Home खास ख़बरें नक्सलियों को मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा : अमित शाह

नक्सलियों को मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा : अमित शाह

7
0
JAGDALPUR, APR 5 (UNI0:-Union Home Minister Amit Shah Pays tribute to the 14 CRPF personnel who lost their lives in Bijapur Naxal attack, in Jagdalpur on Monday. UNI PHOTO-37
  • गृह मंत्री शाह ने शहीद हुए जवानों को जगदलपुर में दी श्रद्धांजलि
  • अमित शाह ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और अफसरों के साथ जगदलपुर में की बैठक
RAIPUR, APR 5 (UNI):-Union Home Minister Amit Shah and Chhattisgarh Chief Minister Bhupesh Baghel during a meeting of Central Security Officers, Administrative and Police Officers in Jagdalpur on Monday.UNI PHOTO-30U
RAIPUR, APR 5 (UNI):-Union Home Minister Amit Shah and Chhattisgarh Chief Minister Bhupesh Baghel during a meeting of Central Security Officers, Administrative and Police Officers in Jagdalpur on Monday.UNI PHOTO-29U
JAGDALPUR, APR 5 (UNI0:-Union Home Minister Amit Shah Pays tribute to the 14 CRPF personnel who lost their lives in Bijapur Naxal attack, in Jagdalpur on Monday. UNI PHOTO-31U
JAGDALPUR, APR 5 (UNI0:-Union Home Minister Amit Shah Pays tribute to the 14 CRPF personnel who lost their lives in Bijapur Naxal attack, in Jagdalpur on Monday. UNI PHOTO-32U

जगदलपुर/बीजापुर। बीजापुर में नक्सली एनकाउंटर के बाद छत्तीसगढ़ के जगदलपुर पहुंचे केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि जवानों का यह सर्वोच्च बलिदान है। उनके इस शौर्य ने इस लड़ाई को निर्णायक मोड़ पर पहुंचा दिया है। अब हम इसे अंजाम तक लेकर जाएंगे। उन्होंने जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि पूरा देश उन्हें नमन कर रहा है। सीनियर ऑफिसर्स के साथ मीटिंग के बाद गृह मंत्री शाह मीडिया से बात कर रहे थे।
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को छत्तीसगढ़ के जगदलपुर के सर्किट हाउस में उच्च स्तरीय बैठक ली, जिसमें मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी मौजूद रहे। डीजीपी, आईजी, एसपी सहित कई आला अधिकारी बैठक में शामिल हुए। बैठक के बाद अमित शाह ने कहा कि यह लड़ाई रुकेगी नहीं, दोगुनी गति से नक्सलियों को मुंह तोड़ जवाब दिया जाएगा। उन्होंने आगे कहा कि चल रहे विकास कार्यों में तेजी लाई जाएगी। मैं आज छत्तीसगढ़ और भारत की जनता को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि इस घटना के बाद हम इस लड़ाई को तेज करेंगे और विजय प्राप्त करेंगे।
विकास के मोर्चे पर ढेर सारे काम हुए हैं, कोरोना की वजह से गति थोड़ी प्रभावित हुई है। बैठक में जितने भी सुझाव मिले हैं, उन पर कार्रवाई चालू है। केंद्र और राज्य सरकार मिलकर नक्सली उन्मूलन अभियान को आगे ले जाएंगे। कैंप खुलने के बाद नक्सली बौखलाए हुए हैं। जहां मुठभेड़ हुई, वह इस बात को साबित करती है कि हम नक्सलियों के इलाके में बहुत अंदर तक पहुंच चुके हैं।

