साल का अंतिम चंद्रग्रहण , जानिए भारत में कब दिखेगा ग्रहण

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp

स्वदेश डेस्क –  आज यानि कि 8 नवंबर को साल का आखिरी चंद्र ग्रहण है और सूतक काल जारी है। ग्रहण भारत में ज्यादातर हिस्सों में आंशिक रूप से दिखाई देगा। सबसे पहले अरुणाचल प्रदेश में पूर्ण चंद्र देखने को मिलेगा। भारत में ग्रहण दिखाई देने के कारण इसका सूतक काल मान्य होगा। ग्रहण से 09 घंटे पहले सूतक काल लग जाएगा। वहीं दोपहर 1.31 बजे से चंद्र ग्रहण शुरू हो गया है। अभी ये उपछाया ग्रहण है, जिसमें चंद्रमा धुंधला दिखाई देता है, घटता नहीं है। 2.38 बजे से आंशिक ग्रहण दिखने लगेगा, जिसमें चंद्रमा घटना शुरू होगा। 3.46 से 5.11 बजे तक पूर्ण चंद्र ग्रहण दिखेगा। भारत में भी 4.23 से ईटानगर और कोहिमा में पूर्ण ग्रहण दिखने लगेगा। यहां 5.11 से 6.19 तक आंशिक ग्रहण दिखेगा।

Chandra Grahan 2022: When and where will the lunar eclipse be visible in  India Know the timing and precautions of Sutak Kal - Chandra Grahan 2022:  आज देश में कब और कहां

अगले साल 2023 में कुल चार ग्रहण होंगे। इनमें दो सूर्य और दो चंद्र ग्रहण रहेंगे, लेकिन देश में सिर्फ एक आंशिक चंद्र ग्रहण ही दिखेगा। इसलिए, आज चंद्र ग्रहण देखने का मौका न छोड़ें। ये ग्रहण चंद्रोदय के साथ ही दिखने लगेगा।अगले साल 20 अप्रैल को सूर्य ग्रहण होगा। 5 मई 2023 को उपच्छाया चंद्र ग्रहण होगा, इसकी धार्मिक मान्यता नहीं है। 14 अक्टूबर को सूर्य ग्रहण होगा। ये तीनों ग्रहण भारत में नहीं दिखेंगे। 28 अक्टूबर को आंशिक चंद्र ग्रहण रहेगा। ये देश में दिखेगा । चंद्र ग्रहण सीधे नग्न आंखों से देख सकते हैं। अगर ज्यादा करीब से ग्रहण देखना है तो टेलिस्कोप, बाइनोक्युलर से देख सकते हैं। जिन जगहों पर पूर्ण चंद्र ग्रहण है, वहां ये लाल दिखेगा।

धार्मिक कार्य रहेंगे वर्जित

पूजा-पाठ: तुलसी पत्तों का इस्तेमाल करें, रखें याद - Grehlakshmi

ग्रहण का सूतक चल रहा है। चंद्र और सूर्य ग्रहण के 9 घंटे पहले इसका सूतक शुरू हो जाता है। इस दौरान कोई धार्मिक कार्य नहीं किया जाता है। मंदिरों में पूजा नहीं होती। घर में भी पूजन-पाठ नहीं किए जाते हैं। खाने की चीजों में तुलसी पत्र डालकर रखे जाते हैं।  वही मान्यता हैं कि सूतक और ग्रहण ग्रहण के समय में पूजा-पाठ नहीं कर सकते, लेकिन मंत्र जप और दान-पुण्य जरूर करना चाहिए।

ग्रहण खत्म होने के बाद करें कार्तिक पूर्णिमा का दीपदान

Kartik Purnima 2021: इस दिन लगाएं पुण्य की डुबकी, जानें कार्तिक पूर्णिमा की  तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व | TV9 Bharatvarsh

कार्तिक पूर्णिमा का दीपदान करना चाहते हैं तो ग्रहण खत्म होने का इंतजार करें। ग्रहण खत्म के बाद स्नान करें, घर में गौमूत्र या गंगाजल का छिड़काव करें। इसके बाद दीपदान करें।

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Recent News

Related News