Home छत्तीसगढ़ तेंदुए के हमले से 8 वर्ष के बच्चे की गई जान

तेंदुए के हमले से 8 वर्ष के बच्चे की गई जान

17
0

छत्तीसगढ़ के धमतरी में तमाम कोशिश के बाद शनिवार सुबह आदमखोर तेंदुआ अन्ततः कैद कर लिया गया। 7 दिन पहले 8 साल के बच्चे पर हमला कर उसे मारने वाले तेंदुए को वन विभाग की टीम ने दो दिन की मशक्कत के बाद पकड़ लिया। तेंदुए के पकड़े जाने की खबर मिलते ही घरों में कैद रहने वाले ग्रामीण उत्साह से उसे देखने के लिए पहुंच गए। वन विभाग के अफसरों का कहना है कि गांव के आसपास लगातार तेंदुआ घूम रहा था।

ग्राम मुकुंदपुर में बीते कल को गाँव के ही पहाड़ी में तेंदुए ने 8 वर्ष के बच्चा आशीष के ऊपर हमला कर दिया था. जिससे वह गंभीर रूप से जख्मी हो गया और अस्पताल लेकर जाते समय उसने दम तोड़ दिया. जिसको लेकर मृतक के परिजन और ग्रामीण वन विभाग के प्रति आक्रोशित हुए थे.ग्रामीण और परिजन सतीश मरकाम और नंदकुमार की माने तो गाँव के मुकुंदपुर पहाड़ी पर अभी भी तीन तेंदुआ मौजूद है.

गाँव में बीते छह माह से तेंदुआ मचा रखा आतंक

जो गाँव में बीते छह माह से आतंक मचा रखा है. जो अब तक सुअर, बछड़े, बकरी और मुर्गा का शिकार कर चुका है. बताया कि शाम होते ही तेंदुआ पहाड़ी के नीचे बस्ती में आ जाता है. जिसके डर से ग्रामीण अपने घर के अंदर ही रहते है. वैसे इन दिनों सिहावा इलाके तेंदुआ का दिखाना आम बात हो गयी है. बीते दिनों भी सिहावा पहाड़ी में तेंदुआ देखा गया था.

बकरे के चक्कर में पिंजरे में फंसा तेंदुआ
वन विभाग के अफसर बताते हैं कि तेंदुए को पकड़ने के लिए दो-तीन जगह पर पिंजरा लगाया गया था। उसमें बकरे को भी रखा गया। उसके चक्कर में तेंदुआ सुबह पिंजरे में घुसा। दो हिस्से में पिंजरा होने के कारण उसे बकरा तो नहीं मिला, लेकिन वह फंस जरूर गया। इससे पहले भी एक पिंजरे में बकरा रखा गया था, उसमें दूसरा तेंदुआ फंसने की आशंका थी। अफसरों का कहना है कि जब तक मानवीय खतरा नहीं हो हम उसे पकड़ नहीं सकते।

कल तेंदुए ने मासूम पर हमला कर उसे मौत के घर उतार दिया था. उस दर्दनाक घटने के बाद से वन विभाग पूरी तरह से एलर्ट हो गया है. गाँव – गांव में लगातार मुनादी करवाकर लोगों को आगाह किया जा रहा है. वहीँ इस पूरे मामले में प्रशिक्षु IFS आलोक बाजपेयी ने बताया कि डिस्ट्रिक से पिंजरा मंगवाया गया है.

CWLW वाइल्ड लाइफ वार्डन और CCF वाइल्ड लाइफ के परमिशन के प्रोसेस चल रहा है. परमिशन मिलने के बाद जहाँ घटना हुई थी उस गाँव में सूटेबल प्लेस पर पिंजरा रखा जाएगा. दोबारा इस तरह से घटना ना हो इसके लिए वन विभाग की टीम पूरी तरह से तैयार है. जिस गाँव में घटना हुई है वहां हमारा टीम तैनात है लगातार गश्त किया जा रहा है.

रात में भी टीम के द्वारा लगातार नजर बनाए हुए थे. ग्रामीणों के बताये अनुसार पहाड़ी पर आग भी लगाया गया था. पहाड़ी के चारों तरफ आस – पास वाले गाँव में विशेष निगरानी रखी जा रही है. मुनादी कराकर लोगों हिदायत दी जा रही है कि अभी जंगल ना जाये घर पर ही रहे. चूंकि इलाके हाथियों की भी मौजूदगी है इसलिये आधी टीम उधर और आधी टीम इधर तैनात है.

CCF की अनुमति के बाद पकड़ा, लोगों को राहत
धमतरी के DFO सतोविशा समाजदार ने बताया- दो दिन से गांव के आसपास आदमखोर तेंदुआ घूम रहा था। इसके बाद CCF से अनुमति मांगी गई थी। इससे लोगों और जानवर पर भी खतरा था। अनुमति मिलने के बाद घोटूपारा मुकुंदपुर में पिंजरा लगाया गया, जिसके अंदर बकरा रखा गया था। तेंदुआ पकड़ लिया गया है, जिसके बाद लोगों ने राहत की सांस ली है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here