अगले महीने की 8 तारीख को पूर्णिमा पर अगहन मास होगा समाप्त

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp

अगहन महीना श्रीकृष्ण के भक्तों के लिए खास महत्व रखता है। इस महीने का कृष्ण पक्ष बीत चुका है। अगर इस समय महीने में अब तक श्रीकृष्ण के पौराणिक मंदिर में दर्शन-पूजन नहीं किया है तो 8 दिसंबर तक कर सकते हैं। 8 तारीख को इस महीने की पूर्णिमा है, तब तक अलग-अलग दिनों में सीता-राम, शिव जी, दत्तात्रेय भगवान की पूजा के लिए खास तिथियां रहेंगी। इन तिथियों पर अपने आराध्य देव की पूजा करके और दान-पुण्य करके अक्षय पुण्य कमाया जा सकता है। बता दें कि आज से यानि कि 24 नवंबर से अगहन महीने का शुक्ल पक्ष शुरू हो गया हैं । और अगले महीने की 8 तारीख को ये महीना खत्म हो जाएगा । इस दिन किसी पवित्र तीर्थ में दर्शन-पूजन करें। किसी नदी में स्नान करें और स्नान के बाद नदी किनारे ही दान-पुण्य करें।

Janmashtami 2019: secret of Lord Krishna's birth | जन्माष्टमी तो मना लिये  लेकिन क्या आपको पता है भगवान श्रीकृष्ण का ये कौन सा जन्मदिन था? | Patrika  News

वहीं 27 नवंबर को गणेश चतुर्थी के बाद 28 तारीख को विवाह पंचमी है। त्रेता युग में इसी तिथि पर श्रीराम और सीता जी का विवाह हुआ था। श्रीराम-लक्ष्मण ऋषि विश्वामित्र के साथ जनकपुरी पहुंचे थे, उस समय वहां सीता जी का स्वयंवर हो रहा था। स्वयंवर में श्रीराम ने धनुष तोड़ा और फिर सीता जी का विवाह श्रीराम से हुआ था।

Lord Vishnu Facts: Name, Wife, Avatars, and Lord Shiva - HindUtsav

3 दिसंबर को गीता जयंती है। इस दिन भगवान विष्णु, श्रीकृष्ण और गीता जी पूजा करनी चाहिए। त्रेतायुग में इसी तिथि पर भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को गीता का उपदेश दिया था। इसी वजह से इस दिन गीता जयंती मनाई जाती है। इस दिन गीता का जरूर करें। गीता में बताए गए सूत्रों को जीवन में उतारेंगे तो कई समस्याएं आसानी से दूर हो जाएंगी।

कर्म सिद्धांत को देख भावुक हुई माता पार्वती । Shiv Parvati Story In Hindi -  wartmaansoch

शिव जी और देवी पार्वती की पूजा का शुभ योग 5 दिसंबर को बन रहा है। इस दिन सोमवार भी है। तिथि और वार दोनों ही शिव जी की पूजा के लिए बहुत ही शुभ हैं। इसके बाद 7 तारीख को भगवान दत्तात्रेय की जयंती है। दत्तात्रेय भगवान को ब्रह्मा-विष्णु और महेश का स्वरूप माना जाता है।

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Recent News

Related News