Home धर्म नजर दोष हो या लंबे समय से कोई बीमारी, होलिका दहन पर...

नजर दोष हो या लंबे समय से कोई बीमारी, होलिका दहन पर करें ये उपाय

35
0

होलिका दहन को बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक के तौर पर मनाया जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार इस अग्नि में सच्चे मन से भगवान विष्णु की भक्ति करने वाला पह्लाद बच गया था और बुरे इरादे से अग्नि में बैठी वरदान प्राप्त होलिका जल गई थी। होलिका दहन और दीवाली की रात- ये कुछ ऐसे विशेष अवसर होते हैं जब छोटे-छोटे उपाय भी सार्थक हो जाते हैं। ऐसे में अगर आपके घर में कोई लंबे समय से बीमार हो, नजर दोष की समस्या हो या फिर आर्थिक परेशानी, हर तरह की समस्या के समाधान के लिए आप होलिका दहन के दिन इन उपायों को आजमा सकते हैं।

होलिका दहन पर करें ये अचूक उपाय

(1) अगर पैसों से जुड़ी समस्या हो तो कमल गटटे् की माला से- ओम् महालक्ष्म्यै नम:- इस मंत्र का जाप करें और फिर यही माला धारण करके होलिका के निकट देसी घी का दीपक जलाएं और आर्थिक संपन्नता की प्रार्थना करें, शीघ्र लाभ होने की उम्मीद है। ओम् श्रीं हृीं श्रीं महालक्ष्मय नम: इस मंत्र को 108 बार पढ़ते जाएं और शक्कर की आहुति होलिका की अग्नि में देते जाएं। इससे भी धन वृद्धि होगी।

(2) यदि आपके घर में कोई लंबे समय से बीमार है या दवा काम नहीं कर रही है तो एक मु_ी पीली सरसों, एक लौंग, काला तिल, एक छोटा टुकड़ा फिटकरी, एक सूखा नारियल लेकर बीमार व्यक्ति के सिर पर से 7 बार घुमाकर होलिका की अग्नि में डाल दें। ऐसा करने से लाभ होगा।

(3) दुकान, ऑफिस, फैक्ट्री या मकान में अगर अक्सर चोरी की घटना होती हो, बार-बार मेहनत करने के बाद भी नुकसान ही हो रहा हो तो एक सूखा नारियल और तांबे का पैसा घर या दूकान में सात बार चारों कोनों में घुमाकर होलिका की अग्नि में डाल दें।

(4) दांपत्य जीवन में मिठास लाने के लिए रुई की 108 बत्तियां देसी घी में भिगोकर होलिका की अग्नि में एक-एक करके परिक्रमा करते हुए डालें और इस दौरान दांपत्य जीवन में सुधार की कामना भी करते जाएं।

(5) अगर आपको लगता है कि बच्चे को किसी की नजर लग गई है तो देसी घी में भीगे 5 लौंग, 1 बताशा, 1 पान का पत्ता होलिका दहन में अर्पित करें। दूसरे दिन होलिका की राख लेकर किसी पोटली या धागे में बांधकर बच्चे को पहना दें।

(6) अगर आपके व्यापार में लगातार घाटा हो रहा है, आर्थिक हानि का सामना करना पड़ रहा है तो होलिका दहन की शाम को दुकान या मकान के मुख्य द्वार की चौखट पर गुलाल छिड़कें, उस पर आटे का बना चार मुखी दीपक जलाएं और फिर उस दीपक को जलती हुई होलिका की अग्नि में डाल दें।

  • ज्योतिर्विद मदन गुप्ता सपाटू
Previous articleपूरे महाराष्ट्र में लग सकता है लॉकडाउन, अजीत पवार बोले- पहले 2 अप्रैल तक देखेंगे हालात
Next articleसूर्य और चंद्रमा के अंक से होली का उत्सव बनेगा खास, आत्मा और मन को देगा बल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here