बीजापुर के बासागुड़ा में सीआरपीएफ कैंप में जवानों से की मुलाकात

गृह मंत्री शाह जगदलपुर में जवानों को श्रद्धांजलि देने और अफसरों के साथ बैठक के बाद बीजापुर में बासागुड़ा स्थित सीआरपीएफ के कैंप पहुंचे। इस दौरान शाह ने जवानों से बातचीत की और उनका हौसला बढ़ाया। कहा कि जवानों की शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी, पूरा देश और सरकार आपके साथ खड़ी है। इस दौरान दो मिनट का मौन भी रखा गया। बीजापुर से अमित शाह जगदलपुर के लिए निकल गए। यहां वे से वे रायपुर पहुंचेंगे जहां अलग-अलग चार अस्पतालों में भर्ती घायलों जवानों से मुलाकात की।

इस लड़ाई को हम विजय में बदलेंगे, केंद्र के साथ मिलकर काम कर रहे

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि इस घटना ने सबको झकझोर कर रख दिया है। यह सूचना भी मिल रही है कि नक्सलियों को भारी क्षति हुई है। चार ट्रैक्टर में भरकर नक्सली अपने साथियों को ले गए है। कुछ दिन में आंकड़ा साफ हो जाएगा। उन्होंने कहा कि कैंपों का विस्तार लगातार जारी रहेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र और राज्य मिलकर नक्सलियों के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं। संकट की घाटी में पूरा देश जवानों के साथ खुश है।
उन्होंने कहा, इस लड़ाई को हम विजय में बदलेंगे। जवानों ने नक्सलियों के गढ़ में घुसकर मारा है। नक्सली अब सिमट गए हैं। कहा, भारत सरकार और राज्य सरकार की ओर से विकास के कार्य में गति लाने का काम किया जा रहा है। इससे पहले रविवार रात असम दौरे से लौटने के बाद उन्होंने कहा था कि यह मुठभेड़ नहीं, युद्ध हुआ है। नक्सलियों की यह अंतिम लड़ाई है। उनकी मांद में घुसकर जवानों ने उन्हें मारा है।

नक्सलियों ने कहा- बीजापुर मुठभेड़ के बाद लापता जवान हमारे कब्जे में

बीजापुर के तर्रेम में 3 अप्रैल को नक्सलियों के साथ हुई मुठभेड़ में लापता जवान का पता चल गया है। नक्सलियों ने ही मीडिया को वॉट्सएप कॉल पर जवान के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि जवान उनके पास है, पर उसे किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा। वह सुरक्षित है। कोबरा बटालियन के इस जवान का नाम राकेश्वर सिंह मनहास है। वह जम्मू-कश्मीर का निवासी है। बीजापुर एसपी कमल लोचन ने इस जवान की लोकेशन नहीं मिलने की बात कही थी। नक्सलियों से मुठभेड़ के दौरान 23 जवान शहीद हुए थे।

पत्नी बोलीं- अभिनंदन की तरह मेरे पति को भी सुरक्षित लाए सरकार

कोबरा कमांडो राकेश्वर की पत्नी मीनू का कहना है कि छत्तीसगढ़ सरकार नक्सलियों की जो भी डिमांड है, उसे पूरा करे और पति की रिहा कराए। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस तरह पाकिस्तान से अभिनंदन को छुड़ाया था, उसी तरह मेरे पति को भी नक्सलियों के कब्जे से छुड़ाकर लाएं। मीनू के मुताबिक, सीआरपीएफ कंट्रोल रूम फोन करने पर भी सही जानकारी नहीं मिल रही है।

ऑपरेशन से लौटते वक्त हुआ हमला, 4 घंटे तक फायरिंग हुई

घायल एएसआई आनंद कुसाम ने बताया कि हमारे साथ 450 जवानों की पार्टी थी। जिस ऑपरेशन के लिए भेजा गया था, उसे खत्म कर लौट रहे थे। जब ऑपरेशन के लिए गए थे, तब कोई नक्सली हलचल नहीं थी। लौटे तो करीब 700 नक्सलियों ने घेरकर फायरिंग शुरू कर दी। सुबह 11 बजे मुठभेड़ शुरू हुई जो दोपहर 3 बजे तक चलती रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here