अगहन सप्तमी पर करें सूर्य देवता का पूजन

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp

अगहन महीने के शुक्ल पक्ष की सप्तमी को सूर्य पूजा का पर्व कहा गया है। इस दिन सूर्य के मित्र रूप की पूजा की जाती है। जो कि ग्रंथों में बताए 12 सूर्यों में एक है। इस दिन भगवान सूर्यनारायण के लिए व्रत और पूजा करने से कई गुना पुण्य फल मिलता है। बता दें कि सूर्य को ऊर्जा का प्रतीक कहा जाता है। मान्यता है कि इस दिन पूरे मन से सूर्य की उपासना करें तो हर तरह के पाप और दुख खत्म हो जाते हैं। ग्रंथों में कहा गया है कि सूर्य देव को अर्घ्य देने से याददाश्त अच्छी होती है और मन में शांति रहती है।

सूर्य देवता की उत्पत्ति कैसे हुई, पढ़ें ये पौराणिक कथा - surya dev birth  story ravivar puja neer – News18 हिंदी

सूर्य देव को सभी ग्रहों में श्रेष्ठ माना गया है। इस दिन जो भी भक्त सूर्य देव की पूजा अर्चना करते समय आदित्य ह्रदय और अन्य सूर्य स्त्रोत का पाठ करेंगे और इसे सुनने वालों को भी शुभ फल मिलेगा। इस दिन सुबह उठकर जो भी भक्त पूरे विधि-विधान के साथ नंदा सप्तमी का व्रत रखता है उसे मनचाहा फल मिलता है।

Surya Puja Vidhi How To Offer Water To Sun Surya Dev Mantra - Surya Puja:  मान्यतानुसार इस तरह की जाती है सूर्य देव की पूजा, बताए गए हैं कई लाभ! |  Religious

ऐसा भी माना जाता है कि जो भक्त भी इस दिन गंगा स्नान करके सूर्य भगवान को जल अर्पित करता है उसकी आयु लंबी होती है, उसकी काया निरोगी रहती है और उसे कभी भी धन की कमी नहीं होती है। जो भक्त भी इस विशेष दिन दान-पुण्य करते हैं उनके घर में हमेशा धन-धान्य भरा रहता है।

Chant These Mantra On Sunday To Get Surya Dev Blessings | Paush Month Surya  Puja: पौष माह में सूर्यदेव की पूजा का है विशेष महत्व, सिर्फ ये कार्य करने  से ही प्रसन्न

सूर्योदय से पहले उठकर नहाएं और पूरे मन से सूर्य भगवान की पूजा करें। तांबे के बर्तन में साफ पानी भरें। उसमें लाल चंदन, अक्षत, लाल फूल डालकर सूर्य देव को ऊँ मित्राय नम: कहते हुए अर्घ्य दें। सूर्य को अर्घ्य देते हुए पानी को तांबे के बर्तन में इकट्ठा करें। अर्घ्य का जल जमीन पर न गिरने दें। आदित्य हृदय स्तोत्र या सूर्य स्तोत्र का पाठ करें। ऐसा न कर पाएं तो सूर्य के 12 नाम जप लें। आखिरी में सूर्य देव से हाथ जोड़कर लंबी उम्र और निरोगी रहने की प्रार्थना करें। इस व्रत में पूरे दिन नमक न खाएं।

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Recent News

Related News