Home खास ख़बरें कोरोना की स्थिति पर प्रधानमंत्री ने की मुख्यमंत्रियों से चर्चा

कोरोना की स्थिति पर प्रधानमंत्री ने की मुख्यमंत्रियों से चर्चा

14
0

बैठक में शामिल नहीं हुईं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी


नई दिल्ली। कोरोना महामारी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को राज्यों के मुख्यमंत्रियों से चर्चा की। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक बार फिर प्रधानमंत्री के साथ बैठक से किनारा कर लिया है। इस बैठक में ममता की जगह राज्य के मुख्य सचिव शामिल हुए। इससे पहले 17 मार्च को हुई बैठक में भी ममता बनर्जी ने खुद को अलग कर लिया था। दो दिन पहले प्रधानमंत्री ने कोरोना के हालात पर समीक्षा बैठक की थी। इसके बाद अधिकारियों को कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए सख्त कदम उठाने के निर्देश दिए थे। राज्य के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में मोदी ने टीकाकरण तेज करने और संक्रमण रोकने के लिए प्रभावी कदम उठाने के निर्देश दिए।

वैक्सीन को लेकर केंद्र और राज्यों में तकरार

महाराष्ट्र ने वैक्सीन की कमी की शिकायत की है। साथ ही इसकी क्षमता पर भी सवाल उठाया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने महाराष्ट्र के लिए कहा कि वहां की सरकार अपनी नाकामियां छिपाने के लिए हम पर आरोप लगा रही है। महाराष्ट्र में हालात वहां की सरकार की गलतियों की वजह से बिगड़े हैं और सरकार गलतियां दोहराती जा रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने पंजाब, महाराष्ट्र और दिल्ली सरकार को पत्र लिखकर वैक्सीनेशन बढ़ाने की बात कही है।

योजना के अभाव में महाराष्ट्र सरकार ने टीके की पांच लाख खुराकें कर दीं बर्बाद : जावड़ेकर

केन्द्रीय मंत्री तथा भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रकाश जावड़ेकर ने गुरुवार को आरोप लगाया कि महाराष्ट्र में राज्य सरकार की योजना के अभाव के चलते कोविड-19 टीकों की पांच लाख खुराकें बर्बाद हो गईं। महाराष्ट्र से संबंध रखने वाले जावड़ेकर ने यहां भाजपा कार्यालय में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा उन्हें जानकारी मिली है कि महाराष्ट्र सरकार के पास टीकों की 23 लाख खुराकें उपलब्ध हैं। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने बुधवार को कहा था कि राज्य में टीकों की कमी के चलते कई टीकाकरण केन्द्र बंद किये जा रहे हैं और राज्य में फिलहाल 14 लाख खुराकें हैं, जो केवल तीन दिन तक चल सकती हैं।
जावड़ेकर ने कहा, मैं स्पष्ट कर दूं कि महाराष्ट्र सरकार के पास टीकों की 23 लाख खुराकें उपलब्ध हैं…जोकि पांच से छह दिन का स्टॉक है। इन्हें गांवों और जिलों में वितरित करना राज्य सरकार की जिम्मेदारी है। उन्होंने आरोप लगाया कि महाराष्ट्र सरकार योजना के अभाव के चलते टीकों की पांच लाख खुराकें बर्बाद कर चुकी है। यह मामूली संख्या नहीं है। टीकाकरण अभियान के लिये योजना बनाना राज्य सरकार की जिम्मेदारी है। केन्द्रीय मंत्री ने यह भी कहा कि केन्द्र सरकार ने महाराष्ट्र को पहले जितनी खुराकें आवंटित की थीं, उससे कहीं अधिक खुराकें बाद में उपलब्ध कराई हैं।

देश में 24 घंटे में रिकॉर्ड केस सामने आए

देश में बुधवार को रिकॉर्ड 1 लाख 26 हजार 265 लोग संक्रमित पाए गए। कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा अब 1.29 करोड़ से अधिक हो गया है। सबसे ज्यादा कोरोना के मामले महाराष्ट्र, पंजाब, छत्तीसगढ़, केरल, कर्नाटक, गुजरात, दिल्ली और एमपी से आ रहे हैं। महाराष्ट्र में केंद्र ने अपनी 30 स्पेशल टीमें भेजी हैं।

प्रधानमंत्री ने ली कोरोना वैक्सीन की दूसरी खुराक

NEW DELHI, APR 8 (UNI):- Prime Minister Narendra Modi takes second dose of the COVID-19 vaccine, at AIIMS, New Delhi on Thursday. UNI PHOTO-2U
NEW DELHI, APR 8 (UNI):- Prime Minister Narendra Modi along with Sister Nisha Sharma(R) and Sister P Niveda(L) after receiving second dose of the COVID-19 vaccine, at AIIMS, New Delhi on Thursday. UNI PHOTO-3U

कोरोना के बढ़ते कहर के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को वैक्सीन की दूसरी खुराक ली। प्रधानमंत्री ने एम्स में इस वक्सीन की दूसरी खुराक ली। इस खुराक के साथ ही प्रधानमंत्री को लगने वाली निर्धारित कोरोना वैक्सीन की खुराक पूरी हो गई। प्रधानमंत्री ने टीका लगवाने के बाद ट्विटर पर अपनी तस्वीर पोस्ट कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने लिखा कि वैक्सीनेशन कोरोना वायरस को हराने के कुछ तरीकों में से एक है। यदि आप वैक्सीन के लिए योग्य हैं, तो जल्द ही अपना रजिस्ट्रेशन कराएं और कोरोना का टीका लें। वहीं कोरोना वैक्सीन लगाने के मामले में भारत दुनिया में प्रथम स्थान पर पहुंच गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here