Home खास ख़बरें तेजी से बढ़ रहा मानसून; मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश, बिहार, दिल्ली...

तेजी से बढ़ रहा मानसून; मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश, बिहार, दिल्ली समेत इन हिस्सों के लिए जारी हुआ IMD का अलर्ट

26
0

नई दिल्ली। दक्षिण पश्चिम मानसून शुक्रवार को उत्तरी अरब सागर, गुजरात, सौराष्ट्र से होते हुए राजस्थान, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में पहुंच गया है। इससे शनिवार को यह दक्षिण राजस्थान के कुछ और हिस्सों समेत पश्चिमी उत्तर प्रदेश में आगे बढ़ने की संभावना है। एक लंबे समय तक चलने वाले चक्रवाती परिसंचरण के अगले सप्ताह तक पूर्वी-उत्तर प्रदेश से बिहार तक में रहने की उम्मीद है। इन चक्रवाती हवाओं के क्षेत्र में पूर्वोत्तर भारत के कुछ हिस्सों में गरज के साथ बारिश होने की भी संभावना है।

भारतीय मौसम विभाग (IMD) के अनुसार अगले कुछ दिन दिल्ली में आंशिक तौर पर बादल छाए रहने और गरज के साथ बौछारें पड़ने का अनुमान है। वहीं उत्तर प्रदेश में बारिश गतिविधियां बढ़ने के आसार हैं। साथ ही साथ मानसून भी आगे बढ़ सकता है। इधर, नेपाल में लगातार हो रही बारिश से बिहार की नदियां उफान पर नजर आ रहीं है। बाढ़ जैसी स्थिति कई जिलों में बनी हुई है। झारखंड, बंगाल अगले तीन दिन और भारी बारिश की संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली, पंजाब समेत अन्य हिस्सों में मानसून को पहुंचने में और 4 से 5 दिन लग सकते हैं।

बारिश के चलते उत्तराखंड की नदियां उफान पर

मानसून के दक्षिण-पूर्वी हवा के प्रसार के कारण उत्तराखंड के पूर्वी हिस्से में भारी बारिश होने की उम्मीद है। यहां पिछल कई दिनों से भारी बारिश हो रही है, पहाड़ी क्षेत्रों की अधिकतर नदियां उफान पर हैं। वहीं, आइएमडी ने बताया कि शनिवार को उत्तराखंड में कुल 80-100 मिमी बारिश हो सकती है। शनिवार से रविवार तक पूर्वी उत्तर प्रदेश और पश्चिम बिहार सहित कई क्षेत्रों में भारी बारिश होने के आसार हैं। इन क्षेत्रों में दैनिक बारिश के आंकड़े 50-80 मिमी तक पहुंच जाएंगे। इसके साथ ही मध्य, पूर्व और पूर्वोत्तर भारत के कुछ हिस्सों में अगले कुछ दिनों तक गरज के साथ छिटपुट बारिश जारी रहेगी।

बिहार के कई हिस्सों में चार से पांच दिन में भारी बारिश की संभावना

बिहार में बारिश को लेकर आइएमडी ने कहा कि यहां अगले 4 से 5 दिनों के दौरान कुछ स्थानों पर बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है। अगले 24 घंटों के दौरान उत्तर पश्चिमी भारत के अधिकांश हिस्सों में छिटपुट गरज के साथ बारिश और बिजली गिरने की भी भविष्यवाणी की गई है। इसके साथ ही कोंकण और गोवा में और तटीय कर्नाटक में अलग-अलग स्थानों पर बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है।

Previous articleअसम में योजनाओं में लाभ के लिए चरणबद्ध तरीके से लागू की जाएगी दो बच्‍चे की योजना : सरमा
Next articleअमेरिका बनाएगा कोरोना की पहली दवा, एंटीवायरल दवा विकसित करने के लिए देगा 3.2 अरब डॉलर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here