पदस्थापना में 366 करोड़ के लेन-देन की डायरी से हंगामा

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp
  • शिक्षा विभाग के अफसर के नाम से भ्रष्टाचार की शिकायत

स्वदेश संवाददाता, रायपुर

शिक्षा विभाग में लेन-देन के रिकॉर्ड का दावा करने वाली एक कथित डायरी से छत्तीसगढ़ की राजनीति में भूचाल आ गया है। इस कथित डायरी के पन्नों में लेन-देन की इबारतों के साथ शिक्षा विभाग के उप संचालक के नाम से मुख्यमंत्री तक शिकायत पहुंची है। पहले उप संचालक ने इसके खिलाफ थाने में शिकायत की। विपक्ष हमलावर हुआ तो खुद स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के दरबार में पहुंच गए। मंत्री ने जांच की मांग की है।

लोक शिक्षण संचालनालय के उप संचालक आशुतोष चावरे के हस्ताक्षर वाला फर्जी शिकायती पत्र इस समय वायरल है। इसमें एक डायरी के पन्नों का हवाला देते हुए शिक्षकों के पदस्थापना में 366 करोड़ के लेन-देन की बात कही गई है। मामला सामने आने के बाद उप संचालक आशुतोष चावरे ने राखी थाने में अपनी तरफ से एफआईआर दर्ज कराई है। उनका कहना है, अज्ञात व्यक्तियों ने उनके नाम, पदनाम और सील का गलत उपयोग कर फर्जी शिकायत पत्र तैयार किया है। इसे जनप्रतिनिधियों तथा विभिन्न संस्थानों को भेजा जा रहा है। इस कथित शिकायती पत्र में स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, उनकी पत्नी और ओएसडी पर सीधे आरोप लगाए गए हैं।

सरगुजा विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष बृहस्पत सिंह की अगुआई में कांग्रेस विधायक भी स्कूल शिक्षा विभाग में भ्रष्टाचार का आरोप लगा चुके हैं। बृहस्पत सिंह ने तो उस समय साफ शब्दों में कहा था कि मंत्री के यहां लेन-देन की वजह से उनके विधायकों-कार्यकर्ताओं का ही काम नहीं हो रहा है। छत्तीसगढ़ की राजनीति में डायरी और सीडी का इस्तेमाल नया नहीं है। 2015 में नागरिक आपूर्ति निगम के अफसरों-कर्मचारियों के ठिकानों पर पड़े एसीबी-ईओडब्ल्यू छापों के बाद भी एक डायरी की मौजूदगी का पता चला था। कांग्रेस ने इसे चुनावी मुद्दा बनाया। तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल बार-बार पूछते थे कि डायरी में दर्ज सीएम मैडम कौन हैं।

ऐसी कई डायरियां सामने आएंगी : भाजपा

भाजपा विधायक दल के नेता धरमलाल कौशिक ने कहा कि 366 करोड़ का लेन-देन तो सिर्फ एक अधिकारी के डायरी में है। ऐसी कई डायरियां अभी सामने आने वाली हैं। डायरी में सिलसिलेवार तरीके से एक-एक व्यक्ति से लेन-देन का विवरण बताता है कि कांग्रेस सरकार कितनी भ्रष्ट है। आखिरकार कौन सी भाभीजी को और कौन से बड़े साहब को राशि दी गई है। भाभी जी को 25 करोड़ रुपए कई किस्तों में पहुंचाए गए हैं। बड़े साहब को भी कई करोड़ रुपए पहुंचाए गए हैं। नेता प्रतिपक्ष ने पूरे मामले की जांच की मांग की है।

टेकाम ने कहा- भाजपा का षड्यंत्र

स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने इस पूरे एपिसोड को भाजपा का षड्यंत्र बताया है। टेकाम ने कहा कि यह पूरा मामला फर्जी है। जिनके नाम से शिकायत हुई है उसने थाने में जाकर कहा कि उसने कोई शिकायत नहीं की है। उसके नाम और हस्ताक्षर का दुरुपयोग किया गया है। सबको याद होगा कि 2018 के चुनाव के समय भी एक फर्जी पत्र वायरल हुआ था। इसमें संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी और प्रभारी महामंत्री गिरीश देवांगन के नाम और पैड का उपयोग कर कहा गया था कि सत्ता में आने के बाद कर्जमाफी नहीं होगी। यह भाजपा का बनाया शिगुफा था। इस बार भी भाजपा की ओर से सरकार को बदनाम करने की साजिश की गई है।

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Recent News

Related News