Home धर्म पुष्य नक्षत्र 25 फरवरी को: तीन महायोग में खरीदारी से बढ़ेगी समृद्धि,...

पुष्य नक्षत्र 25 फरवरी को: तीन महायोग में खरीदारी से बढ़ेगी समृद्धि, इस दिन प्रॉपर्टी और व्हीकल खरीदी का भी विशेष मुहूर्त

21
0

25 फरवरी, गुरुवार को पुष्य नक्षत्र होने से गुरु पुष्य संयोग बन रहा है। ये साल का दूसरा गुरु पुष्य योग है। इसके साथ ही सर्वार्थसिद्धि, अमृतसिद्धि और रवियोग भी बनने से ये दिन खरीदारी के लिए विशेष शुभ माना जा रहा है। इस दिन खरीदारी से घर में सुख और समृद्धि आती है। वहीं, गुरुपुष्य योग में नए कामों की शुरुआत, निवेश और लेन-देन करने से सफलता की संभावना और बढ़ जाती है।
इसके बाद 28 अक्टूबर को बनेगा गुरु पुष्य योग
गुरुवार का सूर्योदय पुष्य नक्षत्र में ही होगा। जिससे गुरु पुष्य योग दोपहर में तकरीबन 1.37 तक रहेगा। लेकिन ज्योतिष के जानकारों के मुताबिक, पुष्य नक्षत्र में सूर्य उदय होने से पूरे दिन खरीदारी और शुभ काम किए जा सकते हैं। इस दिन शुक्लपक्ष की त्रयोदशी यानी जया तिथि होने से इस दिन प्रॉपर्टी और व्हीकल खरीदी का भी विशेष मुहूर्त रहेगा। इसके बाद दिवाली से 4 दिन पहले यानी 28 अक्टूबर, गुरुवार को पूरे दिन-रात पुष्य नक्षत्र होने पर फिर से गुरु-पुष्य योग बनेगा।
रियल एस्टेट में निवेश करना शुभ
गुरु पुष्य नक्षत्र के संयोग में जमीन की रजिस्ट्री करने से बहुत फायदा मिलता है। नए कामों की शुरुआत भी इस शुभ योग में करनी चाहिए। गुरुवार को शोभन और शुभ नाम के योग बनने से ये दिन और भी प्रभावशाली हो गया है। इस दिन शुभ काम, पूजा-पाठ और घर के उपयोगी सामान के साथ रियल एस्टेट में निवेश, नए व्हीकल और ज्वेलरी की खरीदारी को श्रेष्ठ माना गया है।
स्थिरता और अमरता लाता है पुष्य नक्षत्र
काशी के ज्योतिषाचार्य डॉ. गणेश मिश्र के मुताबिक सभी 27 नक्षत्रों में पुष्य को नक्षत्रों का राजा माना जाता है। पुष्य नक्षत्र को शास्त्रों में अमरेज्य भी कहा जाता है। यानी वो नक्षत्र जो जीवन में स्थिरता और अमरता लेकर आता है। इस नक्षत्र का स्वामी शनि होता है लेकिन उसकी प्रकृति गुरु के जैसी होती है। जब भी गुरुवार को पुष्य नक्षत्र पड़ता है तो गुरु पुष्य नाम का योग बनता है।
पुष्य नक्षत्र में खरीद सकते हैं ज्वेलरी, प्रापर्टी और वाहन
डॉ. मिश्र ने बताया कि पुष्य नक्षत्र बुधवार को दोपहर 1.23 से शुरू हो गया है। जो कि गुरुवार को दिन में करीब 1.37 बजे खत्म होगा। इस तरह बुध पुष्य और गुरु पुष्य के तौर पर खरीदारी के लिए दो दिन मिल रहे हैं। बुधवार को इस शुभ योग के दौरान शेयर मार्केट, रियल एस्टेट और अन्य जगहों में निवेश करने से फायदा मिलेगा। वहीं, गुरुवार को व्हीकल, प्रॉपर्टी, ज्वेलरी, फर्नीचर और अन्य जरूरी चीजों की खरीदारी के साथ ही नए कामों की शुरुआत करना शुभ रहेगा।
इसलिए खास है पुष्य नक्षत्र
डॉ. मिश्र का कहना है कि पुष्य नक्षत्र में की गई खरीदी समृद्धिकारक होती है। पुष्य नक्षत्र की धातु सोना है इसलिए इस योग में सोना और सोने के आभूषण खरीदने से समृद्धि बनी रहती है। गुरु पुष्य नक्षत्र में रियल एस्टेट के साथ ही भूमि, भवन, वाहन और अन्य स्थाई सम्पत्ति में में किया गया निवेश लंबे समय तक फायदा देता है। इस दिन चांदी, कपड़ा, बर्तन, इलेक्ट्रॉनिक चीजों की खरीदी भी शुभ रहती है। इस शुभ योग में खरीदा गया व्हीकल कई दिनों तक चलता है और उससे फायदा मिलता है। शुभ संयोग में नया बिजेनस और नौकरी की शुरुआत करना भी फलदायी माना गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here