Home खास ख़बरें टोक्यो में भारत की चांदी

टोक्यो में भारत की चांदी

84
0
TOKYO, JULY 24 (UNI)- Saikhom Mirabai Chanu competes during the women's 49kg weightlifting event at Tokyo 2020 Olympic Games in Tokyo on Saturday. UNI PHOTO-50U
TOKYO, JULY 24 (UNI)- Saikhom Mirabai Chanu competes during the women’s 49kg weightlifting event at Tokyo 2020 Olympic Games in Tokyo on Saturday. UNI PHOTO-51U
Tokyo, July 24, 2021 (UNI):- Mira Bhai Chanu Saikhom has beocme the 1st Medal Winner of Tokyo Olymoics fior India with a SILVER in Weightlifting on Saturday. UNI Photo:Seshadri SUKUMAR
TOKYO, JULY 24 (UNI)- Saikhom Mirabai Chanu receives the silver medal after the women’s 49kg weightlifting event at Tokyo 2020 Olympic Games in Tokyo on Saturday. UNI PHOTO-52U
  • 21 साल बाद भारोत्तलन में जीता पदक
  • मीराबाई चानू ने 117 किलो वजन उठाकर रचा इतिहास

टोक्यो/नई दिल्ली। भारत की स्टार महिला भारोत्तलक मीराबाई चानू ने टोक्यो ओलंपिक 2020 में देश को पहला पदक दिला दिया है। चानू ने टोक्यो ओलंपिक में भारोत्तलन में पदक का भारत का 21 साल का इंतजार खत्म किया और रजत पदक जीतकर देश का खाता भी खोला। उन्होंने महिलाओं की 49 किग्रा वर्ग में क्लीन एंड जर्क में रजत पदक अपने नाम किया। चीन की हाऊ झिहू ने स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया। भारतीय भारोत्तलक मीराबाई चानू ने फाइनल प्रयास में 117 किलो का वजन उठाया और उन्हें रजत से संतोष करना पड़ा। उन्होंने दूसरे प्रयास में 115 किलो का वजन उठाया। हालांकि पहले प्रयास में वह केवल 110 किलो भार ही उठा पाई थी।

इससे पहले कर्णम मल्लेश्वरी ने सिडनी ओलंपिक 2000 में देश को भारोत्तलन में कांस्य पदक दिलाया था। वहीं गोल्ड जीतने वाली चीन की होऊ झीहुई ने कुल 210 किग्रा (94 किग्रा + 116 किग्रा) का भार उठाया। इंडोनेशिया की आइशा विंडी केंटिका ने कुल 194 किग्रा (84 किग्रा + 110 किग्रा) उठाकर कांस्य पदक जीता। मीराबाई 2017 में वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप (48 किलो) की चैंपियन बनी थीं। उन्होंने इस साल अप्रैल में 86 किलो स्नैच और विश्व कीर्तमान 119 किलो वजन उठाकर खिताब जीता था। उन्होंने कुल 205 किलो वजन उठाकर कांस्य पदक जीता था।

यह पदक मीराबाई के लिए इसलिए मायने रखता है क्योंकि 2016 में हुए रियो ओलंपिक के उनका प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा था। टोक्यो के लिए क्वालीफाई करने वाली इकलौती भारोत्तलक मीराबाई का रियो ओलंपिक में क्लीन एंड जर्क में तीन में से एक भी प्रयास वैलिड नहीं हो पाया था, जिससे 48 किग्रा में उनका कुल वजन दर्ज नहीं हो सका था। पांच साल पहले के इस निराशाजनक प्रदर्शन के बाद उन्होंने वापसी की और 2017 विश्व चैम्पियनशिप में और फिर एक साल बाद कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड मेडल जीतकर अपने आलोचकों को चुप कर दिया।

मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ दिया

यह पूछने पर कि मणिपुरी होने के नाते इसके क्या मायने है तो उन्होंने कहा कि मैं भारत के लिए पहला पदक जीतकर बहुत खुश हूं। मैं सिर्फ मणिपुर की नहीं हूं, मैं पूरे देश की हूं। पूरा देश मुझे देख रहा था, ऐसे में मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ दिया। चानू ने इस दिन को खास बनाने के लिए कान में ओलंपिक रिंग के आकार के बूंदे पहन रखे थे जो उनकी मां ने उन्हें भेंट दिये थे।

इससे अच्छा आगाज नहीं हो सकता था : मोदी

ओलंपिक में भारोत्तोलक मीराबाई चानू के रजत पदक जीतने की प्रशंसा करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को कहा कि भारत उनके शानदार प्रदर्शन से उत्साहित है और खेलों की इस बड़ी स्पर्धा का इससे अच्छा आगाज नहीं हो सकता था। मोदी ने चीयर4इंडिया हैशटैग के साथ ट्वीट किया-टोक्यो 2020 की इससे अच्छी शुरुआत नहीं हो सकती थी। भारत मीराबाई चानू के शानदार प्रदर्शन से उत्साहित है। भारोत्तोलन में रजत पदक जीतने के लिए उन्हें बधाई।

Previous article8 घंटे तक सतपुड़ा जलाशय के खुले सात गेट
Next articleहॉकी में पुरुष टीम का शानदार आगाज, न्यूजीलैंड को 3-2 से हराया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here