पुलिस आयुक्त प्रणाली : भोपाल में जनता करेगी थानों की रैंकिंग, भोपाल में 20, इंदौर में 25 प्रतिशत अपराधों में कमी आई

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp

पुलिस आयुक्त प्रणाली के एक साल पूरे होने पर गृह मंत्री ने की समीक्षा

भोपाल। प्रदेश में पुलिस आयुक्त प्रणाली को लागू किए आज शुक्रवार को एक वर्ष हो गया है। आयुक्त प्रणाली को एक वर्ष होने की स्थिति में प्रदेश के गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने भोपाल पुलिस आयुक्त कार्यालय पहुंचकर भोपाल और इंदौर की आयुक्त प्रणाली की समीक्षा की है। समीक्षा से पहले मंत्री ने राजभवन के सामने महिला पुलिसकर्मियों को पुष्प भेंटकर स्वागत किया है।

समीक्षा करने के बाद मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि आयुक्त प्रणाली में भोपाल में एक साल में अपराधों में 20 प्रतिशत की कमी आई है, वहीं इंदौर में यह आंकड़ा 25 प्रतिशत है। भोपाल में साइबर फ्रॉड के मामले में एक करोड़ 14 लाख रुपए पुलिस ने जालसाजों से वापस लाकर फरियादियों के खाते में ट्रांसफर कराए हैं, वहीं इंदौर में यह आंकड़ा करीब तीन करोड़ रुपए का है।

ये भी पढ़ें:  गेहूं, चावल, दूध छोड़कर मोटे अनाज खाओ, रोग भगाओ

जनता करेगी थानों की रैंकिंग

समीक्षा के बाद पत्रकारों से चर्चा करते हुए गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि अब इंदौर और भोपाल में आयुक्त प्रणाली के तहत जनता थानों की रैंकिंग करेगी। जब फरियादी थाने जाएगा और अपना मोबाइल नंबर देकर आएगा तो आयुक्त कार्यालय से संबंधित व्यक्ति को फोन जाएगा, उसके फीडबैक पर थानों की रैकिंंग निर्धारित की जाएगा।

Police commissioner system: Public will rank police stations in Bhopal, 20 in Bhopal, 25 percent reduction in crimes in Indore.

pulis aayukt pranaalee : bhopaal mein janata karegee thaanon kee rainking, bhopaal mein 20, indaur mein 25 pratishat aparaadhon mein kamee aaee

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Recent News

Related News