Home खास ख़बरें दलहन और तिलहन में आत्मनिर्भरता के लिए आएगी नई नीति : तोमर

दलहन और तिलहन में आत्मनिर्भरता के लिए आएगी नई नीति : तोमर

11
0
  • मोदी सरकार की नीतियों से देश में खाद्यान्न की प्रचुरता

नई दिल्ली ब्यूरो

खाद्यान्न के मामले में देश पूरी तरह से आत्मनिर्भर बन चुका है। अब दलहन और तिलहन पर आत्मनिर्भर बनने की कवायद हो रही है। मोदी सरकार इसके लिए नई नीति बना रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर कृषि वैज्ञानिक इस काम में जुट गए हैं।

केंद्रीय कृषि व कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि हमारे देश में खाद्यान्न की प्रचुरता है। यह भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के अनुसंधान, किसानों के परिश्रम व सरकार की कृषि हितैषी नीतियों का परिणाम है। उन्होंने कहा कि दलहन, तिलहन व बागवानी फसलों के क्षेत्र में भी आत्मनिर्भर बनने की तैयारी हो रही है। इसके लिए अभी इस क्षेत्र में और काम करने की जरूरत है। सरकार दलहन व तिलहन में आत्मनिर्भरता के लिए नई नीति लेकर आएगी। इस बाबत प्रधानमंत्री ने कृषि मंत्रालय को निर्देश दिया है।

प्रधानमंत्री का मानना है कि आयात पर हमारी निर्भरता कम हो और कृषि उत्पादों का निर्यात ज्यादा से ज्यादा बढ़ाएं। कृषि मंत्री ने कहा कि इसके लिए बीजों की नई किस्म का उपयोग करना होगा। कृषि वैज्ञानिक बीजों की नई किस्म तैयार करने में जुटे हुए हैं। उन्होंने कहा कि कृषि व सम्बद्ध अधिकांश क्षेत्रों में दुनिया में भारत पहले या दूसरे नंबर पर है।

कृतज्ञ हैकाथॉन का आयोजन

कृतज्ञ हैकाथॉन में प्रतियोगियों ने कृषि व सम्बद्ध क्षेत्रों के लिए एक से बढ़कर एक उपयोगी संरचनाएं सृजित कर अपनी योग्यता व क्षमता को साबित किया है। इस मौके पर कृषि मंत्री ने ने आईसीएआर की तारीफ की। उन्होंने कहा कि कृषि वैज्ञानिक जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों, वर्षा आधारित खेती वाले क्षेत्रों व अन्य प्रतिकूल परिस्थितियों से हमारे बीज सामना कर सकने तथा किसानों की आय बढ़ा सकने पर समग्रता से विचार कर रहे हैं।

कृतज्ञ हैकाथॉन में जिस तरह से अच्छे से अच्छे अविष्कार पेश किए गए हैं, उसे देखते हुए विश्वासपूर्वक कहा जा सकता है कि हिंदुस्तान के नागरिकों में बड़ी से बड़ी परिस्थितियों का सामना करने व उनमें विजयी प्राप्त करने का सामथ्र्य है, यहीं भारत वर्ष की सबसे बड़ी पूंजी व ताकत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here