Home खास ख़बरें प्रधानमंत्री मोदी ने बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर...

प्रधानमंत्री मोदी ने बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता की, बड़े समझौतों पर लगेगी मुहर

7
0

ढाका। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को यहां बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता की। इस वार्ता में दोनों देशों के बीच कई समझौते होने की संभावना है। इससे पहले पीएम मोदी मतुआ संप्रदाय के आध्यात्मिक गुरु हरिचंद ठाकुर की जन्मस्थली ओराकांडी के एक मंदिर गए। वहां पूजा अर्चना करने के बाद प्रधानमंत्री ने मतुआ समुदाय के लोगों से संवाद भी किया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत और बांग्लादेश स्थिरता, प्रेम और शांति चाहते हैं। दोनों देश अपने विकास और तरक्‍की से पूरी दुनिया की खुशहाली देखना चाहते हैं।

जशोरेश्वरी काली मंदिर में की पूजा

प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी दो दिवसीय बांग्लादेश यात्रा के दूसरे दिन की शुरुआत सत्खिरा स्थित प्राचीन जशोरेश्वरी काली मंदिर में पूजा अर्चना के साथ की। प्रधानमंत्री मोदी ने जशोरेश्वरी काली मंदिर में संपूर्ण मानव जाति के कल्याण की कामना की। मालूम हो कि कई शताब्दियों पुराना यह मंदिर 51 शक्तिपीठों में से एक है। मंदिर पहुंचने पर पीएम मोदी का शंख बजाकर भव्‍य स्‍वागत किया गया। उन्‍हें तिलक भी लगाया गया। प्रधानमंत्री ने मां काली को एक मुकुट, साड़ी एवं अन्य पूजन सामग्रियां अर्पित कीं। उन्‍होंने मंदिर की परिक्रमा भी की।

कोरोना संकट से मुक्ति की कामना की

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मुझे 51 शक्तिपीठों में से एक मां काली के चरणों में आने का सौभाग्य मिला। आज पूरी मानव जाति कोरोना के कारण अनेक संकटों से गुजर रही है। मां काली से यही प्रार्थना है कि पूरी मानव जाति को कोरोना के इस संकट से जल्द से जल्द मुक्ति दिलाएं। प्रधानमंत्री ने सर्वे भवंतु सुखिन: और वसुधैव कुटुम्बकम के मंत्र को भारतीय संस्कृति की विरासत बताई। पीएम मोदी ने यहां एक सामुदायिक केंद्र के निर्माण की जरूरत बताई। उन्‍होंने कहा कि भारत सरकार यहां इसके निर्माण का काम करेगी ताकि यह श्रद्धालुओं के उपयोग में आए।

पीएम मोदी ने ओराकांडी में मतुआ समुदाय के प्रतिनिधियों से मुलाकात की, NSA डोभाल भी रहे मौजूद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को अपने बांग्लादेश दौरे के दूसरे दिन सबसे पहले दक्षिणपश्चिमी सतखीरा में यशोरेश्वरी मंदिर पहुंचे और पूजा की। इसके बाद पीएम मोदी ने गोपालगंज में ओराकांडी मंदिर में भी पूजा-अर्चना की। एनएसए अजीत डोभाल और विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला भी उपस्थित रहे।
पीएम ने कहा, ‘ओराकांडी में भारत सरकार लड़कियों के मिडिल स्कूल को अपग्रेड करेगी और भारत सरकार द्वारा यहां एक प्राइमरी स्कूल भी स्थापित किया जाएगा। ये भारत के करोड़ों लोगों की तरफ से हरिचंद ठाकुर जी को श्रद्धांजलि है।’

