएम उद्धव ठाकरे हालात का जायजा ले रहे हैं। उन्होंने हालात की समीक्षा करने के बाद स्थानीय प्रशासन से भी बात की है।

रत्नागिरी जिले में भी भूस्खलन से 10 लोग फंसे, बचाव कार्य जारी

महाराष्ट्र के ही रत्नागिरी जिले में भी बारिश के चलते बाढ़ की स्थिति पैदा हो गई है। शहर के कई इलाकों में पानी में डूबे हुए हैं। यहां तक कि लोग अपने जरूरी कामों से भी नहीं निकल पा रहे हैं। इसके अलावा रत्नागिरी जिले के चिपलून कस्बे में भूस्खलन की घटना हुई है। इसमें 10 लोगों के फंसने की आशंका जताई जा रही है। एनडीआरएफ की टीम यहां भी बचाव कार्य में जुटी हुई है। बीते कई दिनों से इस जिले में बारिश हो रही है और कई नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं।

मना करने के बाद भी नदी के पुल पर बस ले गया ड्राइवर, बमुश्किल बचाए 11 लोग

कोल्हापुर जिले में भारी बारिश के चलते हालात खराब हैं। एक जगह बाढ़ में फंसी बस से शुक्रवार को सुबह ही 11 लोगों को किसी निकाला गया। दरअसल यह घटना रात को 2:30 बजे हुई थी, जब पुलिस और पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों के मना करने के बाद भी नदी के पुल पर ड्राइवर को बस को ले गया। दरअसल चिकोड़ी नदी का पानी पुल के ऊपर बह रहा था और उसमें जाकर बस भी फंस गई। फिर जैसे-तैसे बस में सवार 11 लोगों को प्रशासन ने निकाला।

Previous articleओलंपिक का उद्घाटन समारोह, मनप्रीत सिंह और मेरी काम ने की भारतीय दल की अगुवाई
Next articleनवजोत के साथ रिश्तों पर बोले कैप्टन, जब सिद्धू पैदा हुए थे तब मैं बॉर्डर पर तैनात था

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here