Home खेल फ्रेंच ओपन: वुमंस सिगल्स में 17वीं सीड मारिया सक्कारी ने इगा स्विटेक...

फ्रेंच ओपन: वुमंस सिगल्स में 17वीं सीड मारिया सक्कारी ने इगा स्विटेक को 95 मिनट में हराया, इस साल नई चैंपियन मिलना तय

128
0


पेरिस। फ्रेंच ओपन टेनिस टूर्नामेंट में उलटफेर का दौर जारी है। वुमंस सिंगल्स में 17वीं सीड ग्रीस की मारिया सक्कारी ने डिफेंडिंग चैंपियन पोलैंड की इगा स्विटेक को सीधे सेटों में 6-4, 6-4 से हराकर सेमीफाइनल में एंट्री हासिल कर ली। 25 साल की मारिया और 20 साल की इगा के बीच क्वार्टर फाइनल मुकाबला 95 मिनट तक चला।

यहां लगातार 11 मैच जीत चुकी थीं स्विटेक

इगा स्विटेक पिछले साल और इस साल मिलाकर फ्रेंच ओपन महिला सिंगल्स में लगातार 11 मैच और 22 सेट जीत चुकी थीं। इस परफॉर्मेंस के दम पर वे अंतिम 8 के मुकाबले में जीत की दावेदार थीं, लेकिन मारिया के दमदार खेल के आगे वे मैच को तीसरे सेट में भी नहीं ले जा सकीं। मारिया ने बेसलाइन से मजबूत खेल दिखाते हुए पहली बार किसी ग्रैंड स्लैम के सेमीफाइनल में जगह बनाई है।

चारों सेमीफाइनलिस्ट पहली बार अंतिम चार का मैच खेलेंगी

मारिया सक्कारी की जीत के साथ ही फ्रेंच ओपन में इस साल नई वुमंस सिंगल्स चैंपियन का मिलना तय हो गया है। सेमीफाइनल में मारिया का सामना गैर वरीय खिलाड़ी बारबोरा क्रेजिस्कोवा (चेक रिपब्लिक) से होगा। वहीं, दूसरे सेमीफाइनल में 31वीं सीड रूस की अनास्तासिया पाब्लूचेंकोवा का सामना एक अन्य अनसीडेड खिलाड़ी तमारा जिद्नासेक (स्लोवेनिया) से होगा। इन चारों सेमीफाइनलिस्ट ने पहले कोई ग्रैंड स्लैम सिंगल्स खिताब नहीं जीता है। ये चारों पहली बार सेमीफाइनल मैच खेलेंगी।

क्रेजिस्कोवा ने कोको गफ को हराया

क्रेजिस्कोवा ने एक अन्य सेमीफाइनल मुकाबले में अमेरिका की 17 साल की युवा खिलाड़ी कोको गफ को 7-6, 6-3 से हराया। सक्कारी और क्रेजिस्कोवा दोनों ही 25-25 साल की हैं और दोनों में से कोई भी पहले किसी ग्रैंड स्लैम के चौथे दौर से आगे नहीं बढ़ पाई थी।

मारिया ने की पिछड़कर वापसी

मारिया सक्कारी एक समय इगा स्विटेक के खिलाफ क्वार्टर फाइनल मैच में 0-2 से पीछे थीं। इसके बाद उन्होंने अगले 10 में से 8 गेम जीतकर जोरदार वापसी की। मारिया की जीत इस मायने में भी खास है कि इगा ने इस साल अपने अभियान में सिर्फ 20 गेम गंवाया था। 2020 फ्रेंच ओपन की रनर अप सोफिया केनिन को भी हरा चुकीं मारिया ने इश मैच में 26 विनर जमाए। यह उनकी प्रतिद्वंद्वी की तुलना में 9 ज्यादा थे।

मेडिकल ब्रेक भी स्विटेक को हार से नहीं बचा पाया

दूसरे टेस्ट में 0-2 से पिछड़ने के बाद स्विटेक ने मेडिकल ब्रेक लिया। जब वे वापस लौटीं तो उनके दाएं पैर पर टेपिंग थी। यानी वे चोट से परेशान थीं। लेकिन, इस ब्रेक का मारिया के परफॉर्मेंस पर कोई असर नहीं पड़ा और उन्होंने दूसरा सेट भी आसानी से अपने नाम कर लिया।

Previous articleभारत-पाकिस्तान के बीच सीरीज एशेज से ज्यादा पसंद की जाती है, पूर्व पाकिस्तानी कप्तान का दावा
Next articleटीम इंडिया के कैप्टन बनना चाहते थे युवराज, पर धोनी को जिम्मेदारी मिली

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here