Home खास ख़बरें दिग्जिय सिंह का बयान- कांग्रेस सत्ता में लौटी तो कश्मीर में धारा-370...

दिग्जिय सिंह का बयान- कांग्रेस सत्ता में लौटी तो कश्मीर में धारा-370 पर होगा पुनर्विचार! भाजपा हमलावर, एनआईए से जांच की मांग

244
0

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह बोले कांगे्रस की मानसिकता उजाकर
भोपाल।
क्लब हाउस चैट का वीडियो वायरल होने के बाद देश की राजनीति में फिर एक बार दिग्विजय सिंह के बयान को लेकर भाजपा हमलावर हो गई है। वायरल चैट के ऑडियो में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह कथित तौर पर कह रहे हैं कि यहां से जब धारा-370 हटाई गई, तब लोकतंत्रिक मूल्यों का पालन नहीं किया गया। इस दौरान न ही इंसानियत का तकाजा रखा गया और इसमें कश्मीरियत भी नहीं थी। सभी को कालकोठरी में बंद कर दिया गया। अगर कांग्रेस सरकार सत्ता में आई, तो हम इस फैसले पर फिर से विचार करेंगे और धारा-370 लागू करेंगे। हालांकि स्वदेश समाचार-पत्र और स्वदेश डॉट इन वेबसाइट वायरल चैट व ऑडियो की पुष्टि नहीं करता। इस मामले के सामने आने के बाद दिग्विजय सिंह भाजपा के निशाने पर आ गए हैं।

कांग्रेस का हाथ पाकिस्तान के साथ
प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कश्मीर भारत का मुकुटमणी है, अभिन्न अंग है, ये कांग्रेस ही थी जिसने कश्मीर में धारा-370 लगाने का पाप किया था। हमारे यशस्वी प्रधानमंत्री जी, भाजपा सरकार ने धारा-370 हटा दी, अब देश में दो विधान, दो निशान नहीं हैं। लेकिन अब फिर पाकिस्तान की भाषा बोल रही है। उनके नेता दिग्विजय कहते हैं धारा 370 हटाने पर पुर्विचार किया जाएगा? क्या पुनर्विचार करेगी कांग्रेस?, क्या फिर धारा-370 थोप के अलगाववाद को हवा देगी? आतंकवाद को प्रश्रय देगी, कांग्रेस का हाथ पाकिस्तान के साथ। यह कांग्रेस की पाकिस्तानी मानसिकता है। जो पाकिस्तान कहता है वही कांग्रेस कहती है। सोनिया जी जवाब दो, देश आपसे जवाब चाहता है।

दिग्विजय सिंह का बयान देश के साथ गद्दारी है

क्लब हाउस चैट वायरल होने के बाद भाजपा दिग्विजय सिंह पर हमलावर है। प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने दिग्विजय सिंह पर हमला बोलते हुए कहा कि वे क्लब हाउस चैट में पाकिस्तानी पत्रकारों के साथ देश में कांगे्रस शासन आने पर कश्मीर से धारा 370 हटाने कीबात कहते हैं। क्लब हाउस में यह विचार व्यक्त कर रहे हैं। दिग्विजय सिंह आपके पुरखे भी आ जाएं, फिर भी कश्मीर में अब धारा 370 लागू नहीं हो सकता। जवाहरलाल ने कोशिश की होगी कि कश्मीर भारत से अलग हो जाए। पर अब दिग्विजय सिंह जैसे सैकड़ों नेता आ जाएं, लेकिन कश्मीर को भारत से अलग नहीं कर सकते। अब देश में भाजपा और नरेंद्र मोदी की सरकार है, देशद्रोही पनप नहीं सकते हैं। पाकिस्तान और चाइना की परस्ती करने वाले नेता देश में रहने के लायक नहीं। दिग्विजय सिंह का बयान देश के साथ गद्दारी है।


एनआईए से जांच कराई जाए
मामले में प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि दिग्विजय सिंह की गतिविधियों की एनआईए जांच होनी चाहिए। वे जल्द ही एनआईए से जांच की मांग को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखने जा रहे हैं। श्री शर्मा ने कहा कि दिग्विजय सिंह के मोबाइल कॉल रिकॉर्ड की जांच होनी चाहिए।

Previous articleजरूरी चीजों की शनिवार रात 8 बजे तक कर लें खरीदारी क्योंकि रविवार टोटल लॉकडाउन जारी रहेगा
Next articleबिहार में सियासी अटकलों को मिली नई हवा, केंद्रीय मंत्रिमंडल को लेकर जदयू ने NDA के सामने रखी शर्त

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here