Home खास ख़बरें पेंच नेशनल पार्क में मिला नर बाघ का शव, मौत का कारण...

पेंच नेशनल पार्क में मिला नर बाघ का शव, मौत का कारण अज्ञात

18
0

सिवनी। छिंदवाड़ा-सिवनी जिले में फैले पेंच नेशनल पार्क के गुमतरा कोर एरिया में 22 मार्च की शाम एक वयस्क नर बाघ का करीब 4 से 5 दिन पुराना शव वन अमले को गश्ती के दौरान मिला है। बाघ की मौत का कारण फिलहाल अज्ञात है, शव के सभी अंग सुरक्षित पाए गए हैं। बाघ की मौत के मामले में पेंच पार्क के अधिकारियों ने शिकार की संभावना से इंकार किया है।

अधिकारियों का कहना है कि शरीर में न कोई गन शॉट का निशान पाया गया है, ना ही शरीर पर चोट का निशान मिला है। शव 4 से 5 दिन पुराना होने के कारण पीएम रिपोर्ट से बाघ की मौत का अंदाजा लगा पाना संभव नहीं है। बाघ का बिसरा व अंगों के सैम्पल फारेंसिक जांच के लिए एकत्रित कर लिए गए हैं, जहां से रिपोर्ट मिलने के बाद मौत का कारण स्पष्ट हो सकेगा।

शाम 4.45 बजे गश्ती दल ने देखा शव

पेंच पार्क के फील्ड डायरेक्टर विक्रम सिंह परिहार ने बताया कि पेंच टाईगर रिजर्व के छिंदवाड़ा के गुमतरा कोर परिक्षेत्र में कोकीवाड़ा वृत्त की दांतफाड़िया बीट के कक्ष क्र.1440 में नर बाघ का शव 22 मार्च की शाम करीब 4.45 बजे गश्ती दल को मिला था।

इसकी सूचना मैदानी अमले द्वारा अधिकारियों को दी गई। इस पर घटनास्थल के चारों तरफ सुरक्षा घेरा डालकर क्षेत्र को सीलबंद करने के निर्देश अमले को दिए गए। वरिष्ठ अधिकारियों व एनटीसीए के प्रतिनिधि, छिंदवाड़ा कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक को घटना की सूचना दी गई।

तत्काल वरिष्ठ अधिकारीगण घटनास्थल पर पहुंचे तथा नर बाघ के शव का निरीक्षण दूर से किया । रात्रि होने से क्षेत्र की घेराबंदी कर सुरक्षा हेतु कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई। सुबह अधिकारियों व स्टाफ ने घटनास्थल व आसपास के करीब एक किमी दायरे में स्निीफर डाग की मदद से सर्चिंग की। जांच के दौरान मौके पर कोई संदिग्ध वस्तु नहीं मिली।

पीएम के बाद जलाया शव

23 मार्च को राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (एनटीसीए) द्वारा निर्धारित मापदंड अनुसार सुबह शव का परीक्षण व पोस्टमार्टम एनटीसीए प्रतिनिधि रजत ठानेकर व अधिकारियों की उपस्थिति में पेंच के वन्यप्राणी चिकित्सक डॉ. अखिलेश मिश्रा ने किया। मृत नर बाघ की उम्र 6-7 वर्ष होने का अनुमान है। पोस्टमार्टम में बाघ के सभी अंग (नाखून, बाल, खाल, दांत, आदि) सुरक्षित पाए गए है।

वैज्ञानिक जांच हेतु बिसरा एवं अन्य आवश्यक नमूनों को एकत्र किया गया। पोस्टमार्टम उपरांत मृत नर बाघ के शव को सभी अंगों सहित घटना स्थल पर मुख्य वन संरक्षक छिंदवाड़ा केके भारद्वाज, पेंच पार्क के उपसंचालक एमबी सिरसैया, छिंदवाड़ा क्षेत्र सहायक वन संरक्षक भारती ठाकरे व अन्य अधिकारियों, कर्मचारियों तथा एनटीसीए के प्रतिनिधियों की मौजूदगी में शव को जला दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here