Home राजस्थान सब्जी बेच रही 60 साल की महिला को महामारी एक्ट में गिरफ्तार...

सब्जी बेच रही 60 साल की महिला को महामारी एक्ट में गिरफ्तार किया

83
0

जोधपुर पुलिस का एक चालान बहुत सुर्खियां में है। यहां बासनी थाना प्रभारी ने अपनी टीम के साथ ठेले पर सब्जी बेच रही एक महिला का न केवल चालान काटा बल्कि महामारी एक्ट के तहत उसके खिलाफ मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया। वहीं, शहर में कई बड़े दुकानदारों से लेकर शराब विक्रेता धड़ल्ले से बैकडोर से जमकर ग्राहकी कर रहे हैं। पुलिस उनकी तरफ आंख उठाकर देखने तक की हिम्मत नहीं कर पाती है। सोशल मीडिया पर लोग पुलिस के इस कदम पर सवाल उठा रहे हैं।

कोरोना को थामने के लिए प्रदेश में जन जागृति पखवाड़े के लॉकडाउन में पुलिस प्रयास कर रही है कि लोग अपने घरों में रहे और अना‌वश्यक बाहर न निकले। इसके लिए पुलिस बड़ी संख्या में चालान काट जुर्माना वसूल रही है। लेकिन इस खेल में बड़े खिलाड़ी आराम से अपना काम कर रहे हैं। पुलिस की गाज छोटे दुकानदारों पर गिर रही है। पुलिस के इस निराले खेल की शिकार हुई बासनी में ठेला लगाकर सब्जी बेचने वाली 60 वर्षीय संतोष घांची। बासनी क्षेत्र में स्थित सरकारी स्कूल के पीछे सब्जी बेचते समय पुलिस ने कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने का मामला दर्ज किया और उसे गिरफ्तार कर लिया।

आला अधिकारियों के सुपरविजन में महिला को पकड़ा

इस बारे में बासनी थानाधिकारी पाना चौधरी की तरफ से जारी प्रेस नोट में कहा गया है कि गाइडलाइन की पालना करवाने के लिए पुलिस उपायुक्त पश्चिम आलोक श्रीवास्तव के निर्देशानुसार अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त हरफूलसिंह व एसीपी नूर मोहम्मद के सुपरविजन में थाना क्षेत्र में गहन जांच की गई। इस दौरान एक महिला संतोष फल व सब्जी की दुकान लगाकर गाइडलाइन का उल्लंघन करते हुए पाई गई। उसके विरुद्ध महामारी एक्ट के तहत कार्यवाही की गई। पुलिस ने उक्त महिला को गिरफ्तार कर लिया।

सोशल मीडिया पर लोग जमकर कर रहे हैं पुलिस की खिंचाई

बासनी पुलिस की तरफ से इस बारे में प्रेस नोट जारी होते ही यह सोशल मीडिया पर छा गया। लोगों ने पेट पालने के लिए सब्जी बेच रही बुजुर्ग महिला की गिरफ्तारी पर सवाल खड़े किए। कुछ लोगों ने लिखा कि क्षेत्र में कई दुकानों पर धड़ल्ले से बैक डोर सामान बेचा जा रहा है, लेकिन उस पर पुलिस की नजर नहीं पड़ती। वहीं कुछ लोगों ने इस चालान को सही बताते हुए पुलिस से उम्मीद जताई है कि इसी तर्ज पर वे रसूख वाले दुकानदारों को भी नहीं छोड़ेंगे। कुछ ने कहा कि रसूखवालों पर पुलिस की नजर नहीं पड़ती है।

Previous articleकोरोना संकट में सोशल मीडिया पर मदद मांग रहे लोगों पर एक्शन ना लें राज्य सरकारें, SC की सख्त टिप्पणी
Next articleCM गहलोत बोले- संक्रमण रोकने के लिए कर्फ्यू आगे भी लागू रखें, गाइडलाइन और सख्त बनाएं; 1-2 दिन में ऐलान होगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here