Home धर्म हरिद्वार में निरंजनी अखाड़े के सचिव समेत 34 संत कोरोना संक्रमित

हरिद्वार में निरंजनी अखाड़े के सचिव समेत 34 संत कोरोना संक्रमित

49
0

हरिद्वार। कुंभनगरी हरिद्वार में कोरोना संक्रमण तेजी से पैर पसार रहा है। अखाड़ों के संत-महात्मा लगातार संक्रमित होते जा रहे हैं। शुक्रवार को निरंजनी अखाड़े के सचिव रविंद्र पुरी समेत करीब 34 संत संक्रमित मिले। अब तक अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि समेत करीब 83 से अधिक संत-महात्मा कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। इसके अलावा जिले में 592 और मेला क्षेत्र में 101 में कोरोना की पुष्टि हुई है। एक से 15 अप्रैल के बीच कुंभ मेला क्षेत्र में 1218 लोग संक्रमित मिले, जबकि इस अवधि में जिले में यह संख्या 4523 रही। अखाड़ों के 500 से अधिक साधु-संतों सहित 20,110 की कोविड जांच रिपोर्ट अभी लंबित है।

स्वास्थ्य विभाग के यह आंकड़े हरिद्वार की स्थिति की भयावहता बताने के साथ ही डरा रहे हैं। बढ़ते कोरोना मरीजों की जांच को व्यवस्था पूरी नहीं पड़ रही है। उच्च न्यायालय के आदेशानुसार स्वास्थ्य विभाग हरिद्वार में रोजाना 50 हजार कोविड जांच ही नहीं कर पा रहा। 10 अप्रैल से अखाड़ों में कोरोना संक्रमण तेजी से फैलने लगा। 14 अप्रैल को जूना, निरंजनी, आह्वान और नाथ संप्रदाय के नौ, 15 अप्रैल को जूना निरंजनी और आह्वान के नौ संत संक्रमित पाए गए, जबकि 16 अप्रैल को निरंजनी अखाड़े के 34 संतों के कोरोना संक्रमित होने की सूचना मिली। इससे पहले 10, 11, 12 और 13 अप्रैल को विभिन्न अखाड़ों के 31 संत कोरोना संक्रमित पाए गए थे।

स्वास्थ्य विभाग ने पंचायती अखाड़ा में की संतों की जांच

कुंभ के दौरान संतों के कोरोना संक्रमित मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने अकबरपुर ऊद गांव स्थित श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन में संतों की कोरोना जांच की। जांच के दौरान कोई संत संक्रमित नहीं मिला। शुक्रवार को सीएचसी के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. अनिल वर्मा के निर्देश पर विभाग की एक टीम अकबरपुर ऊद गांव स्थित पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन आश्रम में पहुंची और संतों की एंटीजन जांच की। चिकित्सा अधीक्षक डॉ. अनिल वर्मा ने बताया कि एंटीजन जांच में सभी संतों की कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है।

डॉ. अर्जुन सिंह सेंगर (मेलाधिकारी, स्वास्थ्य) ने कहा कि मेला क्षेत्र में 101 पॉजिटिव मामले आए हैं। इनमें निरंजनी अखाड़े के सचिव श्रीमहंत रविंद्र पुरी समेत 22 संत पॉजिटिव आए हैं। वहीं श्री पंच दिगंबर निर्वाणी अणि अखाड़े के चार और जूना अखाड़े के दो संतों में भी कोरोना की पुष्टि हुई है। जूना अखाड़े के संत कोरोना जांच कराने से बच रहे हैं। संतों से लगातार जांच कराने का आग्रह किया जा रहा है। सैंपलिंग की रफ्तार और तेज की जाएगी।
डॉ. एसके झा (सीमएओ, हरिद्वार) ने कहा कि जिले में शुक्रवार को 592 पॉजिटिव केस आए। इनमें जूना अखाड़े के चार, निर्मल के एक और श्री दिगंबर पंच निर्मोही अणि अखाड़ा के एक संत शामिल हैं। वहीं शिवालिक नगर सात मामले सामने आए हैं। जिले में एक्टिव कंटेनमेंट जोन की संख्या छह है। शुक्रवार को 26025 व्यक्तियों के सैंपल लिए गए। सीसीसी में 443 और होम आइसोलेशन में 618 व्यक्ति हैं। जिले में सक्रिय केस की संख्या 1259 है।

Previous articleमहामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि ने कहा- बैरागी अणिया 27 अप्रैल का शाही स्नान करेंगी, बाकी अखाड़े प्रतीकात्मक होंगे शामिल
Next articleबंगाल चुनाव : प्रधानमंत्री ने कहा- दो मई को जनता दीदी को दे देगी पूर्व सीएम का प्रमाण पत्र

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here