पीएम मोदी ने कहा, ‘भारत आज ‘सबका साथ, सबका विकास, और सबका विश्वास’ के मंत्र को लेकर आगे बढ़ रहा है, और बांग्लादेश इसमें ‘शोहो जात्री’ है। वहीं बांग्लादेश आज दुनिया के सामने विकास और परिवर्तन का एक मजबूत उदाहरण पेश कर रहा है और इन प्रयासों में भारत आपका ‘शोहो जात्री’ है।
पीएम बोले- कोरोना महामारी के दौरान, भारत और बांग्लादेश ने अपनी क्षमताओं को साबित किया है। आज दोनों राष्ट्र इस महामारी का जोरदार तरीके से सामना कर रहे हैं और इसे साथ मिलकर लड़ रहे हैं। भारत इसे अपना कर्तव्य मानकर काम कर रहा है कि मेड इन इंडिया टीका बांग्लादेश के नागरिकों तक पहुंचे।

पीएम ने कहा कि मौतुवा शॉम्प्रोदाय के हमारे भाई-बहन श्री श्री हॉरिचान्द ठाकुर जी की जन्मजयंति के पुण्य अवसर पर हर साल ‘बारोनी श्नान उत्शब’ मनाते हैं। भारत से बड़ी संख्या में श्रद्धालु इस उत्सव में शामिल होने के लिए, ओराकान्दी आते हैं। भारत के मेरे भाई-बहनों के लिए ये तीर्थ यात्रा और आसान बने, इसके लिए भारत सरकार की तरफ से प्रयास और बढ़ाए जाएंगे। ठाकूरनगर में मौतुवा शॉम्प्रोदाय के गौरवशाली इतिहास को प्रतिबिंबित करते भव्य आयोजनों और विभिन्न कार्यों के लिए भी हम संकल्पबद्ध हैं।

मोदी ने कहा, ‘श्री श्री हॉरिचान्द देव जी के जीवन ने हमको एक और सीख दी है। उन्होंने ईश्वरीय प्रेम का भी संदेश दिया, लेकिन साथ ही हमें हमारे कर्तव्यों का भी बोध कराया। उन्होंने हमें ये बताया कि उत्पीड़न और दुख के विरुद्ध संघर्ष भी साधना है।’ पीएम ने आगे कहा कि श्री श्री हॉरिचान्द देव जी की शिक्षाओं को जन-जन तक पहुंचाने में, दलित-पीड़ित समाज को एक करने में बहुत बड़ी भूमिका उनके उत्तराधिकारी श्री श्री गुरुचॉन्द ठाकुर जी की भी है। श्री श्री गुरुचॉन्द जी ने हमें ‘भक्ति, क्रिया और ज्ञान’ का सूत्र दिया था। पीएम ने कहा, ‘भारत और बांग्लादेश दोनों ही देश अपने विकास से, अपनी प्रगति से पूरे विश्व की प्रगति देखना चाहते हैं। दोनों ही देश दुनिया में अस्थिरता, आतंक और अशांति की जगह स्थिरता, प्रेम और शांति चाहते हैं। यही मूल्य, यही शिक्षा श्री श्री हॉरिचान्द देव जी ने हमें दी थी।

पीएम मोदी बोले- मैं बांग्लादेश के राष्ट्रीय पर्व पर भारत के 130 करोड़ भाइयों-बहनों की तरफ से आपके लिए प्रेम और शुभकामनाएं लाया हूं। आप सभी को बांग्लादेश की आज़ादी के 50 साल पूरे होने पर ढेरों बधाई, हार्दिक शुभकामनाएं।

बांग्लादेश के ओराकांडी में मतुआ समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘किसने सोचा था कि भारत का प्रधानमंत्री कभी ओराकांडी आएगा। मैं आज वैसा ही महसूस कर रहा हूं, जो भारत में रहने वाले मतुआ संप्रदाय के मेरे हज़ारों-लाखों भाई-बहन ओराकांडी आकर महसूस करते हैं।’ पीएम ने आगे कहा कि इस दिन की प्रतीक्षा मुझे कई वर्षों से थी, 2015 में जब मैं प्रधानमंत्री के तौर पर पहली बार बांग्लादेश आया था तभी मैंने यहां आने की इच्छा प्रकट की थी। मेरी वो इच्छा आज पूरी हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here