Home छत्तीसगढ़ कोरोना संक्रमित मिलने पर 5 दिन पहले कराया गया था भर्ती, ड्यूटी...

कोरोना संक्रमित मिलने पर 5 दिन पहले कराया गया था भर्ती, ड्यूटी पर तैनात प्रहरी सस्पेंड

24
0

छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज के कोविड वार्ड से सोमवार को एक कैदी फरार हो गया। संक्रमित आने के बाद उसे 5 दिन पहले ही अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वार्ड के बाहर एक जेल प्रहरी की ड्यूटी भी लगाई गई थी, लेकिन उसे कैदी के भागने का पता ही नहीं चला। घटना की जानकारी सुबह लगी तो एक घंटे बाद अफसरों को सूचना दी। जेल प्रशासन ने प्रहरी को सस्पेंड कर दिया है। कैदी हत्या के आरोप में जेल में बंद था।

जानकारी के मुताबिक, सरगुजा के धौरपुर में चंदेश्वरपुर निवासी संतोष यादव हत्या के आरोप में अंबिकापुर सेंट्रल जेल में बंद था। कोरोना संक्रमण को देखते हुए उसकी 5 मई को जांच की गई। इस पर डॉक्टर की सलाह से उसे अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज के कोविड वार्ड में अन्य विचाराधीन कैदियों के साथ भर्ती करा दिया गया। सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए जेल प्रहरी मनीष बंछोर की ड्यूटी कोविड वार्ड के बाहर लगाई गई थी।

जब प्रहरी की ड्यूटी खत्म होने लगी तो भागने का पता चला
जेल प्रहरी मनीष बंछोर की ड्यूटी रात 2 बजे से सुबह 6 बजे तक थी। सुबह जब ड्यूटी पूरी होने लगी तब मनीष को कैदी के भागने का पता चला। पहले तो वह खुद ही उसकी तलाश करता रहा, लेकिन जब नहीं मिला तो करीब एक घंटे बाद जेल गेट प्रहरी मनोज सिंह और गार्ड इंचार्ज शंकर प्रसाद तिवारी को सूचना दी गई। इस संबंध में धौरपुर थाना प्रभारी को सूचित किया गया और FIR दर्ज कराई गई। वहीं मनीष को सस्पेंड कर दिया गया है।

उपचार के लिए रामानुजगंज जेल से भेजा गया था सेंट्रल जेल
कैदी संतोष यादव कोर्ट के आदेश के बाद से बलरामपुर के रामानुजगंज जेल में बंद था। उसकी तबीयत बीच में बिगड़ी तो उसे उपचार के लिए जून 2020 में अंबिकापुर सेंट्रल जेल में शिफ्ट किया गया था। यहां पर उसमें कोरोना संक्रमण के लक्षण दिखाई दिए थे। जेल अधीक्षक राजेंद्र गायकवाड़ ने बताया कि इसके बाद जेल की डॉक्टर प्रगति सोनी के परामर्श से उसे 5 मई को कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया था। कैदी की तलाश की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here