Home खास ख़बरें महाराष्‍ट्र में कल से लग सकता है संपूर्ण लॉकडाउन! सभी मंत्रियों ने...

महाराष्‍ट्र में कल से लग सकता है संपूर्ण लॉकडाउन! सभी मंत्रियों ने की ये अपील

19
0

मुंबई। महाराष्ट्र में कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए लागू प्रतिबंध नाकाफी साबित हो रहे हैं। ऐसे में महाराष्ट्र में संपूर्ण लॉकडाउन की संभावना तेज हो गई है। वहीं महाराष्ट्र कैबिनेट ने राज्य में सख्त लॉकडाउन की सिफारिश की है। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि कैबिनेट मीटिंग में तय हुआ की लॉकडाउन लगाना ही पड़ेगा। ऐसे में कल (बुधवार) रात आठ बजे से कड़े तरीके से लॉकडाउन लगाया जाएगा लेकिन इसकी घोषणा सीएम जल्द कर सकते हैं।
महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने मंगलवार को कहा कि हमने सीएम उद्धव ठाकरे से अनुरोध किया है कि वे बुधवार शाम 8 बजे से राज्य में संपूर्ण लॉकडाउन की घोषणा करें। प्रदेश के सभी मंत्रियों ने सीएम से अपील की है कि वो लॉकडाउन पर जल्द निर्णय लें।

संपूर्ण लॉकडाउन की ओर महाराष्ट्र

उधर, महाराष्ट्र सरकार में मंत्री असलम शेख ने कहा कि मेडिकल और ऑक्सीजन की सप्लाई की कमी को देखते हुए महाराष्ट्र पूर्ण लॉकडाउन की ओर बढ़ रहा है। इसके बारे में गाइडलाइंस जल्द ही घोषित किए जाएंगे।

ऑक्सीजन की कमी से परेशान राज्य सरकार

राजेश टोपे ने कहा कि महाराष्ट्र में ऑक्सीजन की खपत भी बहुत ज्यादा है। वर्तमान समय में 1500 मीट्रिक टन ऑक्सीजन लग रहा है। लेकिन आने वाले समय में यह संख्या 2000 मीट्रिक टन तक पहुंच जाएगी। पड़ोस के राज्यों से हम 300 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मंगा जरूर रहे हैं, लेकिन कई सारी दिक्कतें हैं। कैबिनेट की बैठक में ऑक्सीजन जनरेटर लगाने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए हमने हर कलेक्टर को अपने जिले में एक या दो प्लांट्स बनाने के लिए कहा है।

महाराष्ट्र में कर्फ्यू के बावजूद संक्रमण बेकाबू

राज्य में पिछले 24 घंटों के दौरान यहां 58,924 नए केस सामने आए हैं। इसी दौरान 351 लोगों की मौत भी हुई है। इस बीच सरकार की तरफ से गाइडलाइंस जारी की गई हैं। इसके मुताबिक किराना, फल-सब्जियों की दुकानें, डेयरी, बेकरी, कन्फेक्शनरी, खाने-पीने की दूसरी वस्तुओं (चिकन, मटन, पोल्ट्री, मछली और अंडे समेत) की दुकानें और कृषि उपज मंडी सुबह 7 बजे से 11 बजे के तक खोली जा सकेंगी। वहीं रेस्तरां और ई-कॉमर्स के जरिए होम डिलीवरी की परमिशन रात 8 बजे तक रहेगी। ये नियम संबंधित जिलाधिकारी अपने यहां की स्थिति को देख कर बदल भी सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here