Home खेल फ्रेंच ओपन 2021 : नोवाक जोकोविच बने नए चैंपियन, जीता 19वां ग्रैंड...

फ्रेंच ओपन 2021 : नोवाक जोकोविच बने नए चैंपियन, जीता 19वां ग्रैंड स्लैम खिताब, 52 साल बाद किया ये कारनामा

25
0

पेरिस। वर्ल्ड नंबर-1 खिलाड़ी सर्बिया के नोवाक जोकोविच ने रविवार को साल के दूसरे ग्रैंड स्लैम फ्रेंच ओपन के पुरुष एकल वर्ग के फाइनल में ग्रीस के युवा खिलाड़ी स्टेफानोस सितसिपास को मात देकर खिताब अपने नाम कर लिया। जोकोविच ने यह मैच 6-7 (6-8), 2-6, 6-3, 6-2, 6-4 से अपने नाम किया।

कोविच ने सेमीफाइनल में स्पेन के दिग्गज और क्ले कोर्ट के बादशाह कहे जाने वाले राफेल नडाल को मात देकर फाइनल में जगह बनाई थी, वहीं सितसिपास ने जर्मनी के एलेक्जेंडर ज्वेरेव को हराकर पहली बार किसी ग्रैंड स्लैम के फाइनल का टिकट कटाया था। यह जोकोविच के करियर का दूसरा फ्रेंच ओपन और करियर का 19वां ग्रैंड स्लैम खिताब है।

जोकोविच, सितसिपास को मात देते ही 52 वर्षों में पहले ऐसे खिलाड़ी बन गए हैं जिन्होंने हर ग्रैंड स्लैम का सिंगल्स खिताब दो बार जीता है। वह रॉय एमरसन और रॉड लेवर के अलावा केवल तीसरे ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने चारों ग्रैंड स्लैम को दो-दो बार जीता है। 20 ग्रैंड स्लैम जीतने वाले नडाल और फेडरर भी अब तक ऐसा नहीं कर पाए हैं। 1969 में लेवर ने चारों ग्रैंड स्लैम एक से ज्यादा बार जीतने का कारनामा किया था।

दो सेट हारने के बाद वापसी

सितसिपास ने शुरुआती दो सेट अपने नाम कर लिए थे। जोकोविच ने पहले सेट में ग्रीस के युवा खिलाड़ी को अच्छी टक्कर दी लेकिन 6-7 (6-8) से सेट हार गए। इस जीत से सितसिपास को आत्मविश्वास मिला और वह दूसरा सेट 6-2 से अपने नाम करने में सफल रहे। महान खिलाड़ियों में गिन जाने वाले जोकोविच ने हार नहीं मानी और वापसी की। तीसरे सेट की शुरुआत में स्कोर 1-1 था लेकिन फिर जोकोविच ने 4-1 कर लिया और फिर 6-3 से सेट अपने नाम कर मुकाबला चौथे सेट में पहुंचा दिया।

सितसिपास को पीठ में हुई परेशानी

तीसरे सेट के बाद सितसिपास को पीठ में परेशानी हुई जिसके कारण खेल थोड़ी देर तक रुका रहा। चौथे सेट में सूरत नहीं बदली और जोकोविच हावी रहे। पहला गेम अपने नाम करने के बाद उन्होंने 3-0 की बढ़त ली। सितसिपास ने इस सेट में दो गेम अपने नाम किए लेकिन जोकोविच को 6-2 से सेट जीतने से नहीं रोक सके।

पांचवें सेट में मुकाबला शुरू में 1-1 से बराबर था, फिर जोकोविच 4-2 से आगे हो गए। सितसिपास ने यहां वापसी की और स्कोर 4-3 कर लिया, लेकिन जोकोविच ने उन्हें सेट जीतने नहीं दिया और 6-4 से पांचवां सेट जीत इतिहास रच दिया।

छठी बार दो सेट हारने के बात की वापसी

यह पहला मौका नहीं है जब जोकोविच ने किसी ग्रैंड स्लैम में दो सेट हारने के बाद वापसी की हो। उन्होंने इससे पहले पांच बार ऐसा किया है। विंबलडन-2005 के दूसरे दौर में वह लोपेज के खिलाफ शुरुआती दो सेट गंवाने के बाद 3-6, 3-6, 7-6, 7-6, 6-4 से मुकाबला जीतने में सफल रहे थे, फिर यूएस ओपन-2011 में रोजर फेडरर के खिलाफ सेमीफाइनल में शुरू के दो सेट हारने के बाद जोकोविच ने 6-7, 4-6, 6-3, 6-2, 7-5 से मैच जीता था।

इसके अलावा फ्रेंच ओपन में ही 2012 में चौथे दौर में आंद्र सेप्पी 4-6, 6-7, 6-3, 7-5, 6-3 को दो सेट से पिछड़ने के बाद हराया था। 2015 में विंबलडन में साउथ अफ्रीका के केविन एंडरसन के खिलाफ भी चौथे राउंड में दो सेट गंवाने के बाद 6-7, 6-7, 6-1, 6-4, 7-5 से मैच जीतने में सफल रहे थे। इसी साल फ्रेंच ओपन के चौथे दौर में लोरेंजो मुसेटी को शुरुआती दो सेट हारने के बाद 6-7, 6-7, 6-1, 6-0, 4-0 से हराया था। इस मैच में हालांकि मुसेटी आखिरी सेट में चोट के कारण मैच छोड़कर चले गए थे।

खिताब जीतने के बाद जोकोविच ने कहा कि, “यह शानदार माहौल है। मैं अपने कोच, फिजियो का शुक्रिया कहना चाहता हूं और उन सभी का भी जिन्होंने इस सफर में मेरा साथ दिया। बीते 48 घंटों में मैं नौ घंटे खेला हूं वो भी दो महान खिलाड़ियों के खिलाफ। बीते तीन दिन शारीरिक रूप से काफी मुश्किल रहे, लेकिन मैंने अपनी काबिलियत पर विश्वास किया और मैं जानता था कि मैं यह कर सकता हूं। ”

Previous articleभावनाएं आहत हुई हैं… राम मंदिर ट्रस्ट पर लगे आरोपों पर बोले शिवसेना नेता संजय राउत
Next articleआईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल : विजेता टीम होगी मालामाल, ICC ने किया करोड़ों की इनामी राशि का ऐलान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here