छत्तीसगढ़ में घुमका गांव के जनता नें खुद किया शराब बंदी का फैसला, बेचने या खरीदने पर 51 हजार का जुर्माना

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp

छत्तीसगढ़ की जनता ने शराब बंदी के लिए खुद से प्रयास करना शुरू कर दिया है। बालोद में घुमका गांव ने अब खुद से ही शराबबंदी करने का फैसला कर लिया है। इसके लिए कठोर नियम बनाए गए हैं। जिसके मुताबिक गांव का कोई शख्स यदि शराब बेचते या खरीदते हुए पकड़ा गया तो उससे 51 हजार रुपए जुर्माना लिया जाएगा। इसके अलावा हाईटेक तरीके से गांव के लोगों की निगरानी की जाएगी। मामला जिले के घुमका गांव का है।
3 हजार की आबादी वाले घुमका गांव में पिछले कई दिनों से अवैध शराब बिकने के मामले सामने आ रहे थे। कई लोगों को पुलिस ने जेल भेजा था। गांव के चौक-चौराहों पर कुछ लोग शराब पीकर महिलाओं को परेशान कर रहे थे। जिसके चलते ग्रामीण परेशान थे। यही वजह है कि लोगों ने गुरुवार को एक बैठक कर कुछ जरूरी फैसले लिए हैं। जो की चर्चा का विषय बन गया है। इस बैठक में पूरे गांव के लोगों को बुलाया गया था। जिसमें बड़ी संख्या में महिलाएं भी शामिल हुईं थीं।
10 दिन के अंदर गांव में सीसीटीवी कैमरा लगाने का निर्णय हुआ
बैठक में ये फैसला लिया गया कि यदि गांव का कोई शख्स शराब बेचते या खरीदते पाया गया तो उससे 51 हजार रुपए जुर्माना वसूला जाएगा। इसी कड़ी में गांव के 12 लोगों से बैठक के दिन 45 हजार रुपए वसूले गए हैं। ये लोग शराब बेचते पकड़े गए थे। बैठक में गांव में 10 दिन के अंदर सीसीटीवी कैमरे लगाने का निर्णय किया गया है। जिससे लोगों पर निगरानी रखी जा सके। इन सब की निगरानी गांव की ग्राम समिति करेगी।
गाली गलौज करने वालों से 20 हजार रुपए जुर्माना वसूलने का फैसला, डिस्पोजल बेचने पर भी लगा प्रतिबंध
बैठक में गांव में गाली गलौज करने वालों से 20 हजार रुपए जुर्माना वसूलने का फैसला लिया गया है। साथ ही डिस्पोजल बेचने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इस बैठक में हर वर्ग के लोगों को बुलाया गया था। बड़ी संख्या में महिलाएं भी शामिल हुई थीं। ऐसे लोगों को समझाइश दी गई है , जो इन तरह की अवैध गतिविधियों में शामिल थे।
गांव के वरिष्ठ नागरिक प्रेम साहू ने बताया कि गांव में खुले रूप से अवैध शराब बिक्री के कारण हर वर्ग शराब की चपेट में है और विशेषकर महिलाओं को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। जिसके कारण मानवता खत्म होती जा रही है। ग्रामीणों की यह पहल काफी सार्थक है और आज की बैठक में सभी ने मिलजुल कर सहभागिता निभाई है।

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Recent News

Related News