Home दिल्ली कोरोना का खौफ: बुखार से हुई मौत तो शव छोड़ परिवार फरार,...

कोरोना का खौफ: बुखार से हुई मौत तो शव छोड़ परिवार फरार, पुलिस ने किया अंतिम संस्कार

45
0

राजधानी दिल्ली में कोरोना से युवक की मौत के बाद उसके शव को ले जाने के लिए घरवाले तैयार नहीं हुए. परिजनों ने लड़के की लाश को हाथ लगाने से भी इंकार कर दिया, तो वहीं दिल्ली पुलिस के असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर ने मानवता की मिशाल पेश करते हुए इस युवा को अंतिम विदाई देते हुए दाह संस्कार की सारी प्रक्रिया को पूरा कराया.

राजधानी दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं. इसके साथ ही मौतों का आकड़ा भी बढ़ गया है. बीमारी की दहशत इस कदर छाई हुई है कि लोग किसी भी तरह इस संक्रमण से बचना चाहते हैं. लेकिन दिल्ली में एक हैरान करने वाला मामले सामना आया है. यहां संक्रमण से 35 वर्षीय युवक की मौत के बाद उसकी लाश को घर वालों ने हाथ लगाने से इनकार कर दिया, ऐसे में दिल्ली पुलिस के ASI ने मानवता की मिशाल पेश की.  

पुलिस के मुताबिक 19 अप्रैल की रात 11 बजे दिल्ली के गोकुलपुरी थाने की पुलिस को पीसीआर कॉल के जरिये सूचना मिली कि नार्थ ईस्ट दिल्ली के जौहरीपुर इलाके में 35 साल के सोनू नाम के युवक की तेज बुखार से घर मे ही मौत हो गई. सोनू पिछले 4 से 5 दिन से बीमार चल रहा था.

गोकुलपुरी थाने के एएसआई सुशील कुमार जब कॉल पर घर पर पहुंचे, तो मृतक सोनू की लाश को छोड़कर परिवार वाले पड़ोसियों के यहां चले गए थे. सुशील ने खुद जीटीबी अस्पताल से एम्बुलेंस बुलवाई. उसके बाद मृतक को हेडगेवार अस्पताल लेकर गए, जहां तमाम कानूनी प्रक्रिया पूरी करवाई गई और डेथ सर्टिफिकेट बनवाया गया. 

20 अप्रैल को सुबह मृतक का पोस्टमॉर्टम हुआ, लेकिन उसके परिवार के लोग वहां भी नहीं पहुंचे, परिवार को डर था कि सोनू की मौत कोरोना से हुई है कहीं बीमारी उन्हें भी अपनी चपेट में न ले ले. हालात ऐसा रहा कि सोनू की अर्थी को परिवार का न तो कंधा मिला न कोई अंतिम संस्कार की प्रक्रिया में शामिल होने को राजी हुआ. जिसके बाद गोकुलपुरी थाने में तैनात सुशील कुमार ने ही सोनू के शव को एम्बुलेंस में रखा और अशोक नगर के श्मशान घाट में ले जाकर पूरी प्रक्रिया के साथ अंतिम संस्कार करवाया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here