Home खास ख़बरें असम चुनाव: गृहमंत्री शाह ने पूछा सवाल- अपनी गोद में बदरुद्दीन को...

असम चुनाव: गृहमंत्री शाह ने पूछा सवाल- अपनी गोद में बदरुद्दीन को लेकर घूम रहे राहुल घुसपैठ रोक सकते हैं क्या?

12
0

गुवाहाटी। असम के दो दिन के चुनावी दौरे पर पहुंचे केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कांग्रेस पर करारा हमला बोला। असम के नाजीरा में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि कांग्रेस ने केरल में देश को तोडऩे का काम करने वाली मुस्लिम लीग के साथ गठबंधन किया है। असम में उसने बदरुद्दीन अजमल और बंगाल में फुरफुरा शरीफ के नेता के साथ गठबंधन किया है। चुनाव जीतने के लिए कांग्रेस किसी भी स्तर तक जा सकती है। शाह ने पूछा बताएं राहुल अपनी गोद में बदरुद्दीन अजमल को लेकर घूम रहे हैं, वह घुसपैठ रोक सकते हैं क्या?

शाह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी राहुल गांधी के नेतृत्व में चल रही है लेकिन उनके कंधे पर बदरुद्दीन अजमल बैठे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी को दिया गया आपका एक-एक वोट बदरुद्दीन अजमल को मिलेगा और असम को घुसपैठियों से भर देगा। हमें पांच साल और मौका दीजिए, हम असम को बाढ़ मुक्त और घुसपैठ मुक्त बनाने का वादा करते हैं। हम जो कहते हैं, वह करते हैं। पांच साल के बाद असम में न आंदोलन है, न आतंकवाद है। शांति के साथ प्रदेश में विकास हो रहा है।

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि आने वाले पांच वर्षों में हम असम से घूसपैठ को पूरी तरह से खत्म कर देंगे। पांच साल पहले हमने वादा किया था कि आप एक बार असम में भाजपा की सरकार बनाइए, हम असम को आतंकवाद से मुक्त करेंगे। मैं नाजिरा के लोगों से पूछना चाहता हूं कि पिछले पांच साल में यहां गोली चलने या आतंकवाद की कोई आवाज आई है क्या? एक ओर कांग्रेस पार्टी है जो तोडऩे में विश्वास रखती है और दूसरी और भाजपा है जो जोडऩे में विश्वास रखती है। असम से बहुत समय के बाद आतंकवाद, बंदूक, बम, धमाके गए हैं और रोड, ब्रिज बन रहे हैं।

इससे पहले अमित शाह ने असम के तिनसुकिया में एक जनसभा को संबोधित किया। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस पार्टी ने राज्य में 15 साल तक शासन किया लेकिन पड़ोसी देशों से अवैध घुसपैठ को रोकने के लिए कुछ नहीं किया। कांग्रेस ने राज्य में लंबा शासन चलाने के बावजूद चाय बागान के मजदूरों के लिए क्या किया? हमारी सरकार ने चाय बागान में मजदूरी मुआवजा योजना के तहत गर्भवती महिलाओं के लिए 12 हजार रुपये देना शुरू किया है। अब यह राशि 18 हजार रुपये की गई है। हम आने वाले पांच वर्षों में असम से घूसपैठ को पूरी तरह से खत्म कर देंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here