Home खास ख़बरें गांवों में कोरोना रोकने मध्यप्रदेश का मॉडल देशभर में होगा लागू

गांवों में कोरोना रोकने मध्यप्रदेश का मॉडल देशभर में होगा लागू

55
0
  • केंद्र सरकार ने मांगी जानकारी, मॉडल के रूप में करेंगे लागू
    भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा प्रदेश के गांवों को कोरोना से बचाने के लिए किए गए प्रयासों को देश में मॉडल के तौर पर लागू किया जाने वाला है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जिस तरह कोरोना कफ्र्यू, जनता कफ्र्यू, गांव बंदी और गांवों को संक्रमण से बचाने के लिए लोगों से अपील कर शादी समारोहों को टालने जैसे प्रयोगों को केंद्र सरकार से सराहा है। केंद्र सरकार ने राज्य सरकार ने गांव में कोरोना संक्रमण रोकने के लिए किए गए प्रयासों की जानकारी मांगी है। केंद्र मध्यप्रदेश के इस मॉडल को देश भर के गांवों में संक्रमण को रोकने के लिए लागू करने पर गंभीरता से विचार कर रहा है। गुरुवार को प्रदेश के गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि ग्रामीण इलाकों में अत्यधिक जागरुकता आई है। गांव के बाहर क्वॉरेंटाइन सेंटर बनाए गए हैं। गांव के लोग दूसरे लोगों को गांव के अंदर नहीं आने दे रहे हैं। अभी भी गांव में संक्रमण की दर 6 प्रतिशत तक ही है, इसलिए यह भ्रम नहीं होना चाहिए कि गांव में संक्रमण की दर अधिक है। शहरों में संक्रमण की दर अभी 13 प्रतिशत है।
    संक्रमण दर 13.8 फीसदी रह गई
    कोरोना नियंत्रण की स्थिति में लगातार सुधार हो रहा है कोरोना संक्रमण दर में निरंतर कमी आ रही है। मध्यप्रदेश में अब पॉजिटिविटी रेट 13.8 रह गया है। राष्ट्रीय स्तर पर भी अब हम सातवें स्थान से 16 वें स्थान पर पहुंच गए हैं। नए संक्रमित मरीजों से 1000 से ज्यादा लोग स्वस्थ होकर अपने घर लौट रहे हैं। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए ग्राम स्तर तक किए जाने वाले प्रबंध को मॉडल के रूप में अपनाते हुए केंद्र सरकार ने जानकारी मांगी है, ताकि मध्य प्रदेश मॉडल को अन्य राज्यों से लागू किया जा सके।
    दिवंगत अधिवक्ताओं के परिजनों को एक-एक लाख देगी सरकार
    गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मुख्यमंत्री अधिवक्ता कल्याण योजना के तहत 43 दिवंगत अधिवक्ताओं के परिवारों को राज्य सरकार एक-एक लाख रुपये की सहायता राशि देगी। वहीं कोरोना से गंभीर रूप से बीमार अधिवक्ताओं को पांच करोड़ रुपए की चिकित्सा सहायता राशि दी जाएगी। उक्त राशि राज्य अधिवक्ता परिषद द्वारा निर्धारित प्रपत्र प्रस्तुत करने पर इलाज करवाने वाले के खाते में डाली जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here