Home खास ख़बरें विजय माल्या के 6,200 करोड़ के शेयर बेचकर लोन की रिकवरी करेंगे...

विजय माल्या के 6,200 करोड़ के शेयर बेचकर लोन की रिकवरी करेंगे बैंक

43
0

नई दिल्ली। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की अगुवाई में बैंकों का एक ग्रुप देश से भागे हुए कारोबारी विजय माल्या की तीन कंपनियों में शेयरहोल्डिंग बेचकरxकिंगफिशर एयरलाइंस को दिए गए 6,200 करोड़ रुपये से अधिक के लोन की रिकवरी करेगा. यूनाइटेड ब्रूवरीज लिमिटेड, यूनाइटेड स्पिरिट्स लिमिटेड और मैकडॉवेल होल्डिंग्स लिमिटेड में माल्या के शेयर्स बल्क डील्स के जरिए 23 जून को बेचे जाएंगे. माल्या की किंगफिशर एयरलाइंस अक्टूबर 2012 से बंद है. माल्या को जनवरी 2019 में लोन पर डिफॉल्ट करने और कथित तौर पर बैंकों के साथ धोखाधड़ी करने के लिए देश से भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित किया गया था. वह ब्रिटेन की अदालतों में प्रत्यर्पण के खिलाफ मामला लड़ रहे हैं.अगर माल्या के शेयर्स की बिक्री होती है तो यह बैंकों की किंगफिशर विजय माल्या मामले में पहली बड़ी रिकवरी होगी. किंगफिशर को दिया गया लोन 2012 के अंत में नॉन परफॉर्मिंग एसेट बन गया था. माल्या ने मार्च 2016 में देश छोड़ा था. उन पर 17 बैंकों के साथ धोखाधड़ी करने का आरोप है. दस्‍तावेजों के अनुसार, शेयर्स की बिक्री बेंगलुरू के डेट रिकवरी ट्राइब्यूनल (DRT) की निगरानी में होगी, जिसने रिकवरी ऑफिसर को 6,203 करोड़ रुपये के लोन की रिकवरी के लिए शेयर्स बेचने को अधिकृत किया है. अगर ब्लॉक डील के तहत शेयर्स की बिक्री नहीं हो पाती तो बैंक ब्लक या रिटेल के जरिए से शेयर्स बेच सकते हैं. किंगफिशर को लोन देने वाले बैंकों में SBI के अलावा पंजाब नेशनल बैंक, IDBI बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, इलाहाबाद बैंक, फेडरल बैंक और एक्सिस बैंक शामिल हैं. इस मामलें में भगोड़े विजय माल्या ने पिछली बार मीडिया में दिए अपने बयान में यह दावा किया था कि उसका जितना उधार है उससे ज्यादा की संपत्ति जब्त कर ली गई है. एक ट्वीट में माल्या ने कहा था कि ‘टीवी देख रहा हूं और बार-बार मेरे नाम का जिक्र धोखेबाज के तौर पर हो रहा है. क्या कोई यह नहीं मानता है कि किंगफिशर एयरलाइन के उधार से अधिक मेरी संपत्ति को ईडी ने कुर्क कर लिया है. क्या मैंने कई बार नहीं कहा कि मैं 100 फीसदी उधार वापस कर दूंगा? चीटिंग या फ्रॉड कहां हैं?’

Previous articleजेपी नड्डा ने दिया सरकार और संगठन में समन्वय का मंत्र, कुछ दिन बाद फिर होगा मंथन
Next articleपं. माधवराव सप्रे की 150वीं वर्षगांठ पर विशेष: विरासत का स्मरण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here