Home छत्तीसगढ़ रावणभाठा विद्युत उपकेंद्र में हुआ हादसा, एक की मौत, एक घायल, कनिष्ठ...

रावणभाठा विद्युत उपकेंद्र में हुआ हादसा, एक की मौत, एक घायल, कनिष्ठ अभियंता निलंबित

60
0

रायपुर। छत्‍तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के रावणभाठा अंतरराज्यीय बस स्टैंड से लगे बिजली सब स्टेशन में शनिवार दोपहर रखरखाव कार्य के दौरान एक लाइन परिचारक की करंट से झुलसकर हुई मौत की घटना के लिए प्रारंभिक तौर पर कनिष्ठ अभियंता (जेई) को जिम्मेदार माना गया है। छत्तीसगढ़ स्टेट पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी के अधिकारियों ने हादसे की प्रारंभिक जांच के बाद जेई पर निलंबन की गाज गिराई।

जानकारी के मुताबिक रावणभाठा स्थित 33/11 केवी विद्युत उपकेंद्र में शनिवार दोपहर पौने बारह बजे के करीब भयंकर हादसा हुआ। इस हादसे में लाइन परिचारक श्रीराम पटेल की करंट से झुलसकर मौके पर ही मौत हो गई, जबकि दूसरा लाइन परिचारक अमित साहू घायल हो गया। इस हादसे के दौरान केंद्र में उपस्थित जूनियर इंजीनियर अभिषेक चंद्राकर की घोर लापरवाही सामने आई। दरअसल सब स्टेशन में मरम्मत का काम चल रहा था। लाइन परिचारक श्रीराम पटेल और अमित साहू एक तरफ का काम पूरा करके दूसरी तरफ चढ़ गए थे।

उस समय उन्हें जानकारी नहीं थी कि बिजली आपूर्ति बंद नहीं की गई है और न ही मौके पर मौजूद जूनियर इंजीनियर ने लाइन चालू होने की कोई जानकारी दी। इसके कारण दोनों लाइन परिचारक जैसे ही ऊपर चढ़े, करंट की चपेट में आ गए और करंट से झुलसकर श्रीराम पटेल की मौत हो गई। इस विद्युत दुर्घटना में घायल लाइन परिचारक अमित साहू को तत्काल अस्पताल में दाखिल कराया गया, जहां उनका इलाज चल रहा है। फिलहाल हालत खतरे से बाहर बताया जा रहा है।

निलंबित जेई बांगो वितरण केंद्र कोरबा में अटैच

घटना की जानकारी जैसे ही पावर वितरण कंपनी के अधिकारियों को लगी हड़कंप मच गया। मुख्य अभियंता (शहर) रायपुर आरए पाठक ने मौके पर पहुंचकर निरीक्षण किया। प्रथम दृष्टया जूनियर इंजीनियर अभिषेक चंद्राकर की लापरवाही से हादसा होना पाकर उन्हें तत्काल निलंबित कर बांगो वितरण केंद्र कोरबा में अटैच कर दिया गया।

हादसे के लिए दोषी मानकर निलंबित कर दिया

यह हादसा काफी गंभीर है। निलंबित किए गए जेई अभिषेक चंद्राकर ने किस तरह की लापरवाही की है, इसकी विस्तृत जांच की जा रही है। फिलहाल प्रारंभिक जांच में उन्हें हादसे के लिए दोषी मानकर निलंबित कर दिया गया है। मृतक लाइन परिचारक के स्वजनों को नियमानुसार मुआवजा देने की कार्रवाई की जा रही है। घायल लाइन परिचारक का बेहतर तरीके से इलाज कराया जा रहा है।
आरए पाठक, मुख्य अभियंता-रायपुर शहरी क्षेत्र

Previous articleसनी देओल ने मां प्रकाश कौर के साथ शेयर किया वीडियो, लिखा- हम बच्चे ही रहेंगे
Next articleछत्‍तीसगढ़ में एकसाथ सात खेल अकादमियों की शुरुआत, वर्षों पुरानी मांगे हुईं पूरी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here