Home खास ख़बरें वैक्सीन की अहमियत सभी को पता चल रही, इसे लेकर किसी अफवाह...

वैक्सीन की अहमियत सभी को पता चल रही, इसे लेकर किसी अफवाह में न आएं

9
0

नई दिल्ली,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को रेडियो कार्यक्रम मन की बात के 76वें एपिसोड के दौरान देश को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर के बीच वैक्सीन की अहमियत सभी को पता चल रही है। किसी अफवाह में न आएं। भारत सरकार की तरफ से सभी राज्य सरकारों को फ्री वैक्सीन भेजी गई है। 45 साल की उम्र के ऊपर के लोग इसका लाभ ले सकते हैं। एक मई से 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीन लगेगी। उन्होंने साफ किया कि भारत सरकार की तरफ से मुफ्त वैक्सीन का कार्यक्रम आगे भी चलता रहेगा। मेरा राज्यों से भी आग्रह है कि वो भारत सरकार के मुफ्त वैक्सीन अभियान का लाभ ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाएं।
कोरोना और वैक्सीनेशन पर डॉक्टर्स से बात की
सबसे पहले मोदी ने मुंबई के डॉ. शशांक से बात की। इस दौरान डॉ. शशांक ने बताया कि लोग बहुत देर से ट्रीटमेंट शुरू करते हैं। सरकारी सूचनाओं का पालन करें तो इस कठिनाई का सामना नहीं करना पड़ेगा। हल्के कोविड के लिए हम ऑक्सीजन मॉनिटर करते हैं, बुखार देखते हैं। बुखार बढ़ने पर पैरासिटामॉल देते हैं। मध्यम कोविड में डॉक्टर के साथ संपर्क जरूरी है। सही और सस्ती दवाई लेनी चाहिए। ऑक्सीजन भी देनी पड़ती है। अक्सर क्या हो रहा है कि रेमडेसिविर है, इसकी वजह से अस्पताल में कम दिन रहना पड़ता है। इसके शुरुआती इस्तेमाल से ही फायदा है, लेकिन इसके पीछे दौड़ना नहीं चाहिए। डॉक्टरों के बताने पर ही लें। प्राणायाम से फायदा होगा। खून पतला करने वाले इंजेक्शन से लोग ठीक हो जाते हैं। सलाह लेना जरूरी है। महंगी दवाइयों के पीछे दौड़ना जरूरी नहीं है। इसके बाद मोदी ने डॉ. नाबिद से बात की। इस दौरान नाबिद ने कहा कि खौफ का माहौल था, कोविड को मौत ही मानने लगे थे लोग। अस्पतालों के स्टाफ में भी खौफ का माहौल था। वक्त गुजरने के साथ हमने देखा कि प्रोटेक्टिव गियर और सावधानियों से सभी सेफ रह सकते हैं। हमने देखा कि 90-95% मरीज बिना दवाइयों के ठीक हो रहे हैं। सेकंड वेव में भी पैनिक होने की जरूरत नहीं है। प्रोटेक्टिव रास्तों और प्रोटोकॉल का पालन करेंगे तो सेफ रहेंगे। मास्क पहने, सोशल डिस्टेंसिंग रखें। हमारे मुल्क में दो वैक्सीन कोवैक्सिन और कोवीशील्ड हैं। जम्मू-कश्मीर की बात है तो यहां 15-16 लाख लोगों ने वैक्सीन लगवाई है। सोशल मीडिया पर साइड इफेक्ट को लेकर भ्रम था। अभी तक हमें ये देखने को नहीं मिले हैं। आम वैक्सीन में बुखार आदि आना आम है। वैक्सीन के बाद लोग पॉजिटिव हो सकते हैं, लेकिन बीमारी गंभीर नहीं होगी। जानलेवा नहीं साबित होगी।
पिछली बार इन पर अपनी बात रखी थी
इससे पहले उन्होंने अपने मन की बात 28 मार्च को की थी। इस दौरान उन्होंने प्रोग्राम को सफल बनाने के लिए लोगों का धन्यवाद करते हुए पर्यावरण को बचाने की दिशा में प्रयास करने पर बल दिया था। इसके लिए उन्होंने हर बार की तरह प्रेरणा देने वाले कुछ उदाहरण भी दिए थे, जिनमें ऐसे लोगों के बारे में बताया गया था जो प्रकृति को बचाने के लिए कई बड़े प्रयास कर रहे हैं। इस दौरान पीएम मोदी ने गौरिया और लाइट हाउस टूरिज्म के साथ अमृत महोत्सव, जनता कर्फ्यू, सदाबहार जंगलों आदि का जिक्र किया था।

Previous articleपहली बार सौ पार कोरोना संक्रमितों की मौत
Next articleफेफड़े में संक्रमण के चलते जस्टिस मोहन एम शांतनागोदर का निधन; प्रमोशन में आरक्षण मामले पर दिया था जजमेंट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here