Home खास ख़बरें कांग्रेस ने गरीबी मिटाने का किया छलावा : गृह मंत्री

कांग्रेस ने गरीबी मिटाने का किया छलावा : गृह मंत्री

31
0
  • प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आठ लाख लोगों को दिए जा रहे मकान : मुख्‍यमंत्री

जबलपुर। वेटरनरी कालेज के उज्‍ज्‍वला 2.0 कार्यक्रम का शुभारंभ करते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि देश में पहली बार भाजपा को पूर्ण बहुमत मिला, तब प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी को काम करने का मौका मिला। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मेरी सरकार गरीबों की सरकार है। कांग्रेस ने गरीबी मिटाने का सिर्फ छलावा किया है। 2014 से 2019 तक जो कहा वह पीएम मोदी ने करके दिखाया। श्री शाह ने कहा कि 2014 तक गांव की महिला लकड़ी बीन कर खान बनाती थी। सिर्फ 13 करोड़ ही गैस कनेक्शन था।

चाय बेचने वाले बेटे ने गांव के लोगों को नया जीवन दिया। देखते-देखते नौ करोड़ महिलाओं को गांव की महिलाओं को गैस कनेक्शन दिए गए। सिर्फ गैस ही नहीं जन धन योजना से बैंक अकाउंट भी खुलवाए। 20 हजार गांव में बिजली भी पहुंचाई। अब लोग पांच लाख तक का इलाज करवा सकते हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने वादा नहीं किया बल्कि जनता तक सुविधाएं भी पहुंचाईं। कांग्रेस की सरकार आने के बाद लोगों को यह पता चल गया कि कौन सरकार बेहतर है। इसके बाद उन्‍होंने मंच से रेनू गोटिया, शबाना बेगम, सोनू बेन, ज्योति प्रजापति, निशा कुशवाहा को गैस कनेक्शन की प्रति प्रतीक चिन्ह भेंट किया।

एक करोड़ महिलाओं को गैस कनेक्शन देने का लक्ष्य

वेटरनरी कालेज के कैंपस में शनिवार को आयोजित उज्‍ज्‍वला कार्यक्रम में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने उज्‍ज्‍वला की दूसरी कड़ी का शुभारंभ किया। इस कड़ी में देश में लगभग एक करोड़ महिलाओं को गैस कनेक्शन देने का लक्ष्य है। सबसे पहले उन्‍होंने दीप प्रज्‍ज्‍वलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

कार्यक्रम में मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तुलसी का पौधा भेंट कर अमित शाह का स्‍वागत किया। स्‍वागत भाषण सांसद राकेश सिंह ने दिया। कार्यक्रम में उपस्थित केंद्रीय राज्यमंत्री पैट्रोलियम रामेश्वर तेली ने उद्बोधन देते हुए कहा कि ग्रामीण आर्थिक तंगी के कारण गैस पर खाना नहीं बना पाते थे, जिन्‍हें अब सुविधा होगी। मध्यप्रदेश में आज एक सौ पचास लाख में से 140 लाख उपभोक्ताओं को गैस कनेक्शन दिया जा चुका है। मध्यप्रदेश के 48 जिलों में जहां 90 फीसद से कम कनेक्शन है। वहां यह योजना प्राथमिकता से चलाई जाएगी। मध्‍य प्रदेश में अभी भी 27 लाख उपभोक्ताओं के पास एलपीजी गैस नहीं है। जो प्रदेश की कुल जनसंख्या का 15 फीसदी है।

प्रधानमंत्री आवास में दी जा रही सभी सुविधाएं

कार्यक्रम को संबाधित करते हुए मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि प्रदेश में आठ लाख प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान बनाकर लोगों को दिए जा रहे हैं। मकान में बिजली, पानी सहित सभी सुविधाएं मिलती हैं। हर गांव में पानी की पर्याप्त व्यवस्था की जा रही है पानी की टंकी बनाकर पाइप से पानी पहुंचाया जा रहा है। अब गांव में हैंडपंप जाने की जरूरत नहीं घर तक पानी आएगा। मध्य प्रदेश में 2 करोड आयुष्मान कार्ड बनाए गए हैं। सरकारी में नहीं प्राइवेट हॉस्पिटल में गरीबों को पांच लाख रुपये का इलाज दिया जा रहा है।

समारोह में शामिल होने के पूर्व गृह मंत्री और मुख्यमंत्री आयोजन स्थल के पास लगाई गई प्रदर्शनी का अवलोकन किया। इस प्रदर्शनी में 12 स्व-सहायता समूह द्वारा किए जा रहे कार्यों का प्रदर्शन किया जा रहा है। प्रदर्शनी के बाद उज्‍जवला योजना पर आधारित पांच मिनट की फिल्म दिखाई गई। इसमें यह बताया गया कि इस योजना के तहत कैसे काम किया जाएगा और महिलाओं को किस तरह का फायदा मिल रहा है और आगे भी मिलता रहेगा। इसके बाद केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह वर्चुअल कांफ्रेंस के माध्यम से दिल्ली से आयोजन में मौजूद उपस्थित जनों को संबोधित करेंगे। इसके बाद पांच महिलाओं को गैस कनेक्शन देने के लिए प्रमाण पत्र और प्रतीक चिन्ह भेंट किया जाएगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह द्वारा आयोजन के पूर्व कन्या पूजन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया।

तेल के भी दाम बढ़ रहे, लेकिन कोई बोलता नहीं

श्रम एवं रोजगार पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस राज्यमंत्री रामेश्वर तेली ने उज्जवला योजना के हितग्राहियों के लिए गैस के दाम कम करने के सवाल पर कहा कि तेल के भी दाम बढ़ रहे हैं लेकिन कोई बोलता नहीं है। देश टैक्स से चलता है। कोविड-19 से बचाव के लिए इंजेक्शन लगवाया उसमें क्या पैसे देने पड़े किसी को। उन्होंने साफ किया कि उज्जवला योजना गरीब महिलाओं के लिए है।

रामेश्वर तेली ने बताया कि असंगठित श्रमिकों को पंजीकृत करने का प्रयास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया है। कोरोना संक्रमण काल के दौरान कितने असंगठित मजदूर बेरोजगार हुए इसका कोई डेटा नहीं था ऐसी स्थिति में सरकार उन्हें चिन्हित नहीं कर पा रही थी। ई-श्रम पोर्टल के माध्यम से असंगठित मजदूर खुद को पंजीकृत करवा सकते हैं।

नेशनल हेल्प डेस्क 14434 पर फोन करके असंगठित मजदूर अपना पंजीयन करा सकते हैं उन्हें इसके लिए कुछ जरूरी दस्तावेज उपलब्ध कराने होंगे राज्य मंत्री रामेश्वर तेली श्रमिक संगठनों के साथ आइआइआइटीडीएम में संवाद कर रहे थे इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से भी बात की चर्चा के दौरान श्रमिक संगठनों के नेताओं ने भी श्रम में पंजीयन के दौरान कई अन्य सुविधाओं को जोड़ने की बात कही जिसे राज्य मंत्री ने अमल में लाने का भरोसा दिया कार्यक्रम श्रम विभाग के विभिन्न अधिकारी एवं असंगठित मजदूर संगठन के प्रतिनिधि शामिल रहे।

Previous articleमध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा सहित देश के नौ स्‍थानों पर जनजातीय संग्रहालय बनेंगे : अमित शाह
Next articleकैप्‍टन अमरिंदर सिंह का मुख्यमंत्री पद से इस्‍तीफा, कहा- मेरा अपमान किया गया, खुले है सभी विकल्‍प

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here