विंटर ओलंपिक्‍स : शुरू हुई कूटनीतिक जंग, भारत ने किया चीन का समर्थन

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्‍ली। भारत और चीन सीमा विवाद के बीच भारत ने 2022 में चीन में विंटर ओलंपिक्‍स और पैरालंपिक्‍स खेलों की मेजबानी का समर्थन किया है। इसको लेकर चीन काफी गदगद है। उधर, अमेरिका की ओर से ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि वह मानवाधिकारों के उल्‍लंघन के मामले में इस अंतरराष्‍ट्रीय खेल आयोजन का बह‍िष्‍कार कर सकता है, ऐसे में भारत का यह समर्थन उसके लिए बड़ा मायने रखता है। गौरतलब है कि चीन अगले वर्ष चार मार्च से 13 मार्च तक विंटर ओलंपिक्‍स और पैरालंपिक्‍स की मेजबानी करने की तैयारी कर रहा है।

भारत के रुख का चीन ने जोरदार समर्थन किया

हाल में रूस के विदेश मंत्री सर्गेइ लवरोफ और चीन के विदेश मंत्री वांग यी के साथ वर्चुअल बैठक में भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने ओलांपिक्‍स और पैरालंपिक्‍स खेलों के आयोजन में चीन की तरफदारी की। इसके बाद रूस, चीन और भारत के विदेश मंत्रियों की बैठक के बाद साझा बयान जारी कर कहा गया कि चीन में 2022 में विंटर ओलंपिक्‍स और पैरालंपिक्‍स खेलों की मेजबानी के लिए मंत्रियों ने समर्थन किया है। चीन और भारत के बीच पिछले 19 म‍हीनों से सीमा पर तनाव है। इतना ही नहीं चीन भारत से लगी सीमा पर सैन्‍य ठिकाना और मजबूत कर रहा है।

बाइडन ने चीन में हो रहे ओलंपिक्‍स खेलों का किया बहिष्‍कार

अमेरिका के राष्‍ट्रपति जो बाइडन ने चीन के साथ चल रहे मतभेदों के मद्देनजर कहा है कि उनका देश इन खेल आयोजनों के राजनयिक बहिष्‍कार के बारे में सोच रहा है। बाइडन ने कहा है कि अमेरिका अपने खिलाड़‍ियों को तो चीन भेजेगा, लेक‍िन अधिकारियों के प्रतिनिधिमंडल नहीं भेजने पर विचार कर रहा है। यह उम्‍मीद की जा रही है कि अमेरिका के इस फैसले के साथ आस्‍ट्रेलिया, कनाडा और जर्मनी भी जा सकते हैं। अमेरिका के इस विरोध के बाद चीन ने भी इसके लिए राजनयिक प्रयास शुरू कर दिए हैं।

ग्‍लोबल टाइम्‍स ने भारत के रुख का सराहा

भारत के इस समर्थन को लेकर चीन कम्‍युनिस्‍ट पार्टी का मुखपत्र माने जाने वाले ग्‍लोबल टाइम्‍स ने अपने लेख में लिखा है कि भारत के समर्थन से पता चलता है कि वह अमेरिका का स्‍वभाविक सहयोगी नहीं है। ग्‍लोबल टाइम्‍स ने भारत के इस फैसले की जमकर तारीफ की है। ग्‍लोबल टाइम्‍स ने भारत के इस रुख की सराहना की है। टाइम्‍स ने लिखा है कि चीन के साथ कई मसलों पर तनाव के कारण भारत हाल के वर्षों में अमेरिका के करीब हुआ है।

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Recent News

Related News