Home » केसीआर की निगाह भी पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र पर, अब की बार किसान सरकार का ऐलान

केसीआर की निगाह भी पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र पर, अब की बार किसान सरकार का ऐलान

छत्रपति शंभाजी नगर (महाराष्ट्र): तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव के नेतृत्व वाली भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) ने विभिन्न राज्यों में अपनी उपस्थिति का विस्तार करने के प्रयास में पूरे देश में विकास के तेलंगाना मॉडल के व्यापक प्रचार की रणनीति के तहत इस बिंदु पर जोर देते हुए वे अब की बार किसान सरकार का ऐलान करते हैं।

बीआरएस जनसभा के लिए औरंगाबाद में जबरदस्त प्रतिक्रिया दिखी और अब की बार किसान सरकार के गूंजते नारों से पता चलता है कि कैसे केसीआर के भाषण मराठा क्षेत्र में जनता के बीच हलचल पैदा करते हैं।  तेलंगाना के मुख्यमंत्री की अब तक की लगातार तीसरी बैठक ने महाराष्ट्र के स्थानीय लोगों को विकास के मोर्चे पर तेलंगाना की प्रतिकृति को सुरक्षित रखने पर बल दिया है।

 बीआरएस से जुड़े नेताओं का मानना है कि आज विशेष रूप से युवाओं और किसानों की प्रतिक्रिया जबरदस्त थी और औरंगाबाद को जोड़ने वाला पूरा मराठवाड़ा क्षेत्र तेलंगाना के मुख्यमंत्री की घोषणाओं के बाद उत्साहित है।  उनका मानना ​​है कि हर गांव में पीने के पानी की व्यवस्था से लेकर किसानों को चौबीसों घंटे मुफ्त बिजली आपूर्ति जैसे मुद्दों पर काम करेंगे।

केसीआर की महाराष्ट्र में हुंकार भरते हुए कहा कि संसद भवन का नाम डॉक्टर अंबेडकर पर रखा जाए।

केसीआर ने केंद्र सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि भारतवर्ष अपने लक्ष्य से भटक गया है। बिना लक्ष्य का देश कहां पहुंचता है, यह प्रश्न हमारे सामने है। केसीआर ने कहा कि संविधान 70 साल पहले लागू हुआ, कई दल जीते, हारे, सरकारें बदलीं लेकिन आज तक दलितों का गरीब होना हम सबके लिए शर्म की बात है। इस स्थिति में परिवर्तन होना चाहिए। मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने महाराष्ट्र के छत्रपति संभाजी नगर (औरंगाबाद) में सोमवार को आयोजित रैली को संबधित करते हुए कहा कि महान देश भारत अपना लक्ष्य खो बैठा है। अगली सरकार बीआरएस की बनेगी, फिर बड़े स्तर पर राष्ट्रीयकरण होगा।सीधी ऊंगली से घी नहीं निकले तो उंगली टेढा करना होगा।डिजिटल इंडिया मजाक बन गया है।महाराष्ट्र में बीआरएस सरकार बनाइए तो प्रत्येक घर में पेय जल व्यवस्था की जाएगी. सभी शेतकारी को इकट्ठा होना चाहिए।मुख्यमंत्री ने कहा कि जल्द बीआरएस का स्थाई कार्यालय महाराष्ट्र में खुलेगा।

मुख्यमंत्री केसीआर ने कहा कि अपनी जाति किसान जाति होना होना चाहिए। महाराष्ट्र सरकार दलितबंधु योजना शुरू करे तो हम महाराष्ट्र छोड़ देंगे। दलितबंधु योजना के तहत दलित युवा को रोजगार शुरू करने दस लाख रूपए दिए जाते हैं, यह राशि वापस नहीं ली जाती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि तेलंगाना सरकार प्रत्येक किसान को दस हजार रूपए प्रति एकड़ देती है तो महाराष्ट्र सरकार यह योजना भी लागू कर सकती है।

Related News

Swadesh Bhopal group of newspapers has its editions from Bhopal, Raipur, Bilaspur, Jabalpur and Sagar in madhya pradesh (India). Swadesh.in is news portal and web TV.

@2023 – All Right Reserved. Designed and Developed by Sortd