Home खास ख़बरें प्रधानमंत्री ने की सीडीएस जनरल रावत के साथ बैठक, कोरोना से जंग...

प्रधानमंत्री ने की सीडीएस जनरल रावत के साथ बैठक, कोरोना से जंग में सैन्‍य बलों के ऑपरेशनों की समीक्षा की

6
0

नई दिल्‍ली। देश में कोरोना की दूसरी लहर के चलते संक्रमितों की संख्‍या में रिकॉर्ड बढ़ोतरी देखी जा रही है। देश के कई राज्‍यों में खराब हालात को देखते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने खुद कमान संभाल ली है। वहीं सेना ने भी मोर्चा संभाल लिया है। इस बीच चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। प्रधानमंत्री कार्यालय के हवाले से बताया कि इस बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना महामारी से निपटने के लिए सशस्त्र बलों द्वारा की जा रही तैयारियों और ऑपरेशन की समीक्षा की।

प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक सीडीएस रावत ने प्रधानमंत्री मोदी को जानकारी दी कि बीते दो वर्षों में सेवानिवृत्त या पूर्व सेवानिवृत्ति लेने वाले सशस्त्र बलों के चिकित्सा कर्मियों को उनके संबंधित निवास स्थान के आसपास कोविड-19 केंद्रों में काम करने के लिए बुलाया जा रहा है। यही नहीं दो साल से पहले सशस्त्र बलों से सेवानिवृत्त होने वाले चिकित्सा अधिकारियों से भी चिकित्सा आपाकालीन हेल्पलाइन नंबरों के जरिए सलाह देकर सेवाएं देने को कहा गया है।

सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने प्रधानमंत्री मोदी को जानकारी दी कि सैन्‍य बल बड़ी संख्या में चिकित्सा केंद्र भी बना रहे हैं। यही नहीं सेना के चिकित्सा ढांचे का जहां तक संभव हो सकेगा आम लोगों के लिए इस्तेमाल किया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनरल रावत के साथ हुई इस बैठक में केंद्रीय और राज्य सैनिक कल्याण बोर्ड और विभिन्न मुख्यालयों के पूर्व सैनिक प्रकोष्ठों में तैनात अधिकारियों की मदद लेने के मसले पर भी चर्चा की। जनरल रावत ने बताया कि बड़ी संख्या में नर्सिंग कर्मियों को अस्पतालों में डॉक्टरों की मदद के लिए भी तैनात किया जा रहा है।

सीडीएस जनरल रावत ने प्रधानमंत्री मोदी को यह भी बताया कि वे कोरोना मरीजों के इलाज के लिए बड़ी संख्या में चिकित्सा सुविधाएं तैयार कर रहे हैं। इसके अलावा जहां संभव है वहा सैन्य चिकित्सा बुनियादी ढांचा सुविधाओं को आम नागरिकों के लिए भी खोला जाएगा। इस बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने भारत और विदेशों में ऑक्सीजन एवं अन्य जरूरी वस्तुओं के परिवहन के लिए भारतीय वायुसेना की ओर से चलाए जा रहे ऑपरेशनों की भी समीक्षा की।

पीएमओ की ओर से साझा की गई जानकारी के मुताबिक सैन्‍य बलों के अन्य चिकित्सा अधिकारी जो सेवानिवृत्त हुए हैं उनको आपातकालीन हेल्पलाइन के माध्यम से अपनी सेवाएं उपलब्ध कराने का अनुरोध किया गया है। प्रधानमंत्री को सूचित किया गया कि कमांड हेड क्‍वार्टर, कॉर्प्स हेडक्‍वार्टर, डिवीजन मुख्यालय, नौसेना और वायुसेना के मुख्यालयों में काम करने वाले चिकित्सा अधिकारियों को अस्पतालों में सेवाओं के लिए लगाया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here