जानें क्यों मनाई जाती है शारदीय नवरात्रि? क्या है इसके पीछे की पौराणिक मान्यता

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp

स्वदेश डेस्क ( पूजा सेन)- आस्था का महापर्व शारदीय नवरात्रि की शुरूआत होने वाली है। पंचांग के मुताबिक , इस साल 26 सितंबर से शारदीय नवरात्रि का आरंभ हो रहा है। जो की 26 सितंबर से शुरू होकर 04 अक्टूबर तक रहेगा। वहीं 05 अक्टूबर को दशहरा है। नवरात्रि के नौ दिनों तक मां जगदंबे के नौ अलग-अलग स्वरूप की पूजा की जाती है। भारत में नवरात्रि का त्योहार सदियों से मनाया जा रहा है। देश के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग तरीकों से नवरात्रि के पर्व को मनाया जाता है। जैसा की हम सब जानते है कि नवरात्रि के पहले दिन घटस्थापना की जाती है। कहीं कहीं कुछ लोग पूरी रात गरबा और आरती कर नवरात्रि मनाते हैं, तो वहीं कुछ लोग व्रत और उपवास रख मां दुर्गा और उनके नौ स्वरूपों की पूजा करते हैं। लेकिन बहुत कम लोगों को ही मालू्म है कि शारदीय नवरात्रि का पर्व क्यों मनाया जाता है आज हम आपको बताने वाले इसे मनाने के पीछे की वजह और इसके पीछे की पौराणिक मान्यता…

ये भी पढ़ें:  आज नवरात्रि के पांचवें दिन करें देवी स्कंदमाता की पूजा, होगीं सभी मनोकामना पूर्ण

महिषासुर के वध से जुड़ी है शारदीय नवरात्रि की कहानी

वैसे तो नवरात्रि का पर्व मनाए जाने के पीछे कई तरह की मान्यता है। लेकिन एक पौराणिक मान्यता के अनुसार, महिषासुर नाम का एक राक्षस था। ब्रह्मा जी से अमर होने का वरदान पाकर वह देवताओं को सताने लगा था। महिषासुर के अत्याचार से परेशान होकर सभी देवता शिव, विष्णु और ब्रह्मा के पास गए। इसके बाद तीनों देवताओं ने आदि शक्ति का आवाहन किया। भगवान शिव और विष्णु के क्रोध व अन्य देवताओं से मुख से एक तेज प्रकट हुआ, जो नारी के रूप में बदल गया। अन्य देवताओं ने उन्हें अस्त्र-शस्त्र प्रदान किए। इसके बाद देवताओं से शक्तियां पाकर देवी दुर्गा ने महिषासुर को ललकारा। महिषासुर और देवी दुर्गा का युद्ध शुरू हुआ, जो 9 दिनों तक चला। फिर दसवें दिन मां दुर्गा ने महिषासुर का वध कर दिया। मान्यता है कि इन 9 दिनों में देवताओं ने रोज देवी की पूजा-आराधना कर उन्हें बल प्रदान किया। तब से ही नवरात्रि का पर्व मनाने की शुरुआत हुई।

ये भी पढ़ें:  आज नवरात्रि के पांचवें दिन करें देवी स्कंदमाता की पूजा, होगीं सभी मनोकामना पूर्ण

भगवान राम से भी जुड़ी है मान्यता

नवरात्रि की एक कथा प्रभु श्रीराम से भी जुड़ी है। कहा जाता है कि माता सीता को रावण के चंगुल से छुड़ाने और रावण पर विजय पाने के लिए श्री राम ने देवी दुर्गा का अनुष्ठान किया। ये अनुष्ठान लगातार 9 दिन तक चला। अंतिम दिन देवी ने प्रकट होकर श्रीराम को विजय का आशीर्वाद दिया। दसवें दिन श्रीराम ने रावण का वध कर दिया। प्रभु श्रीराम ने आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से नवमी तक देवी की साधना कर दसवें दिन रावण का वध किया था। तभी से हर साल नवरात्रि का पर्व मनाया जाता है।

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Recent News

Related News