Home धर्म होलाष्टक में शिवजी और श्रीकृष्ण की पूजा का है विशेष महत्व, इन...

होलाष्टक में शिवजी और श्रीकृष्ण की पूजा का है विशेष महत्व, इन उपायों से होगा धन लाभ

36
0

फाल्गुन महीने के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को होलिका दहन और उसके अगले दिन रंगों वाली होली मनायी जाती है। लेकिन होली से ठीक 8 दिन पहले के समय को होलाष्टक कहा जाता है जो फाल्गुन महीने के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि से शुरू होकर होलिका दहन तक जारी रहता है। इन 8 दिनों में किसी भी तरह के शुभ और मांगलिक कार्य करना मना होता है। सनातन परंपरा में इन 8 दिनों के समय को अशुभ माना गया है। 22 मार्च 2021 से होलाष्टक की शुरुआत हो चुकी है जो 28 मार्च को होलिका दहन के दिन समाप्त होगा।

होलाष्टक के 8 दिनों में पूजा-पाठ का विशेष महत्व

जिस तरह खरमास के दौरान शुभ कार्य करना वर्जित होता है लेकिन पूजा-पाठ, भजन-कीर्तन, भगवान के स्मरण से शुभ फलों की प्राप्ति होती है। उसी तरह से होलाष्टक के इन 8 दिनों में भी कुछ विशेष उपाय करने से आर्थिक संकट दूर हो जाता है, कर्ज से मुक्ति मिलती है और घर में सुख-सौभाग्य आता है।

होलाष्टक के दौरान ऐसे करें पूजा

होलाष्टक के इन 8 दिनों के दौरान शिवजी और श्रीकृष्ण की पूजा विशेष महत्व रखती है और ऐसी मान्यता है कि विधि विधान के साथ इनकी पूजा अर्चना करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

हवन करें

होलाष्टक के दौरान अपने घर या ऑफिस में हवन करवाएं। इस हवन में जौ, तिल और शक्कर को शामिल करें। ऐसा करने से व्यवसाय और नौकरी में सफलता मिलेगी। इसके अलावा होलाष्टक के दौरान हवन करवाने से पैसों की दिक्कत दूर होती है और धन की प्राप्ति होती है।

अच्छी सेहत के उपाय

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार होलाष्टक में महामृत्युंजय मंत्र का जाप करने से हर तरह के रोग से छुटकारा मिलता है और सेहत अच्छी रहती है।

कर्ज उतारने का उपाय

अगर पैसों की तंगी का सामना करना पड़ रहा हो, जीवन में कर्ज बढ़ गया हो तो ऋ ण के बोझ से छुटकारा पाने के लिए होलाष्टक के दौरान श्रीसूक्त और मंगल ऋण मोचन स्त्रोत का पाठ करना चाहिए।

विद्या पाने के उपाय

अगर बच्चों का पढ़ाई में मन नहीं लग रहा हो तो होलाष्टक के दौरान भगवान गणेश की पूजा करें और उन्हें मोदक और दुर्वा चढ़ाएं।

बाधाएं दूर करने के उपाय

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार अगर जीवन में कई तरह की बाधाएं आ रही हों, कोई भी काम समय पर पूरा न हो रहा हो तो होलाष्टक के दौरान हनुमान चालीसा और विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करना लाभकारी हो सकता है। इस उपाय से जीवन में खुशियां आती हैं।

Previous articleसूर्य को सुबह-सुबह एक लोटा जल चढ़ाने के हैं ढेरों फायदे, बीमारियां रहेंगी दूर और नौकरी में भी होगा लाभ
Next articleसड़क हादसा: ग्वालियर में बस-ऑटो की भिड़ंत में 13 लोगों की मौत; इनमें 12 महिलाएं, जो आंगनबाड़ी में खाना बनाकर लौट रही थीं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here