Home » चीन की काट को भारत और अमेरिका समेत 14 देश आए साथ

चीन की काट को भारत और अमेरिका समेत 14 देश आए साथ

  • सप्लाई चेन के मामले में चीन को जवाब देने के लिए अमेरिका और भारत समेत दुनिया के 14 देश सामने आए हैं।
  • इंडो-पैसेफिक इकनॉमिक फ्रेमवर्क के तहत इन 14 देशों ने एक डील की है।
    नई दिल्ली ।
    सप्लाई चेन के मामले में चीन को जवाब देने के लिए अमेरिका और भारत समेत दुनिया के 14 देश सामने आए हैं। इंडो-पैसेफिक इकनॉमिक फ्रेमवर्क के तहत इन 14 देशों ने एक डील की है। इसके जरिए सप्लाई चेन को दुरुस्त तिया जाएगा। इसके अलावा इन्फॉर्मेशन शेयरिंग और क्राइसिस की स्थिति में सहयोग को लेकर भी करार हुआ है। इसी वीकेंड में डेट्रॉइट में आईपीईएफ देशों की मीटिंग हुई थी। इस दौरान ग्रुप ने आईपीईएफ की सप्लाई चेन काउंसिल को गठित करने पर सहमति जताई। ग्रुप की ओर से जारी बयान में यह जानकारी दी गई है। इसके माध्यम से चीन को जवाब देने की तैयारी है। इसके तहत सदस्य देशों ने ट्रेड, क्लीन इकॉनमी और फेयर इकॉनमी पर भी काम करने का फैसला लिया है। क्लीन इकॉनमी फ्रेमवर्क के तहत सदस्य देशों ने रीजनल हाइड्रोजन इनिशिएटिव शुरू करने का फैसला लिया है। भारत ने आईपीईएफ के 4 स्तंभों में से 3 को जॉइन करने का फैसला लिया है, जबकि ट्रेड पिलर में ऑब्जर्वर के तौर पर रहने की सहमति दी है। इस मीटिंग में भारत की ओर से वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल शामिल हुए। उन्होंने मीटिंग के बाद ट्वीट कर कहा कि भारत ने एक बार फिर से मजबूत सप्लाई चेन बनाने और क्लीन एवं फेयर इकॉनमी डिवेलप करने पर सहमति जताई है। अमेरिकी वाणिज्य मंत्री गिना रायमोंडो ने ट्वीट कर कहा कि हमें खुशी है कि हम पहली बार इस तरह के सप्लाई चेन अग्रीमेंट को लेकर आगे बढ़े हैं। अमेरिका की मंत्री ने कहा कि यह बड़ी डील है। यह अपने आप में पहला ऐसा अंतरराष्ट्रीय करार है, जब इंडो-पैसिफिक के 14 देशों ने सप्लाई चेन को लेकर साथ आने पर सहमति जताई है। भारत और अमेरिका के अलावा जिन देशों ने इस फ्रेमवर्क में शामिल होने का फैसला लिया है, उनमें ऑस्ट्रेलिया, इंडोनेशिया, जापान, साउथ कोरिया, मलयेशिया शामिल हैं। इनके अलावा न्यूजीलैंड, फिलीपींस, फिजी, ब्रूनेई, सिंगापुर, थाईलैंड और वियतनाम भी इसका हिस्सा होंगे। इस फ्रेमवर्क के जरिए सप्लाई चेन के मामले में चीन जैसे देश की निर्भरता कम करने का प्रयास होगा। दरअसल कोरोना काल में चीन के चलते दुनिया की सप्लाई चेन बाधित हुई थी। उसके बाद से ही ऐसे किसी फ्रेमवर्क की जरूरत महसूस की जा रही थी।

Swadesh Bhopal group of newspapers has its editions from Bhopal, Raipur, Bilaspur, Jabalpur and Sagar in madhya pradesh (India). Swadesh.in is news portal and web TV.

@2023 – All Right Reserved. Designed and Developed by Sortd