Home धर्म हरिद्वार कुंभ 2021: निकली शंकराचार्य स्वरूपानंद की मंगल यात्रा, छावनी में करेंगे...

हरिद्वार कुंभ 2021: निकली शंकराचार्य स्वरूपानंद की मंगल यात्रा, छावनी में करेंगे प्रवेश

9
0

हरिद्वार। जगद्गुरु शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती शंकराचार्य नगर स्थित अपनी छावनी में प्रवेश करेंगे। छावनी तक उनकी प्रवेश मंगल यात्रा निकाली जा रही है। ज्योतिष, द्वारका एवं शारदा पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती दो अप्रैल की शाम हरिद्वार पहुंचे थे। तभी से कनखल स्थित ज्योतिष मठ में प्रवास पर हैं। गुरुवार को शंकराचार्य बैंड बाजों के साथ नीलधारा स्थित छावनी में प्रवेश करेंगे।


प्रवेश मंगल यात्रा परशुराम चौक से निकली। यात्रा परशुराम चौक से देवपुरा, तुलसी चौक, शिवमूर्ति, कोतवाली, हरकी पैड़ी, भीमगोड़ा होकर चंडी टापू नीलधारा स्थित श्री शंकराचार्य शिविर पहुंचेगी। कुंभ अवधि तक शंकराचार्य छावनी में ही रहेंगे और साधना करेंगे।


गंगोत्री एवं यमुनोत्री की छड़ पहुंची हरिद्वार 


ज्योतिष एवं द्वारका शारदा पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती की प्रवेश मंगल यात्रा के लिए गंगोत्री एवं यमुनोत्री की छड़ भी शामिल है। बुधवार को छड़ हरिद्वार पहुंच गई थी। श्रद्धालुओं ने छड़ के दर्शन कर स्वागत किया। 

शंकराचार्य की प्रवेश मंगल यात्रा, गंगोत्री के शीतकालीन पूजा स्थल मुखवा से मां गंगोत्री की छड़ और यमुनोत्री के शीतकालीन पूजा स्थल खरसाली से मां यमुना की दिव्य छड़ बुधवार को भूपतवाला स्थित हरि कृष्ण धाम पहुंची थी। कृष्ण धाम के परमाध्यक्ष, बदरीनाथ एवं केदारनाथ के तीर्थ पुरोहितों के अलावा स्थानीय लोगों ने छड़ का स्वागत किया।

शंकराचार्य स्वरूपानंद के प्रतिनिधि शिष्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने बताया कि पहली बार कुंभ पर्व में शंकराचार्य की प्रवेश मंगल यात्रा में गंगा और यमुना छड़ शामिल हो रही है। बदरीनाथ-केदारनाथ, गंगोत्री-यमुनोत्री के तीर्थ पुरोहित भी प्रवेश मंगल यात्रा में शामिल रहे। प्रवेश मंगल यात्रा में चकराता जौनसार की पारंपरिक वाद्य यंत्रों की टोली भी शामिल रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here